12
December - 2017
Tuesday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

Archive for the ‘आपका शहर’ Category

download (7)नई दिल्ली। सांसदों और विधायकों पर चल रहे आपराधिक मामलों के निपटारे को लेकर केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. केंद्र सरकार ने इन मामलों को निपटाने के लिए एक साल तक 12 स्पेशल कोर्ट चलाने पर सहमति जताई है. इन स्पेशल कोर्ट में करीब 1571 आपराधिक केसों पर सुनवाई होगी. ये केस 2014 तक सभी नेताओं के द्वारा दायर हलफनामे के आधार पर हैं.

सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार इन केसों का निपटारा एक साल के अंदर किया जाना चाहिए. कानून मंत्री की ओर से दाखिल हलफनामे में इस बात की पुष्टि हुई है.

आपको बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान चुनाव आयोग ने दागी नेताओं पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की मांग की थी. जबकि केंद्र सरकार ने इसे खारिज करते हुए 6 साल की बैन को ही लागू रखने को कहा था.

गुजरात और हिमाचल चुनाव में वोटिंग से ठीक पहले सुप्रीम कोर्ट ने दागी नेताओं को करारा झटका देते हुए उनके खिलाफ चल रहे मामलों की सुनवाई जल्द पूरी करने के लिए स्पेशल फास्ट ट्रैक कोर्ट स्थापित करने का प्लान पेश करने को कहा था.

कोर्ट का आदेश था कि छह हफ्ते में सरकार अपना ड्राफ्ट प्लान कोर्ट को सौंपे, जिसमें फास्ट ट्रैक कोर्ट की संख्या और समय की जानकारी भी रहे, ताकि किसी भी दागी जनप्रतिनिधि के खिलाफ दाखिल मुकदमे का निपटारा साल भर के भीतर हो जाए.

आपको बता दें कि अभी हाल ही में आई एडीआर ने 4852 विधायकों और सांसदों के हलफनामे का अध्ययन करने के बाद यह रिपोर्ट प्रकाशित की थी. जिसमें दागी नेताओं को लेकर कई खुलासे हुए थे.

ये थीं रिपोर्ट की मुख्य बातें

-जिन 51 जनप्रतिनिधियों ने अपने हलफनामे में महिलाओं के खिलाफ अपराध की बात स्वीकार की है उनमें से 3 सांसद और 48 विधायक हैं.

-334 ऐसे उम्मीदवार थे जिनके खिलाफ महिलाओं के प्रति अपराध के मुकदमे दर्ज हैं, लेकिन उन्हें मान्यता प्राप्त राजनीतिक पार्टियों ने टिकट दिया था.

-हलफनामे के अध्ययन से यह बात सामने आई कि आपराधिक छवि वाले सबसे ज्यादा सांसद और विधायक महाराष्ट्र में हैं, जहां ऐसे लोगों की संख्या 12 थी. दूसरे और तीसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल और ओडिशा हैं.

मायावती को राज्यसभा पहुंचाने बसपा का नया प्लान, जानिए क्यों है मध्यप्रदेश टारगेट

Posted by mp samachar On December - 11 - 2017Comments Off on मायावती को राज्यसभा पहुंचाने बसपा का नया प्लान, जानिए क्यों है मध्यप्रदेश टारगेट

rw1128_2093015_835x547-mरीवा। बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के राज्यसभा जाने का रास्ता उत्तर प्रदेश में मिली करारी हार के बाद बाधित हुआ है। उनका कार्यकाल 2019 तक होने के बावजूद त्यागपत्र दिए जाने के बाद अब राज्यसभा जाने की राह मुश्किल हो रही है। रीवा में आयोजित पार्टी के जोन स्तरीय सम्मेलन में राज्यसभा सांसद एवं प्रदेश प्रभारी अशोक सिद्धार्थ ने कहा कि प्रदेश में 50 सीट से अधिक जीतने का टारगेट है। सभी 230 सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ेगी।

मध्यप्रदेश से ही टिकी उम्मीदें
नए प्लान में यदि पार्टी सफल हुई तो राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को मध्यप्रदेश से ही राज्यसभा भेजा जाएगा। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वह अपने-अपने बूथ पर पूरी ताकत के साथ काम करें और अधिक से अधिक सीट जिताने में सहयोग करें। उत्तर प्रदेश से लगे जिलों में पार्टी मजबूत स्थिति में है। अन्य जिलों में भी अच्छे प्रत्याशियों का चयन किया जाएगा। यह चुनाव प्रदेश की भाजपा सरकार के विदाई का है।

कमजोर बूथ पर सदस्य बढ़ाएं
विधानसभा के पूर्व प्रत्याशियों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से प्रदेश प्रभारी ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में जिन बूथों पर पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था, वहां पर सदस्यों की संख्या बढ़ाने के साथ ही नियमित कार्यक्रम आयोजित कर लोगों से संवाद स्थापित किए जाएं। पुराने नेताओं से भी कहा है कि वह फील्ड में निकलें और पार्टी के लिए समय देकर संगठन को मजबूत बनाएं।

15 जनवरी को प्रदेश भर में भव्य कार्यक्रम
बसपा का अगला बड़ा कार्यक्रम 15 जनवरी को प्रदेश भर में होगा। मायावती का इस दिन जन्मदिन भी है, इस कारण हर विधानसभा क्षेत्र में बड़े कार्यक्रम होंगे। संभाग स्तर पर कार्यक्रम की रूपरेखा बाद में तय की जाएगी। जहां पर पार्टी के बड़े नेताओं को पहुंचना है।

इन्होंने भी किया संबोधित
शहर के युवराज गार्डन में आयोजित जोन स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में प्रदेश प्रभारी के साथ ही सह प्रदेश प्रभारी अंतर सिंह राव, प्रदीप अहिरवार, रामलखन पटेल, प्रदेश अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद अहिरवार, जोनप्रभारी रामसखा वर्मा, विधायक शीला त्यागी, ऊषा चौधरी, पूर्व सांसद देवराज सिंह पटेल आदि ने संबोधित किया। सभी ने पूरी ताकत के साथ विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटने का आह्वान किया।

पुराने नेताओं को मिलेगी तरजीह
बसपा के पुराने नेताओं ने पार्टी को स्थापित करने में कड़ी मेहनत की थी। अब वह हासिए पर धकेल दिए गए हैं। पार्टी अब ऐसे नेताओं को तरजीह देकर उनकी ऊर्जा का इस्तेमाल करेगी। कुछ नेता भाजपा में चले गए हैं तो कुछ अब कांग्रेस में जाने की तैयारी कर रहे हैं, ऐसे में डैमेज कंट्रोल भी पार्टी के लिए जरूरी माना जा रहा है।

पटवारी भर्ती परीक्षा के पहले ही दिन, सर्वर डाउन होने से परीक्षार्थी परेशान

Posted by mp samachar On December - 9 - 2017Comments Off on पटवारी भर्ती परीक्षा के पहले ही दिन, सर्वर डाउन होने से परीक्षार्थी परेशान

the-first-day-of-the-Patwari-Recruitment-Examinationभोपाल। पटवारी भर्ती परीक्षा के पहले ही दिन अव्यवस्था की स्थिति बन गई। सुबह 9 बजे शुरू होने वाली पहले चरण की परीक्षा आधार लिंक न होने से तय समय पर शुरू नहीं हो पाई। परीक्षा केंद्रों के बाहर आधार लिंक कराने के लिए छात्रों की लाइन लगी रही।

ऑनलाइन परीक्षा में प्रवेश के लिए हर उम्मीदवार की बायोमेट्रिक मिलान और पहचान दर्ज करने के निर्देश केंद्रों को दिए गए हैं। बगैर आधार कार्ड और फिंगर प्रिंट मैचिंग के परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। लेकिन एक परीक्षार्थी को आधार लिंक कराने के बाद रजिस्ट्रेशन कराने में करीब 15 से 20 मिनट का वक्त लगा, जिससे बड़ी संख्या में छात्र केंद्रों के बाहर ही खड़े रह गए।

भोपाल के एक केंद्र पर सर्वर डाउन होने से परीक्षार्थी आक्रोशित हो गए। इसके बाद उन्होंने हंगामा करते हुए पत्थरबाजी की। छात्रों का कहना है कि कई जिलों से युवा यहां पहुंचे हैं, ऐसे में सुबह 9 बजे शुरू होने वाली परीक्षा अब भी शुरू नहीं हो पाई है। कोई भी अधिकारी इस बारे में कुछ नहीं बता रहा है, इससे वे और ज्यादा आक्रोशित हैं। जबलपुर के टेक्नीकल इंजीनियरिंग कॉलेज और ग्लोबल कॉलेज के बाहर विवाद की स्थिति बन गई। जब 9 बजे परीक्षा शुरू नहीं हुई तो छात्रों ने हंगामा शुरू कर दिया।

शिक्षा मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि तकनीकी समस्या की वजह से ऐसी स्थिति बनी है। आने वाले समय में निजी कंपनी की जगह खुद की परीक्षाएं करवाएंगे। उन्होंने कहा कि आधे घंटे में यह परीक्षा शुरू हो सकती है। व्यवस्था बनाने के लिए केंद्रों पर मौजूद अधिकारी तेजी के साथ काम कर रहे हैं। परीक्षार्थियों के आक्रोशित होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह स्वाभाविक है, लेकिन सब ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है।

रिकॉर्डतोड़ आवेदनों के चलते चर्चित हुई पटवारी भर्ती परीक्षा 29 दिसंबर तक लगातार चलेगी। कुल 9 हजार 235 पदों के लिए परीक्षा में करीब 10 लाख 20 हजार उम्मीदवार शामिल होंगे। जिनमें पीएचडी, एमबीए सहित इंजीनियरिंग के छात्र शामिल हैं। परीक्षा के लिए प्रदेश में कुल 85 केंद्र बनाए गए हैं।

प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) के मुताबिक परीक्षा ऑनलाइन होगी। उपलब्ध इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिहाज से उम्मीदवारों को बैच में बांट कर परीक्षा करवाई जा रही है। हर दिन औसतन 26 हजार उम्मीदवार पूरे प्रदेश से परीक्षा में शामिल होंगे।

खोजी कुत्तों ने खोला बाघ की मौत का रहस्य, 5 आरोपी गिरफ्तार

Posted by mp samachar On December - 8 - 2017Comments Off on खोजी कुत्तों ने खोला बाघ की मौत का रहस्य, 5 आरोपी गिरफ्तार

201712081252177224_5-accused-arrested-in-Tigers-death-case_SECVPFभोपाल। शहडोल वन वृत्त में 3 दिसम्बर की शाम को मृत में मिले बाघ की मौत का खुलासा हो गया है। वन विभाग के खोजी कुत्तों की मदद से यह खुलासा हुआ कि खेत में लगाए गए करंट के कारण बाघ की मौत हुई थी। 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

मामले में गिरफ्तार हुए आरोपियों के पास से पास से बाघ के दांत और बाल मिले हैं। करंट लगाने के तार और अन्य सामान को जब्त किया गया है। फिलहाल वन विभाग इस जांच में जुटी है कि कहीं इन आरोपियों के संबंध शिकारियों से तो नहीं है।

वन विभाग ने डॉग स्क्वॉड की ली थी मदद

शहडोल वन वृत्त के घुनघुटी रेंज में 3 दिसम्बर को एक बाघ मृत अवस्था में पाया गया था। बाघ का शव घुनघुटी रेंज की धौरई वीट में झांड़ियों में मिला था। शव की प्राथमिक जांच में करंट के कारण मौत का शक जाहिर किया गया था। बाघ की मौत की जांच के लिए वन विभाग ने डॉग स्क्वॉड की मदद ली थी।

जानवरों को रोकने के लिए छाया गया था करंट

दोनों खोजी कुत्ते गांव के दो घरों में रुके थे। वनविभाग के अमले ने जब घर में रहने वाले लोगों से पूछताछ की तो बाघ की मौत का सच सामने आया। इस मामले में 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि खेतों में जंगली सुअर और जानवरों को रोकने के लिए करंट बिछाया गया था।

करंट की चपेट में आने से बाघ की मौत

देर रात करंट की चपेट में आने से बाघ की मौत हो गई। तब पांचों आरोपियों ने बाघ के दांत और मूंछ के बाल काटकर बाघ को खेत से आधा किमी दूर जंगल की झाड़ियों में छुपा दिया था। वन विभाग की टीम को आरोपियों के घर से बाघ के दांत, बाल और करंट लगाने की खुटिया और जीआई तार कटिया मिली है।

विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज
वन विभाग की डीएफओ वाशु कनोजिया ने बताया कि इस मामले में पांचों आरोपियों के खिलाफ वन्य प्राणी अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। फिलहाल ये मामला करंट से मौत का लग रहा है, लेकिन इन आरोपियों के संबंध कहीं शिकारियों से तो नहीं, इसकी भी जांच पड़ताल की जा रही है।
वन विभाग बाघों की मौत पर नहीं लगा पाया रोक

गौरतलब है कि शहडोल वन वृत्त में 10 दिन पहले भी एक बाघ का शव मिला था। जिसकी मौत की गुत्थी अब तक नहीं सुलझी है, शहडोल वन सर्कल में बाघों का मूवमेंट लगातार हो रहा है, लेकिन वन विभाग बाघों की मौत नहीं रोक पा रहा है।

MP: बारात और ट्रैफिक के बीच फंसी रही एंबुलेंस, मासूम ने तोड़ा दम

Posted by mp samachar On December - 6 - 2017Comments Off on MP: बारात और ट्रैफिक के बीच फंसी रही एंबुलेंस, मासूम ने तोड़ा दम

दमोह। ट्रैफिक जाम में एम्बुलेंस के फंस जाने को लेकर मु्ख्यमंत्री से लेकर पुलिस प्रशासन हर कोई मानवता के नाते अपील करते हैं, ताकि जाम के समय एम्बुलेंस को निकलने दिया जाए। लेकिन दमोह में एक बारात की आतिशबाजी के बीच एक परिवार में मातम पसर गया।

काफी देर तक एम्बुलेंस के ट्रैफिक जाम में फंसे होने के कारण एक डेढ़ साल की बच्ची की मौत हो गई। सुप्रीम कोर्ट ने एंबुलेंस के लिए ‘रास्ते का अधिकार’ के स्पष्ट दिशा निर्देश दे रखे हैं। लेकिन इसके बावजूद कई ऐसे मामले सामने आते हैं जो मानवता को शर्मसार कर देते हैं।

बारात के ट्रैफिक में फंसी रही एंबुलेंस

दमोह में बारात निकल रही थी जिसकी वजह से सड़क पर जाम लग गया और इसमें एक एम्बुलेंस भी आधे घंटे तक फंस गई। एम्बुलेंस में एक डेढ़ साल की बच्ची थी जो गंभीर रूप से बीमार थी और उसे जिसे इलाज के लिए जिला चिकित्सालय ले जाया जा रहा था। बारात के ढोल-धमाकों के बीच एक एम्बुलेंस के ट्रैफिक जाम में फंस जाने से डेढ़ साल की बच्ची की मौत हो गई।

इलाज के अभाव में बच्ची ने दम तोड़
एक शादी की बारात के कारण एम्बुलेंस आधे घंटे तक जाम में फंसी रह गई और अस्पताल नहीं पहुंच सकी। जिसके कारण एक डेढ़ साल की मासूम एम्बुलेंस में इलाज के लिये तड़पती रही, लेकिन बारातियों का दिल नहीं पसीजा और बच्ची ने इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया।

पुलिस ने कहा, करेंगे कार्रवाई

मामले में आईजी का कहना है कि घटना का संज्ञान लिया है और इस पर कार्रवाई की जाएगी ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो।

उन्होंने कहा कि, ‘हम सुनिश्चित करेंगे कि भविष्य में ऐसे जुलूस के दौरान गाड़ियों और एम्बुलेंस को खुला रास्ता मिलें।’

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अंतर्गत 6 श्रवण बाधित बच्चों को श्रवण उपकरण प्रदाय

Posted by mp samachar On December - 5 - 2017Comments Off on राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अंतर्गत 6 श्रवण बाधित बच्चों को श्रवण उपकरण प्रदाय

download (1)आगर-मालवा स्थ्य विभाग द्वारा संचालित राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अंतर्गत मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना के तहत कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने श्रवण बाधित 6 बच्चे अर्पिता पिता मेहरबान निवासी शिवखेड़ी, कुलदीप पिता जगदीश निवासी चकवाड़ा, धीरज पिता लालसिंह निवासी करकड़िया, रानु पिता राजू मेवाड़ा निवासी किलोदा सुसनेर, पिता अनिल निवासी पचलाना, जीविका पिता विजय निवासी सोयत को श्रवण उपकरण (हियरिंग हेड) प्रदान किये। जिसका 6 माह उपयोग करने के पश्चात् इन बच्चों को अरविन्दों मेडिकल कॉलेज इन्दौर में सर्जरी हेतु भेजा जाएगा।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी. एस बारिया, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अरविन्द विश्नार, भारतीय रेडक्रास सोसाइटी आगर के नोडल अधिकारी डॉ. शशांक सक्सेना, आर बी एस के नोडल अधिकारी डॉ. जे सी परमार, जिला मलेरिया अधिकारी आर सी ईरवार, एवं आर बी एस के जिला समन्वयक मांगुसिंह पंवार आदि उपस्थित रहे।

मासूमों से रेप करने वाले पिशाच, फांसी पर लटका देना चाहिए: शिवराज

Posted by mp samachar On December - 5 - 2017Comments Off on मासूमों से रेप करने वाले पिशाच, फांसी पर लटका देना चाहिए: शिवराज

201712041729240317_CM-Shivraj-on-bill-awarding-hanged-till-death_SECVPFभोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा में सोमवार को दंड विधि (मध्य प्रदेश संशोधन) विधेयक सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। इस विधेयक में रेप के दोषियों को फांसी की सजा दिलाने का प्रावधान है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ‘बेटी जब तक पूरी तरह सुरक्षित नहीं होगी तब तक बोझ मानी जाएगी।’

इस विधेयक पर चर्चा के दौरान सीएम ने कहा कि ‘बढ़ते महिला अपराध एक चुनौती हैं, बेटी जब तक पूरी तरह सुरक्षित नहीं होगी तब तक बोझ मानी जाएगी। बेटियों की रक्षा के लिए कानून के साथ दूसरे उपाय भी जरूरी हैं।’

शिवराज सिंह ने कहा कि ‘जिसमें मानवीयता नहीं वह मानव नहीं माने जा सकते हैं। रेप करने वाले पिशाच होते हैं। बलात्कारियों को फांसी के फंदे पर लटका देना चाहिए।’ सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि ‘विधेयक को अनुमति मिले इसके लिए राष्ट्रपति से प्रयास करेंगे।’ उन्होंने कहा कि ‘मासूमों के साथ रेप करने वाले जीने लायक नहीं हैं।’

विधेयक में महिलाओं का पीछा करने को भी अपराध माना गया है। उन्होंने कहा कि ‘मौत के डर से अपराधी अपराध करने से बचेंगे।’ शिवराज सिंह ने खुले आसमान के नीचे भटकने वाली बच्चियों की सुरक्षा के इंतज़ाम की भी बात कही।

गीता के संस्थान में छात्राओं से छेड़छाड़, मुस्कुराते हुए बोले भार्गव- ‘जांच होगी’

Posted by mp samachar On December - 5 - 2017Comments Off on गीता के संस्थान में छात्राओं से छेड़छाड़, मुस्कुराते हुए बोले भार्गव- ‘जांच होगी’

201712051236557975_Case-file-in-Tukoganj-police-station_SECVPFभोपाल। इंदौर में जिस मूक बधिर संस्थान में गीता रह रही है, उसी संस्थान के टीचर के खिलाफ बालिकाओं से छेड़छाड़ के आरोप लगने के मामले में राज्य सरकार ने जांच के आदेश दिए हैं। सामाजिक न्याय मंत्री गोपाल भार्गव ने मुस्कुराते हुए कहा कि ये गंभीर विषय है। उन्होंने अधिकारियों से बात कर जांच रिपोर्ट मंगाई है।

इंदौर के सुदामानगर स्थित मूक बधिर संस्थान के टीचर गोपाल खेड़े पर दो मूक बधिर बालिकाओं ने छेड़छाड़ के आरोप लगाए हैं। गोपाल खेड़े उसी संस्थान के टीचर हैं, जिसमें पाकिस्तान से आयी गीता रहती है। हालांकि इस मामले में तुकोगंज थाना में मुकदमा दर्ज किया गया है। कुछ दिनों पहले तुकोगंज थाना में मूक बधिर संगठन के सेमीनार में ये मामला सामने आया था।

गीता के माता-पिता की तलाश में जुटे संगठन
इस मामले में ये भी आरोप लग रहे है कि पाकिस्तान से आयी गीता के नाम दो मूक बधिर संगठनों की खींचतान के कारण ये हालात बने हैं। बताया जा रहा है कि गीता को आश्रय देने वाले संगठन और गीता के माता-पिता की तलाश में जुटे संगठन में खींचतान के कारण ये सब स्थितियां निर्मित हुई हैं।

‘मामले को राज्य सराकर ने गंभीरता से लिया’
संस्थान का कहना है कि ‘टीचर पर छेड़छाड़ के आरोप झूठे हैं और इससे मध्यप्रदेश और भारत की छवि खराब हो रही है। शिक्षक गोपाल खेड़े पर पर छेड़छाड़ का आरोप साजिश के तहत संस्था की छवि बिगाड़ने के लिए लगाया गया है। क्योंकि लोग गीता को संस्थान से हटवाना चाहते है।’ वहीं इस मामले को राज्य सराकर ने गंभीरता से लिया है।

‘बच्चों से की जाएगी पूछताछ’
सामाजिक न्याय मंत्री गोपाल भार्गव का कहना है कि ‘वो जो संस्था है, जहां गीता को रखा गया है। उस संस्था के बारे में शिकायत आ रही है, तो ये गंभीर मसला है। क्योंकि विदेश मंत्री के आग्रह और निर्देश पर गीता को वहां रखा गया है। यदि वो संस्था या उसके कर्मचारी ऐसा आचरण करते है। तो ये दुखद है, हम एनजीओ का परीक्षण कराएंगे। वहां के अधिकारियों के निर्देश दिए जाएंगे कि बच्चों से जाकर पूछताछ करें, यदि शिकायत सच पायी जाती है, तो एनजीओ के खिलाफ निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी।’

छात्रावासों में स्‍वास्‍थ्‍य की जांच प्रति सप्‍ताह कराई जाएं – कलेक्टर

Posted by mp samachar On December - 4 - 2017Comments Off on छात्रावासों में स्‍वास्‍थ्‍य की जांच प्रति सप्‍ताह कराई जाएं – कलेक्टर

download (3)अशोकनगर जिले में संचालित छात्रावासों में छात्र-छात्राओं के स्‍वास्‍थ्‍य की जांच प्रति सप्‍ताह बुधवार को ए.एन.एम द्वारा तथा 15 दिन के अंतराल से पहले एवं तीसरे बुधवार को डॉक्‍टर द्वारा कराई जाए। इस आशय के निर्देश कलेक्‍टर श्री बी.एस. जामोद दवारा सोमवार को कलेक्‍ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित समय सीमा के लंबित पत्रों की विभागवार समीक्षा बैठक के दौरान व्‍यक्‍त किये। बैठक मे मुख्‍य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सुरेश कुमार शर्मा, अपर कलेक्‍टर श्री ए. के.चांदिल, अतिरि‍क्‍त मुख्‍य कार्यपालन अधिकारी श्री विशाल सिंह, समस्‍त एस.डी.एम. तहसीलदार, मुख्‍य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत, मुख्‍य नगरपालिका अधिकारी एवं जिला अधिकारी उपस्थित थे।
बैठक में कलेक्‍टर श्री जामोद ने निर्देशित किया कि सी.एम.हेल्‍पलाइन के अंतर्गत 300 दिवस से अधिक लंबित आवेदनों का निराकरण अविलंब किया जाए। साथ ही सी.एम. हेल्‍प लाईन की शिकायतों का विभागवार निराकरण तत्‍परता के साथ किया जाना सुनिश्चित किया जाए। विभागों में तत्‍संबंधी आवेदन लंबित न रहें इस पर विशेष ध्‍यान दिया जाए।
प्रतिभा पर्व का आयोजन 05 दिसम्‍बर से
बैठक में बताया गया कि जिले में शासन के निर्देशानुसार प्रतिभा पर्व का आयोजन 05 दिसम्‍बर से 07 दिसम्‍बर तक जिले के समस्‍त प्राथमिक एवं माध्‍यमिक शालाओं में किया जायेगा। प्रतिभा पर्व के दौरान बच्‍चों की शै‍क्षणिक उपलब्धियों एवं शिक्षण व्‍यवस्‍था, शाला संचालन, शालेय सुविधाओं आदि शिक्षा से संबंधित विभिन्‍न बिन्‍दुओं का मूल्‍यांकन किया जायेगा। प्रतिभा पर्व हेतु नियुक्‍त सत्‍यापनकर्ता अधिकारी द्वारा प्रत्‍येक शाला का सत्‍यापन कार्यशाला समय में उपस्थित होकर करेगें। कलेक्‍टर ने निेर्देशित किया कि प्रतिभा पर्व के आयोजन हेतु शासन के निर्देशानुसार समस्‍त आवश्‍यक व्‍यवस्‍थाएं पूर्ण की जाए।
आनंद उत्‍सव का आयोजन 14 जनवरी से
आनंद उत्‍सव का आयोजन 14 जनवरी से 21 जनवरी 2018 तक ग्रामीण/ नगरीय .क्षेत्रों में, 22 से 24 जनवरी 2018 तक विकासखण्‍ड स्‍तर पर आनंद उत्‍सव का आयोजन किया जायेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में पारम्‍परिक खेलकूद, सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों के साथ महिलाओं को जोडने पर विशेष ध्‍यान दिया जायेगा। आनंद उत्‍सव कार्यक्रम का संचालन विधिवत तरीके से कराये जाने हेतु प्रत्येक स्‍तर पर नोडल अधिकारी नियुक्‍त किये गये है।
मानव अधिकार दिवस का आयोजन 10 दिसम्‍बर को
बैठक में बताया गया कि आगामी 10 दिसम्‍बर 2017 को मानव अधिकार दिवस का आयोजन किया गया है। कलेक्‍टर ने जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी को निर्देशित किया कि वे मानव अधिकार दिवस के आयोजन के सफल संचालन हेतु सभी आवश्‍यकता व्‍यवस्‍थाएं जिला एवं विकासखण्‍ड स्‍तर पर कराया जाना सुनिश्चित करें।
कियोस्‍क सेंटर पर 06 सेवाएं उपलब्‍ध होगी
बैठक में जानकारी दी गई कि शासन के निर्देशों के अनुरूप ग्राम पंचायत स्‍तर पर संचालित सी.एस.सी.केन्‍द्रों पर ग्रामीणों को 06 सेवाएं प्रदान की जायेगी। इन सेवाओं में मूल निवासी, आय प्रमाण पत्र, राजस्‍व बटवारे के आदेश बटाकंन, अविवादित नामांतरण, अजाक्‍स थाने से संबंधित एफ.आई.आर की प्रति शामिल है।
सहरिया बाहुल्‍य ग्रामों में लगेगें शिविर
सहरिया आदिवासियों की समस्‍याओं के निराकरण के लिए जिले के समस्‍त विकासखण्‍डों में सहरिया बाहुल्‍य ग्रामों में शिविर लगाये जायेगें। इन शिविरों में अधिकारियों द्वारा पहुंचकर समस्‍याओं का निराकरण किया जायेगा।
बैठक में विधानसभा प्रश्‍नों के उत्‍तर, पी.जी.सेल, जनसुनवाई, स्‍वच्‍छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, विभागों के त्रैमासिक बजट की समीक्षा, स्‍वरोजगार योजना तथा दिसम्‍बर 2017 में सेवानिवृत होने वाले कर्मचारियों के पेंशन प्रकरणों के बारे में विस्‍तृत समीक्षा कर आवश्‍यक निर्देश दिए।

पुलिस और प्रशासन का जनसुनवाई कार्यक्रम 06 दिसम्बर को कराहल में

Posted by mp samachar On December - 4 - 2017Comments Off on पुलिस और प्रशासन का जनसुनवाई कार्यक्रम 06 दिसम्बर को कराहल में

download (2)आदिवासी विकासखण्ड कराहल मुख्यालय पर 06 दिसम्बर को पुलिस एवं प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से जनसुनवाई कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। यह जनसुनवाई कार्यक्रम कराहल थाना परिसर में प्रातः 11 बजे से आयोजित होगा जिसमें कलेक्टर श्री पीएल सोलंकी, पुलिस अधीक्षक डॉ. शिवदयाल सिंह सहित विभिन्न विभागो के अधिकारी उपस्थित रहेगे। जनसुनवाई कार्यक्रम के तहत मुख्य रूप से भूमि संबंधी समस्याओ का निराकरण करते हुए कब्जा दिलाने की कार्यवाही की जायेगी। इसके अलावा बिजली बिल, सार्वजनिक वितरण प्रणाली तथा सामाजिक सुरक्षा पेंशन सहित अन्य समस्याओ का निराकरण विभागीय अधिकारियो द्वारा किया जायेगा। कलेक्टर श्री पीएल सोलंकी ने समय सीमा की बैठक के दौरान अवगत कराया कि उक्त जनसुनवाई कार्यक्रम में भूमि पर कब्जा करने के मामलो में वास्तविक भू-स्वामीयो को कब्जा दिलाने की कार्यवाही की जायेगी। इस हेतु पूर्व से ही राजस्व अधिकारियो, पुलिस अधिकारियो तथा वन विभाग के अधिकारियो के दल गठित किये गये है। बैठक में पुलिस अधीक्षक डॉ. शिवदयाल सिंह, एसडीएम श्री आरबी सिन्डोस्कर एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
कलेक्टर श्री सोलंकी द्वारा बैठक के दौरान निर्देश दिये गये कि श्योपुर, कराहल एवं विजयपुर में स्थायी हेलीपेड निर्माण के लिए लोक निर्माण विभाग को दो-दो हैक्टेयर भूमि उपलब्ध कराने का प्रस्ताव संबंधित एसडीएम द्वारा भेजा जाये। जिससे भूमि आंवटित की जा सके। हेलीपेड निर्माण के लिए साढे सात-सात लाख रूपये की राशि स्वीकृत हुई है। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एनसी गुप्ता को निर्देश दिये कि 06 दिसम्बर को हिन्दु सम्मेलन आयोजन समिति के तत्वाधान में कराहल में आयोजित विशाल स्वास्थ्य शिविर का प्रचार-प्रसार कराया जाये जिससे अधिक से अधिक लोग शिविर का लाभ ले सके। उक्त शिविर में ग्वालियर सहित कोटा एवं सवाई माधोपुर के विशेषज्ञो द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण कर निशुल्क दवा दी जायेगी। उन्होंने कहा कि आगामी 10 दिसम्बर को अतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस के अवसर पर संगोष्ठी, रैली एवं कार्यशाला का आयोजन सुनिश्चित किया जाये। महिलाओ के अधिकार एवं मानव अधिकार पर निबंध प्रतियोगिता का आयोजन भी शिक्षा विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग के समन्वय से किया जाये।
उन्होने बडौदाराम, मिलावली, ननावद एवं गोहेडा में नवीन हाई स्कूल भवन निर्माण के लिए भूमि उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियो को दिये। सीएम हेल्पलाईन में दर्ज शिकायतो की समीक्षा के दौरान निर्देश दिये कि क्षत्रिय सीलिंग स्टेशन के लगभग 62 हजार रूपये के फ्यूल देयको के भुगतान हेतु महिला बाल विकास विभाग संचालनालय को बजट आवंटन के लिए पत्र लिखा जाये। इसी प्रकार जनपद पंचायत श्योपुर द्वारा गलत जवाब फीड करने पर शाखा प्रभारी को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये। इसी प्रकार ऋण प्रकरण के मामले में गलत जानकारी देने पर सेट्रल बैंक ऑफ इंण्डिया के शाखा प्रबंधक को नोटिस देने के निर्देश दिये। इस मामले में बताया गया है कि मुकेश बैनीवाल द्वारा शिकायत दर्ज कराई गई थी कि शिशुपाल निवासी हनुमानखेडा का डेयरी प्रकरण स्वीकृत नही किया जा रहा है जिस पर बैंक द्वारा जवाब दर्ज कराया गया कि उक्त शिकायतकर्ता का आवेदन प्राप्त नही हुआ है। जबकि पशुपालन विभाग द्वारा अवगत कराया गया कि प्रकरण बैंक को प्रस्तुत किया गया है। शिकायत में हितग्राही का नाम उल्लेख होने के बावजूद शिकायतकर्ता के नाम से प्रकरण प्राप्त नही होने संबंधी जवाब पर कलेक्टर श्री सोलंकी ने नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। बैठक से अनुपस्थित अक्षय उर्जा अधिकारी श्री भदौरिया को भी नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये है।
बालिका छात्रावासों में नही रहेगे पुरूष-पुलिस अधीक्षक
पुलिस अधीक्षक डॉ शिवदयाल सिंह ने समय सीमा की बैठक के दौरान आदिम जाति कल्याण विभाग, शिक्षा विभाग एवं सर्व शिक्षा अभियान के अधिकारियो को निर्देश दिये कि बालिका आश्रमो एवं छात्रावासो में कोई भी पुरूष नही रहेगे, चाहे वह अधीक्षिका अथवा अन्य महिला कर्मचारियों के परिजन ही क्यो न हो। उन्होने कहा कि निरीक्षण के दौरान ऐसा पाये जाने पर सख्त कार्यवाही की जायेगी।

top इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा दुष्कृत्य निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी प्रदेश बधाई बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल मंत्रालय मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी मध्यप्रदेश मनरेगा मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विकास विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सहकारिता सीहोर स्वास्थ्य हत्या