19
October - 2017
Thursday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

Archive for the ‘आपका शहर’ Category

जो सीनियरिटी की बात कर रहे हैं वो पहले अपना ट्रैक रिकार्ड देख लें – गुप्ता

Posted by mp samachar On October - 18 - 2017Comments Off on जो सीनियरिटी की बात कर रहे हैं वो पहले अपना ट्रैक रिकार्ड देख लें – गुप्ता

nk_gupta_17_10_2017ग्वालियर। सुबह से सभी लोग सीनियर -जूनियर का हल्ला मचा रहे हैं। एक बार भी मेरा ट्रैक रिकार्ड नहीं देखा । यह कोई सरकारी नौकरी नहीं है कि सीनियरिटी के मान से प्रमोशन मिलता। जिनको मेरी नियुक्ति से दिक्कत है वो सुप्रीम कोर्ट में रिट लगा दें। मैं 1977 से लॉ के क्षेत्र में काम कर रहा हूं। जितने क्रिमनल केस मैंने अपने कार्यकाल में निपटाए हैं वो अपने आप में एक अचीवमेंट है। लोकायुक्त संस्थान में भी ऐसा ही जज चाहिए जो दांडिक अनुसंधानों को पकड़ सके।

अपनी नियुक्ति पर मच हंगामे के बाद यह बात प्रदेश के नव नियुक्त लोकायुक्त और हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच से रिटायर हुए जस्टिस नरेश कुमार गुप्ता (एनके गुप्ता) ने नईदुनिया से खास मुलाकात में कही। पेश है बातचीत के संपादित अंश।

क्या योग्यता के ऊपर वरिष्ठता महत्व रखती है?

प्र. आपको कब पता चला कि आपकी नियुक्ति की जा रही है।

उ. देखिए लोकायुक्त नियुक्त करने की एक प्रक्रिया है कि जो भी सुप्रीम कोर्ट का जज हो, हाईकोर्ट का चीफ जस्टिस हो या फिर हाईकोर्ट का ही जज रहा हो उसका पैनल में नाम होता है उसमें से चयन हो जाता है। मान लीजिए सुप्रीम कोर्ट के जज को सिलेक्ट किया जा रहा है तो उनकी सीनियरिटी को कौन चेलेंज करेगा। इस बार जो उपलब्ध नाम थे उसमें से चीफ जस्टिस साहब को जो सबसे उपयुक्त नाम लगा उस नाम को उन्होंने आगे बढ़ा दिया। मैं तो सिलेक्टेड आदमी हूं सरकार जाने उन्होंने मुझे क्यों सिलेक्ट किया। यह वह जाने उन्होंने क्या देखा क्या नहीं देखा।

प्र. आपको क्या लगता है आपका नाम ही क्यों सिलेक्ट हुआ

उ. मैंने सात साल में हाईकोर्ट में रहते हुए जो काम किया है सिलेक्शन कमेटी ने जरूर उस पर नजर डाली होगी। सात साल दो माह में मैंने 48550 केस निपटाए हैं। उसमें से 40 हजार फौजदारी के केस हैं। लोकायुक्त संस्थान में ऐसा ही जज चाहिए जो दांडिक मामलों की अनुसंधान को पकड़ सके। अब जो अपने आप को वरिष्ठ क्लेम कर रहे हैं वो बता दें उन्होंने अपने कार्यकाल में कितने फौजदारी केस निपटाए, प्रतिवर्ष कितने निपटाए। मैं नहीं चाहता था कि मैं अपने साथी की गुणवत्ता पर सवाल उठाऊं। लेकिन मैंने डेढ़ सालों में 200 क्रिमिनल अपीलें निपटाई हैं। केस निपटाने का मेरा औसत राष्ट्रीय औसत से दोगुना है। अगर गुणवत्ता नहीं देखी जानी है तो फिर मैं क्या कह सकता हूं। मैं 1977 में एडवोकेट था उसके बाद से लगातार मैं काम करता रहा हूं । उज्जैन में कुछ स्पेशल केस निपटाए हैं। सवाल यह है कि क्या योग्यता के ऊपर वरिष्ठता मायने रखती है।

प्र. क्या आपको अनकंफर्टेबल फील हो रहा है आपकी नियुक्ति पर विवाद हो रहा है। आपकी सीनियरिटी पर सवाल उठाए जा रहे हैं?

उ. जूनियर सीनियर से क्या होगा। यह कोई सरकारी नौकरी है क्या कि नीचे वाले का पहले प्रमोशन कर दिया ऊपर वाले का बाद में किया । लोकायुक्त अपने आप में एक अलग सिस्टम है। सिर्फ यह एक क्राइटेरिया बस है। रिटायर्ड हाईकोर्ट जजेस के बीच में सीनियर-जूनियर का क्या मतलब, इसमें आपको सुसंगति दिखती है क्या ।

प्र. पर कुछ लोग बोल रहे हैं कि परम्परा तोड़ दी है।

उ. परम्परा कहां है? जो बोल रहे हैं वो रिट लगा ले ना। अभी तक सरकार को रिटायर चीफ जस्टिस या सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस के स्तर के लोग मिलते रहे इसलिए वो लोकायुक्त बनते रहे । इस बार उन्हें नहीं मिले इसलिए जो उपलब्ध नाम थे उनमें से सिलेक्ट किया गया है। नावलेकर साहब को एक्सटेंशन दिया क्योंकि लोग ही नहीं मिल रहे थे।

प्र. आप मप्र के विधिक सलाकार भी रहे हैं, अभियोजन की स्वीकृति जो अटकती हैं उनके पीछे आप क्या कारण मानते हैं?

उ. देखिये जब मैं विधिक सलाहकार था तब से अब तक अभियोजन की स्वीकृित के नियमों में बदलाव आया है। पहले विधि विभाग के पास सारी फाइलें आती थी अब संबंधित विभाग का हेड ही स्वीकृति देने के लिए अधिकृत कर दिया गया है। शपथ लेने के बाद मैं इसका रिव्यू करूंगा।

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की चित्रकूट में प्रतिष्ठा दांव पर, प्रत्याशी के चार दावेदार

Posted by mp samachar On October - 16 - 2017Comments Off on नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की चित्रकूट में प्रतिष्ठा दांव पर, प्रत्याशी के चार दावेदार

ajay_singh_bhopal_भोपाल। सतना जिले की चित्रकूट विधानसभा सीट पर होने जा रहे उपचुनाव की तारीख घोषित होने के बाद कांग्रेस में प्रत्याशी चयन को लेकर हलचल तेज हो गई है। दिवंगत विधायक प्रेमसिंह के रिश्ते के दामाद सहित चार नेता दावेदार हैं, लेकिन मजबूत दावेदारी दो नेताओं की मानी जा रही है।

चित्रकूट विधानसभा क्षेत्र में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह के प्रभाव वाला इलाका होने से उनकी प्रतिष्ठा दांव पर है। यहां सोमवार से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी, जिसका 24 को अंतिम दिन है। कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में क्षेत्र के चार लोगों के नाम चर्चा में हैं, जिनमें दिवंगत विधायक के दामाद संजय कछवाय सहित नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष नीलांशु चतुर्वेदी, जिला पंचायत सदस्य नीता सिंह पंवार और जिला कांग्रेस के महामंत्री कमलेश मिश्रा शामिल हैं।

कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में संजय कछवाय को सहानुभूति वोट के कारण सबसे सशक्त दावेदार माना जा रहा है। मगर नगर पालिका चित्रकूट की अध्यक्ष प्राची के भाई और नपा के पूर्व अध्यक्ष नीलांशु चतुर्वेदी की दावेदारी भी मजबूत है। नपा अध्यक्ष के नाते उनके द्वारा क्षेत्र में किए गए काम को आधार बताते हुए वे दावेदारी कर रहे हैं। माना जा रहा है कि भाजपा प्रत्याशी का ऐलान होने के बाद कांग्रेस अपना प्रत्याशी घोषित करेगी। सूत्र बताते हैं कि प्रत्याशी तय करने में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की भूमिका अहम होगी।

मुंगावली में भी तैयारियां

दिवंगत विधायक महेंद्र सिंह कालूखेड़ा के कारण रिक्त हुई मुंगावली विधानसभा सीट को लेकर भी कांग्रेस सक्रिय है। हालांकि अभी यहां उपचुनाव की तारीख घोषित नहीं हुई है, लेकिन दावेदारों की क्षेत्र में सक्रियता बढ़ गई है। कालूखेड़ा के भाई केके सिंह सहित सांसद प्रतिनिधि डॉ. केपी यादव, जिला किसान कांग्रेस के बृजेंद्र सिंह यादव व सरपंच-मंडी के डायरेक्टर नरेंद्र सिंह यादव प्रमुख दावेदार हैं।

शहर में धनतेरस के लिए 200 दो पहिया वाहनों की बुकिंग, बाजार में ग्राहकी शुुरू

Posted by mp samachar On October - 16 - 2017Comments Off on शहर में धनतेरस के लिए 200 दो पहिया वाहनों की बुकिंग, बाजार में ग्राहकी शुुरू

imagesशहर में धनतेरस को लेकर बाजार में रौनक आ गई है। ऑटो मोबाइल बाजार में धनतेरस को लेकर वाहनों की खूब बुकिंग कराई जा रही है। ऑटो मोबाइल विक्रेता के मुताबिक शहर के सभी शो रूम पर करीब 200 से अधिक दोपहिया वाहनों की बुकिंग धनतेरस के लिए की जा चुकी है। वहीं इससे भी अधिक साढ़े तीन सौ वाहनों की बिकने की उम्मीद जताई जा रही है। वहीं दीपावली को लेकर शहर का बाजार भी सजने लगा है। रविवार को दीपावली का अाखिरी बाजार होने से भी भीड़ लगी हुई थी। इसके अलावा बर्तन,कपड़ा, इलेक्ट्रॉनिक्स, सोना-चंदी सभी की खासी पूछपरख बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है।

बर्तनों का बढ़ा स्टाक

शहर में बर्तन की करीब दस दुकानें हैं और धनतेरस पर बर्तनों की बड़ी मात्रा में खरीदी की जाती है। इसको लेकर दुकानों पर बर्तनों का व्यापारियों ने स्टॉक कर लिया है। महामाया चौक पर बर्तन की दुकान चलाने वाले अरविंद ताम्रकार बताते हैं कि शहर में धनतेरस पर करीब एक करोड़ रुपए का बर्तन व्यापार होने की उम्मीद है। इस दिन पीतल के दीपक, भगवान की प्रतिमाओं सहित सभी तरह के बर्तनों की बिक्री होती है।

कांग्रेस ने फिर किया भाजपा पर हमला, कमलनाथ बोले तुरंत माफी मांगे सीएम

Posted by mp samachar On October - 14 - 2017Comments Off on कांग्रेस ने फिर किया भाजपा पर हमला, कमलनाथ बोले तुरंत माफी मांगे सीएम

congressभोपाल। मध्यप्रदेश में 2018 में होने वाले चुनावों को देखते हुए प्रदेश की दोनों बड़ी पार्टियां लगातार एक दूसरे पर हमलावर बनी हुईं हैं। एक ओर जहां भाजपा सिंधिया सहित कांग्रेस के बड़े नेताओं(Kamal Nath) को अपने निशाने पर लेकर अटैक कर रही है। वहीं कांग्रेस भी लगातार कभी किसानों को लेकर तो कभी किसी अन्य मामले को उठाने का कोई भी मौका गंवाती हुई नहीं दिख रही है। इसी आपसी तनातनी के चलते कांग्रेस ने एक बार फिर भाजपा पर वार किया है।

दरअसल टीकमगढ़ में जिले को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग कर रहे किसानों को थाने में अद्र्धनग्न कर पिटाई करने के मामले में राज्य सरकार ने 10 दिन बाद कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

घटना की जांच रिपोर्ट आने के बाद गृह मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कार्रवाई करते हुए,थाना टीआई को जिले से बाहर कर दिया और घटना के समय थाने में पदस्थ पूरेेेे स्टाफ को लाइन अटैच कर दिया गया है ।

इस पूरे मामले पर कांग्रेस सांसद कमलनाथ ने ट्वीट कर(Kamal Nath Demands CM Shivraj Singh Chouhans Resignation) निशाना साधा है।कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा है ‘टीकमगढ़ मामले में जांच रिपोर्ट आने के बाद प्रशासन की गलती मानते हुए,की गयी कार्यवाही के बाद,इस मामले को कांग्रेस का षड्यंत्र बताने वाले,शिवराज को अब अविलंब माफ़ी मांगते हुए, इस पूरे शर्मनाक मामले की नैतिक जवाबदारी ख़ुद पर लेकर, इस्तीफ़ा(CM Shivraj Singh Chouhan Resignation) देना चाहिए’।

इधर,विवाद सुलझाने प्रदेश प्रतिनिधि पद बढ़ाएगी कांग्रेस :-
प्रदेश कांग्रेस में प्रदेश प्रतिनिधियों को लेकर अब तक चल रहे बवाल का आगामी विधानसभा चुनाव में असर न हो इसका तोड़ पार्टी में खोजा जा रहा है। संगठन चुनाव के बाद प्रदेश में ब्लॉकों की संख्या बढ़ा कर यहां पर प्रदेश प्रतिनिधि बनाए जा सकते हैं।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी करीब दो साल पहले प्रदेश में ब्लॉकों की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव एआईसीसी को भेज चुकी है, लेकिन प्रस्ताव की फाईल अब जाकर बाहर निकाली गई है।
सूत्रों की मानी जाए तो प्रदेश कांग्रेस में अब 800 ब्लॉक होंगे। अब तक संगठन में 488 ब्लॉक हैं। नए ब्लॉकों से प्रदेश प्रतिनिधि भी बनाए जाएंगे। हालांकि ये प्रतिनिधि उस वक्त बनेंगे जब प्रदेश कांग्रेस के संगठन चुनाव की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया भी प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में यह आश्वासन देकर भी गए हैं। उनके आश्वासन के बाद कल से प्रस्ताव की फाईल ढेर से बाहर निकल गई है। यदि पूरे प्रस्ताव को मान लिया गया तो 312 प्रदेश प्रतिनिधि और बन सकेंगे। इससे कांग्रेस के अंदर उपजे विरोध और स्थानीय स्तर की गुटबाजी से कुछ हद तक पार्टी को निजात मिल सकती है।

सहयोजन प्रतिनिधि भी बढ़ेंगे:
वहीं सहयोजन प्रतिनिधियों की संख्या में भी इजाफा होना है। अभी पार्टी ने 110 सहयोजन प्रतिनिधि बनाए थे। इनमें से कई नेता प्रदेश प्रतिनिधि चुने गए हैं। ऐसे में इनके नाम की जगह पर दूसरे नेता को मौका दिया जाएगा। वहीं करीब चालीस सहयोजन प्रतिनिधि और बढ़ाए जा सकते हैं।

MP में भी पेट्रोल और डीजल सस्ता, VAT घटाने वाला देश का पांचवां राज्य बना

Posted by mp samachar On October - 13 - 2017Comments Off on MP में भी पेट्रोल और डीजल सस्ता, VAT घटाने वाला देश का पांचवां राज्य बना

petrol_11_1507877121_618x347भोपाल.मध्यप्रदेश ने पेट्रोल पर 3% और डीजल पर 5% तक VAT (वैल्यु एडेड टैक्स) घटा दिया है। इस फैसले के बाद राज्य में पेट्रोल 63.31 रुपए में और डीजल 59.37 रुपए में मिलेगा। नए रेट्स शुक्रवार रात से लागू हो जाएंगे। बता दें कि मध्यप्रदेश ऐसा करने वाला देश का एनडीए शासित चौथा राज्य बन गया है। इससे पहले महाराष्ट्र, गुजरात और उत्तराखंड ने VAT घटाने का फैसला लिया था। वहीं, कांग्रेस शासित हिमाचल में भी कम किया गया है। बता दें कि देश के 29 राज्यों में से 17 में एनडीए का शासन है।

– मध्यप्रदेश सरकार की कैबिनेट मीटिंग में गुरुवार को यह फैसला लिया गया। वित्त मंत्री जयंत मलैया ने कहा कि सरकार के इस फैसले के बाद पेट्रोल 1.70 रुपए और डीजल 4 रुपए सस्ता हो जाएगा। बता दें कि केंद्र सरकार ने पिछले दिनों राज्यों से 5% तक VAT घटाने की अपील की थी।

– मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड, हिमाचल और गुजरात के बाद अब दूसरे राज्यों पर पेट्रोल और डीजल VAT घटाने का दवाब बढ़ गया है।
राज्य की सीमा के पेट्रोल पंप मालिकों को राहत

– सरकार के इस फैसले से महाराष्ट्र और गुजरात राज्य की सीमा के पेट्रोल पंंप मालिकों ने राहत की सांस ली है। इन राज्यों में पेट्रोल सस्ता होने से इनकी ग्राहकी पर असर पड़ रहा था। – वित्त मंत्री ने कहा- “पेट्रोल और डीजल पर पांच फीसदी वैट कम करना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विचार हो रहा है कि किस फार्मूले से कम किया जाए, ताकि राजस्व का नुकसान कम से कम हो।

महाराष्ट्र और गुजरात में कितना घटा VAT
-गुजरात ने पेट्रोल-डीजल पर लगने वाला टैक्स (VAT) 4% घटाया। चुनाव से पहले सरकार के इस फैसले से राज्य में पेट्रोल 2.93 रुपए और डीजल 2.72 रुपए सस्ता हो गया है।
– वहीं, महाराष्ट्र सरकार ने भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में क्रमशः 2 रुपए और 1 रुपए की कमी का फैसला किया।
एक कांग्रेस शासित राज्य में भी वैट घटा

– कांग्रेस शासित हिमाचल प्रदेश ने भी कुछ दिन पहले पेट्रोल और डीजल पर 1% वैट घटाने का फैसला लिया था। हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा था कि फैसले से जनता को राहत मिलेगी।
देश में 17 राज्यों में है एनडीए का राज

– देश में कुल 29 राज्य हैं। इसमें से 17 राज्यों में एनडीए की सरकार है। ये हैं: महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, गुजरात, आंध्रप्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, हरियाणा, छत्तीसगढ़, झारखंड, असम, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, मणिपुर, गोवा, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश और बिहार।
मोदी सरकार ने पहली बार घटाई थी एक्साइज ड्यूटी

– पेट्रोल-डीजल की कीमतें तीन महीने से बढ़ रही थीं। 2014 में सत्ता में आने के बाद मोदी सरकार ने पहली बार 3 अक्टूबर को एक्साइज ड्यूटी में कमी की थी। इसकी वजह से पेट्रोल और डीजल 2 रुपए प्रति लीटर सस्ता हो गया था।
– सरकार ने नवंबर 2014 से जनवरी 2016 के बीच 9 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई। जुलाई के बाद से ही पेट्रोल-डीजल के रेट बढ़ रहे थे, लेकिन सरकार ने जब एक्साइज ड्यूटी नहीं घटाई तो उसकी आलोचना होने लगी।

मार्च में चुने जाएंगे RSS के नए सरकार्यवाह, ये हैं प्रमुख दावेदार

Posted by mp samachar On October - 12 - 2017Comments Off on मार्च में चुने जाएंगे RSS के नए सरकार्यवाह, ये हैं प्रमुख दावेदार

12_10_2017-bhaiyyajijoshi भोपाल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी का उत्तराधिकारी कौन होगा, इसका फैसला संघ की मार्च 2018 में होने वाली प्रतिनिधि सभा की बैठक में चुनाव से होगा। यह बैठक नागपुर में होगी। जोशी का तीसरा कार्यकाल मार्च में पूरा हो रहा है। भोपाल में गुरुवार से हो रही अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में नए सरकार्यवाह के चुनाव के प्रस्ताव पर विचार होगा।

तीन साल का होता है कार्यकाल

आरएसएस में सरसंघचालक के बाद सर्वाधिक ताकतवर पद सरकार्यवाह का होता है। इस पर बैठे व्यक्ति का कार्यकाल तीन साल का होता है। संघ के मौजूदा सरकार्यवाह भैयाजी जोशी दो कार्यकाल पहले ही पूरा कर चुके हैं। मार्च 2018 में वे अपना तीसरा कार्यकाल पूरा कर रहे हैं। इसलिए अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल में इस बात पर विचार किया जाएगा कि नए सरकार्यवाह का चुनाव संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक में किया जाए।

प्रतिनिधि सभा चुनती है सरकार्यवाह

आरएसएस में सबसे ताकतवर संस्था प्रतिनिधि सभा होती है। इसके पास सभी तरह के निर्णय लेने का अधिकार है। संघ सूत्रों के मुताबिक सरकार्यवाह का चुनाव प्रतिनिधि सभा के 40 से 45 सदस्यों के द्वारा किया जाता है। अब तक संघ में कभी भी निर्वाचन की नौबत नहीं आई है। आमतौर पर सर्वसम्मति से ही सरकार्यवाह का मनोनयन होता है। इस बार भी संभावना है कि भैयाजी जोशी को चौथा कार्यकाल देने अथवा नए व्यक्ति को मौका देने का फैसला भी सर्वसम्मति से ही होगा।

होसबोले हैं दावेदार

माना जा रहा है कि यदि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल में नए सरकार्यवाह के प्रस्ताव पर चर्चा होती है तो आरएसएस के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले को इस पद के लिए सबसे मजबूत दावेदार माना जा रहा है। होसबोले के अलावा सह सरकार्यवाह में सुरेश सोनी, डॉ. कृष्णगोपाल और वी. भागैय्या हैं। सोनी दो साल के स्वास्थ्य अवकाश के बाद कुछ समय पहले ही मुख्य धारा में लौटे हैं।

MP में पेट्रोल-डीजल से कम हो सकता है पांच प्रतिशत वैट

Posted by mp samachar On October - 11 - 2017Comments Off on MP में पेट्रोल-डीजल से कम हो सकता है पांच प्रतिशत वैट

vat_demo_10_10_2017 (1)भोपाल। केंद्र सरकार की सलाह के बाद मप्र में पेट्रोलियम पदार्थों से वैट कम करने को लेकर बुधवार को कोई फैसला हो सकता है। मप्र सरकार पेट्रोल-डीजल से पांच प्रतिशत वैट कम कर सकती है।

बुधवार को वित्त मंत्री जयंत मलैया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से इस मुद्दे को लेकर बैठक करेंगे। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री और वित्त मंत्री दोनों ही पेट्रोल-डीजल से वैट कम करने के संकेत दे चुके हैं।

मप्र में पेट्रोल पर अभी 31 प्रतिशत और डीजल पर 27 प्रतिशत वैट लगता है। इसके अलावा पेट्रोल पर चार रुपए और डीजल पर डेढ़ रुपए प्रति लीटर फिक्स टैक्स भी लगाया जाता है। यदि राज्य सरकार पांच प्रतिशत वैट घटाने का फैसला करती है तो मप्र में पेट्रोल-डीजल दो रुपए 40 पैसे से लेकर दो रुपए 75 पैसे प्रति लीटर सस्ते हो सकते हैं।

मंगलवार को वित्त मंत्री जयंत मलैया ने कहा कि बुधवार को मुख्यमंत्री के साथ विचार-विमर्श कर फैसला किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वैट कम करने का फैसला मुख्यमंत्री करेंगे। गौरतलब है कि महाराष्ट्र और गुजरात ने भी पेट्रोल-डीजल पर वैट कम कर दिया है।

शिवराज का जैत ग्राम अब गरीबी से मुक्त होगा

Posted by mp samachar On October - 10 - 2017Comments Off on शिवराज का जैत ग्राम अब गरीबी से मुक्त होगा

downloadभोपाल। पिछले बारह साल से निरन्तर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का गृह ग्राम जैत केंद्र सरकार के मिशन अन्त्योदय के तहत अब गरीबी से मुक्त होगा। यह ग्राम सीहोर जिले की बुधनी विधानसभा क्षेत्र में आता है। ग्राम जैत सहित बुधनी के कुल 62 ग्राम गरीबी से मुक्त किये जायेंगे। इसी प्रकार, दस साल मुख्यमंत्री रहे दिग्विजय सिंह की राघौगढ़ विधानसभा क्षेत्र के 60 ग्राम भी इसी मिशन के तहत गरीबी मुक्त होंगे।
ज्ञातव्य है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसद आदर्श ग्राम योजना बनाई थी लेकिन इसकी सफलता धीमी देख मिशन अन्त्योदय घोषित कर देश के पचास हजार ग्रामों को 2 अक्टूबर 2020 तक गरीबी से मुक्त करने की योजना लांच की गई। इसके तहत सभी राज्यों को गरीबी से मुक्त किये जाने वाले ग्रामों को चिन्हित करने के लिये कहा गया तथा इसके लिये 15 अक्टूबर 2017 तक का समय दिया गया। कुछ माह पहले मप्र सरकार ने गरीबी मुक्त ग्रामों को चिन्हित कर उसकी सूची जारी की परन्तु ये एक क्लस्टर में नहीं थे अर्थात भौगोलिक रुप से अलग-अलग ग्राम थे। इस पर आपत्ति आई तथा अब नये सिरे से ग्रामों को चिन्हित कर उनकी सूची जारी की गई है।
प्रदेश के सौ जनपद पंचायतों/विकासखण्डों में कुल 4886 ग्राम नये सिरे से गरीबी से मुक्ति के लिये चिन्हित किये गये हैं। भोपाल जिले के फन्दा विकासखण्ड के 15 तथा बैरसिया विकासखण्ड के 15 ग्राम इस मिशन में शामिल किये गये हैं।
प्रदेश में मिशन अन्त्योदय के तहत गरीबी से मुक्त किये जाने वाले ग्रामों को चिन्हित करने के बाद अब इन्हें गरीबी से मुक्त करने के लिये 15 अक्टूबर के बाद एक्शन प्लान बनेगा। गरीबी से मुक्ति के लिये वर्तमान योजनाओं जैसे नरेगा, पीएम आवास योजना, रोजगार हेतु बैंक लोन योजना आदि के तहत ही काम किया जायेगा। यदि एक्शन प्लान के तहत लक्ष्य ज्यादा है तो उसके लिये अतिरिक्त धनराशि केंद्र सरकार से मांगी जायेगी। इन ग्रामों में प्रति व्यक्ति आय बढ़े इसके लिये कौशल उन्नयन, शिक्षा, संचार साधनों का विकास आदि किया जायेगा।
विभागीय अधिकारियों ने बताया कि भौगोलिक रुप से एक क्लस्टर में 4886 ग्रामों का नये सिरे से गरीबी मुक्ति हेतु चयन कर उसकी सूची जारी की गई है। अब एक्शन प्लान बनना है तथा अगले माह नवम्बर से एक्शन प्लान के तहत गरीबी मुक्ति का अभियान शुरु हो जायेगा। वर्तमान प्रचलित योजनाओं के तहत ही ये काम होंगे तथा लक्ष्य अधिक होने पर केंद्र से धनराशि मांगी जायेगी।

मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने यूं मनाया पत्नी संग करवा चौथ

Posted by mp samachar On October - 9 - 2017Comments Off on मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने यूं मनाया पत्नी संग करवा चौथ

-dlowcghuiamcwk7भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को अपनी पत्नी साधना सिंह के साथ मुख्यमंत्री आवास में पूरे नियमों के साथ करवाचौथ के पर्व को मनाया। साधाना सिंह ने पूरे दिन व्रत रहने के बाद शाम को शिवराज सिंह के सिंह हाथों पानी पी कर व्रत को तोड़ा।

ट्विटर पर शेयर की तस्वीरें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने रविवार शाम ट्विटर पर ट्वीट कर अपनी धर्मपत्नी के करवा चौथ की जानकारी दते हुए तस्वीरें भी साझा की। इन तस्वीरों में वो अपनी पत्नी को पानी पिलाकर व्रत तुड़वाते हुए दिखाई दे रहे हैं। शिवराज सिंह ने फोटो पोस्ट करते हुए लिखा, ‘आज निवास पर धर्मपत्नी साधना को करवा चौथ पर जल पिलाकर व्रत का पारण करवाया। माँ करवा से यही प्रार्थना कि हर बहन, बेटी की मनोकामना पूरी हो।’

सुषमा स्वराज का करवा चौथ विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी रविवार को करवाचौथ का व्रत रखा और चांद की पूजा की। दिल्ली स्थित उनके निवास स्थान पर धूमधाम के साथ करवाचौथ का त्यौहार मनाया गया। सुषमा स्वराज ने लाल रंग की साड़ी पहनीं और दुल्हन की तरह श्रृंगार किया । वो दुल्हन से कम नहीं लग रही थी। अन्य महिलाओं के साथ सुषमा स्वराज ने चांद की पूजा की उनकी आरती उतारी और जल चढ़ाकर अपना व्रत खोला। पीयूष गोयल भी नहीं रहे पीछे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी अपनी धर्मपत्नी सीमा गोयल के साथ करवाचौथ का त्यौहार मनाया।

पीयूष गोयल ने ट्विटर पर अपनी पत्नी के साथ तस्वीरें साझा करते हुए लिखा, ‘तेरा संबल मुझे साहस देता है, चुनौतियाँ स्वीकार करने का। कुछ नया-कुछ अलग करने का। सभी मित्रों का दाम्पत्य जीवन सुखमय बने, यही शुभकामनाएं।’

टैक्स असेसमेंट कौन करेगा करदाता को भी नहीं लगेगी भनक

Posted by mp samachar On October - 7 - 2017Comments Off on टैक्स असेसमेंट कौन करेगा करदाता को भी नहीं लगेगी भनक

income_tax_06_10_2017भोपाल। नोटबंदी और कालाधन स्वीकारो योजना के बाद आयकर विभाग अब बड़े बदलाव के दौर से गुजर रहा है। विभाग के लिए टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस (टीसीएस) विशेष सॉफ्टवेयर तैयार कर रहा है। नए साल से यह पूरी तरह काम करने लगेगा। इसके बाद असेसमेंट मेन्युअल के बजाए ऑनलाइन ही होगा। वह दिन भी दूर नहीं जब भोपाल-इंदौर अथवा रायपुर के करदाता का असेसमेंट चेन्नई में कोई बैठा अधिकारी कर रहा हो।

आयकर विभाग लंबे मंथन के बाद अपनी कार्यप्रणाली में क्रांतिकारी बदलाव लाने की तैयारी में जुट गया है। नए सॉफ्टवेयर के लिए टीसीएस के विशेषज्ञ आयकर अधिकारियों को ट्रेनिंग दे रहे हैं। चरणबद्ध तरीके से यह सिलसिला चल रहा है।

विभागीय सूत्रों का कहना है कि दिसंबर अंत तक नए सॉफ्टवेयर (इनकम टैक्स बिजनेस एप्लीकेशन) पर कामकाज ‘शिफ्ट’ कर दिया जाएगा। नए साल से यह व्यवस्था पूरी तरह लागू कर दी जाएगी। पुरानी व्यवस्था को विभाग अलविदा कर देगा। विभाग का ऐसा मानना है कि नई व्यवस्था से कामकाज में पारदर्शिता बढ़ेगी। साथ ही करदाता को आयकर भवन के अनावश्यक चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। उसे परेशानी एवं प्रताड़ना से भी मुक्ति मिलेगी।

सामने नहीं रहेगा अफसर

नई व्यवस्था में कर निर्धारण अधिकारी कौन होगा, यह करदाता को मालूम ही नहीं पड़ पाएगा। रेंज का दायरा अथवा ‘ज्यूरिडिक्शन’ का बंधन समाप्त हो जाएगा। विभाग देश भर में किसी भी अफसर को ‘रेंडमली’ कोई भी प्रकरण असेसमेंट के लिए आवंटित कर देगा।

जाहिर है सारा काम ऑनलाइन होने से फाइल कहीं अटकेगी नहीं। भ्रष्टाचार की गुंजाइश भी खत्म हो जाएगी। आयकर अफसरों का कहना है कि विभाग देश भर में स्टाफ की कमी से जूझ रहा है। इस व्यवस्था से अधिकारियों को ज्यादा समय मिल सकेगा जिससे नए करदाताओं को भी आयकर के दायरे में लाया जा सकेगा।

बढ़ सकते हैं अपील के मामले

नई व्यवस्था को लेकर सवाल भी उठने लगे हैं। बिल-वाउचर के सत्यापन का पुख्ता आधार नहीं रहेगा। करदाता के सामने नहीं होने से पूछताछ जैसी व्यवस्था में करदाता के हाव-भाव का पता नहीं चल पाएगा। इसके अलावा अपील के मामले भी बढ़ेंगे। असेसमेंट अधिकारी के सामने नहीं होने से छोटी आपत्ति पर भी लोग सीधे अपील में जाएंगे।

नए साल से नई व्यवस्था…

विभाग के लिए टीसीएस से नया सॉफ्टवेयर बनवाया गया है। अधिकारियों की ट्रेनिंग अभी जारी है। नए साल की शुरुआत से ही यह व्यवस्था पूरी तरह लागू हो जाएगी।

top इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा दुष्कृत्य निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी प्रदेश बधाई बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल मंत्रालय मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी मध्यप्रदेश मनरेगा मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विकास विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सहकारिता सीहोर स्वास्थ्य हत्या