12
December - 2017
Tuesday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

Archive for the ‘अपराध’ Category

बिहार की इस महिला के गर्दन के आरपार हो गया सरिया, ऐसे बची जान

Posted by mp samachar On December - 8 - 2017Comments Off on बिहार की इस महिला के गर्दन के आरपार हो गया सरिया, ऐसे बची जान

download (24)पटना। एक कहावत है, ‘जाको राखे साइयां, मार सके ना कोई’। एक बार फिर से यह कहावत चरितार्थ हुआ है। वैशाली जिले की एक महिला जिंदगी और मौत से जूझ रही थी। उनकी गर्दन में रॉड बेतरतीब तरीके से घुस गया था। पटना में उसका सफल ऑपरेशन हुआ।

दरअसल, वैशाली के पातेपुर गांव की रहने वाली 45 वर्षीया राधिका देवी अपने घर पर सीढ़ी से उतरने के क्रम गिर गयी। पैर फिसलने के कारण गर्दन में रॉड बेतरतीब तरीके से घुस गया था। चिकित्सकों ने महिला को पटना रेफर किया। यहां के एक निजी अस्पताल में चिकित्सकों की टीम ने महिला को मौत के मुंह से निकाल लिया।

साढ़े तीन घंटे में हुआ ऑपरेशन
चार डॉक्टर्स की टीम ने राधिका देवी का सफल ऑपरेशन किया। इस ऑपरेशन में लगभग साढ़े तीन घंटे का वक्त लगा। पीड़िता फिलहाल आईसीयू में है और स्वस्थ्य बताई जा रही है।

4 डॉक्टर्स ने किया ऑपरेशन
चिकित्सकों की टीम में डॉ चंदन कुमार, डॉ सुशील कुमार, डॉ पूर्वी और डॉ धीरज शामिल थे। अस्पताल प्रबंधक नीरज कुमार ने बताया कि चारों डॉक्टर्स की टीम ने पूरे जी-जान से महिला को बचाने की कोशिश की और उनकी मेहनत रंग लाई।

इस साल जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने मारे 200 आतंकी, अब दी वॉर्निंग ‘सरेंडर करो वरना मारे जाओगे’

Posted by mp samachar On November - 30 - 2017Comments Off on इस साल जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने मारे 200 आतंकी, अब दी वॉर्निंग ‘सरेंडर करो वरना मारे जाओगे’

30_11_2017-terrorist-attackश्रीनगर। सुरक्षाबलों ने आज कश्मीर के बडगाम और सोपोर में दो अलग-अलग मुठभेड़ों में पांच आतंकियों को मार गिराया। इसके साथ ही वादी में जारी आप्रेशन ऑल आउट में मरने वाले आतंकियों की संख्या भी 200 का आंकड़ा पार कर गई है। इन दोनों मुठभेड़ों में दो सुरक्षाकर्मी भी जख्मी हो गए, जबकि आतंकियों के समर्थन में हिंसा पर उतरी भीड़ पर काबू पाने के लिए पुलिस के बल प्रयोग में तीन लोग जख्मी हुए।

इस बीच, संबंधित प्रशासन ने शरारती तत्वों के मंसूबों को नाकाम बनाने और अफवाहों पर काबू पाने के लिए बडगाम, पुलवामा व सोपोर के कुछ हिस्सों में इंटरनेट सेवाओं को ठप कर दिया है। सुबह एक विशेष सूचना पर सेना की 10 गढ़वाल रेजिमेंट के जवानों और राज्य पुलिस विशेष अभियान दल के जवानों के संयुक्त कार्यदल ने जिला बढगाम में चरार-ए-शरीफ के साथ सटे फुटलीपोरा में जैश ए मोहम्मद के आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर तलाशी अभियान चलाया।

देखें तस्वीरें: जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों में मुठभेड़

सुबह सात बजे के करीब जैसे ही जवान अस्सदुल्लाह नामक एक ग्रामीण के मकान के पास पहुंचे, अंदर छिपे आतंकियों ने फायरिंग कर दी। जवानों ने भी अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर किया। इसके साथ ही वहां मुठभेड़ शु़रू हो गई, जिसमें दोपहर दो बजे तक चार आतंकी मारे गए थे और दो मकान तबाह हुए थे। इसी दौरान आतंकियों व सुरक्षाबलों के बीच फायरिंग की चपेट में आकर सिनार अहमद नामक एक युवक गोली लगने से जख्मी हो गया।

अलबत्ता, स्थानीय सूत्रों ने बताया कि मुठभेड़ की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में स्थानीय लोग नारेबाजी करते हुए घरों से बाहर निकल आए। उन्होंने जवानों पर पथराव करते हुए उनके साथ मारपीट का प्रयास किया। इस पर हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को लाठियों और आंसूगैस के अलावा हवाई फायरिंग का भी सहारा लेना पड़ा। इसमें ही सिनार जख्मी हुआ। उसके अलावा एक अन्य युवक भी जख्मी हुआ है।

बडगाम में मुठभेड़ शुरू होने के करीब चार घंटे बाद सोपोर के सगीपोरा में भी सेना की 9 पैरा और राज्य पुलिस विशेष अभियान दल के जवानों के संयुक्त कार्यदल ने आतंकियों को जिंदा या मुर्दा पकड़ने के लिए एक अभियान चलाया। जवानों ने जैसे ही आतंकी ठिकाने की घेराबंदी शुरू की,आतंकियों ने उन पर राइफल ग्रेनेड दागते हुए अपने स्वचालित हथियारों से फायरिंग कर दी। जवानों ने भी अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर किया। इसके बाद शुरू हुई मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया और 9 पैरा के एक कमांडो समेत दो सुरक्षाकर्मी जख्मी हो गए।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि बडगाम और सोपोर में जारी मुठभेड़ों में पांच आतंकी मारे गए हैं। उन्होंने बताया कि फुटलीपोरा में एक या दो आतंकी और छिपे हो सकते हैं।

हाफिज सईद के हर मंसूबे को खाक करने को तैयार BSF’

Posted by mp samachar On November - 29 - 2017Comments Off on हाफिज सईद के हर मंसूबे को खाक करने को तैयार BSF’

BSF 'ready to clean up every motive of Hafiz Saeed'नई दिल्ली। मुंबई हमले का मास्टरमाइंड और आतंक का आका हाफिज सईद की आजादी के बाद भारतीय सीमा पर आतंकी हमलों की अटकलें तेज हो गई हैं. कयास यह भी लगाए जा रहे हैं कि हाफिज सईद अपने किसी बेहद खतरनाक मंसूबे को अंजाम देने के फिराक में है. ऐसे में आतंकियों को मुंह तोड़ जवाब देने के लिए भारत की तैयारी कैसी है, इस पर आज तक की टीम ने बीएसएफ के डीजी केके शर्मा से बातचीत की.

किसी भी आतंकी हमले से निपटने को तैयार

हाफिज सईद के आजाद होने के बाद इंटेलिजेंस एजेंसियों का कहना है कि हाफिज आतंकी ट्रेनिंग कैम्प में आ सकता है. इस पर BSF के डीजी केके शर्मा ने बताया कि हाफिज सईद पहले भी आतंकी ट्रेनिंग कैम्प और लॉन्च‍िंग पैड पर आता रहा है. इस बात पर कोई शक नहीं है कि वो दोबारा सीमा पार बने लॉन्चिंग पैड पर आए. लेकिन इसके लिए हमारी सेना पूरी तरह तैयार है. सीमा पार बहुत सारे लॉन्च‍िंग पैड और ट्रेनिंग कैम्प चल रहे हैं. ऐसे में उनसे निपटने की हमारी पूरी तैयारी है.

बर्फबारी में घुसपैठ

केके शर्मा ने बताया कि घुसपैठ करने वाले अध‍िकांश आतंकी बर्फबारी का इंतजार करते हैं. इस बार भी ऐसी जानकारी मिल रही है कि आतंकी बर्फबारी के समय घुसपैठ कर सकते हैं. लेकिन BSF के जवान उनकी यह ख्वाहिश इस बार पूरी नहीं होने देगी. बीएसएफ घुसपैठ से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है.

शर्मा ने कहा कि आतंकियों ने पिछले साल भी पाक के एक सीमा चौकी घुसपैठ करने की कोश‍िश कर रहे थे, तभी BSF ने पाकिस्तानी चौकी अभियाल डोगरा को फायर कर उड़ा दिया. इस साल भी अभियाल डोगरा और उसके आस पास पूरी नजर रखी जा रही है.

तकनीक की मदद

सीमाओं की सुरक्षा और अभेद्य बनाने के लिए बीएसएफ ने स्मार्ट फेंस की मदद ली है. इससे भारतीय सीमा को पार करना लगभग असंभव होगा. केके शर्मा ने कहा कि भारतीय सीमा की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है और इसमें हम तकनीक की मदद ले रहे हैं. समार्ट फेंस से हम आतंकी घुसपैठ को रोकने में कामयाब होंगे, जिसमें सारे टेक्निकल सोल्युशन हैं. साल 2018 तक भारतीय सीमा को पूरी तरह तकनीक से लैस कर लिया जाएगा.

महाराष्ट्र का अब्दुल लश्कर आतंकी? नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र दहलाने की थी तैयारी

Posted by mp samachar On November - 29 - 2017Comments Off on महाराष्ट्र का अब्दुल लश्कर आतंकी? नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र दहलाने की थी तैयारी

narendra-modiराष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से एक संदिग्ध आंतकी को गिरफ्तार किया है। एजेंसी को शक है कि आरोपी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य हो सकता है, जिससे इस मामले को लेकर भी उसके खिलाफ जांच की जा रही है। पकड़े गए शख्स की पहचान अब्दुल नईम शेख के रूप में हुई है। नईम को हाल के दिनों में एनआईए ने गिरफ्तार किया था।
केस से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि उन्हें आरोपी से कुछ तस्वीरें और नक्शे मिले हैं। जिनसे पूरा शक होता है कि वो आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए वाराणसी पहुंचा है। कहा जा रहा है कि नईम शेख आर्मी कैंप और पॉवर प्रोजेक्ट को निशाने बनाना चाहता था। आरोपी मूल रूप से महाराष्ट्र के औरंगाबाद का है जो पिछले कुछ महीनों से खूफिया एजेंसियों के निशाने पर था।
रिपोर्ट के अनुसार संदिग्ध पिछले कुछ महीनों में देश के महत्वपूर्ण क्षेत्रों का दौरा कर चुका है। इस दौरान वो लश्कर हैंडलर के लगातार संपर्क में था। ये जानकारी सूत्रों के हवाले से हैं।

दूसरी तरफ सेना के आला अधिकारी ने बताया, ‘संदिग्ध आंतकी ने पिछले दिनों कश्मीर में सेना के ठिकानों का दौरा किया और एक हाईड्रो इलेक्ट्रोनिक प्रोजेक्ट के पास भी उसकी संदिग्धता देखी गई। वो कथित तौर पर हिमाचल प्रदेश के कसोल में भी जा चुका है। उसकी यहूदियों को भी नुकसान पहुंचाने की योजना थी। क्योंकि कसोल में ज्यादातर इस्राइली लोग निवास करते हैं।’
गौरतलब है कि पकड़े गए संदिग्ध से एनआईए और आईबी के अधिकारी कड़ी पूछताछ कर रहे हैं जिससे उसके हैंडलर को पकड़ा जा सके।

निकाय चुनाव में बुर्का हटाकर पहचान हुई सुनिश्चित, महिलाओं ने किया विरोध

Posted by mp samachar On November - 29 - 2017Comments Off on निकाय चुनाव में बुर्का हटाकर पहचान हुई सुनिश्चित, महिलाओं ने किया विरोध

उत्तर प्रदेश में हो रहे निकाय चुनाव के तीसरे और आखिरी चरण में आखिरकार पर्दानशीं महिलाओं की पहचान सुनिश्चित होने लगी है. मुगलसराय, चंदौली, बागपत और सहारनपुर में कई बूथों पर बुर्के में वोट डालने आई महिलाओं की पहचान उनके वोटर आई कार्ड और चेहरे से मिलान करके किया गया और उसके बाद ही उन्हें वोटिंग की इजाजत दी गई.

सबसे पहले इसकी मांग उत्तर प्रदेश बीजेपी ने की थी और बाकायदा राज्य चुनाव आयोग को एक ज्ञापन देकर यह मांग किया था कि पर्दे, बुर्के या घूंघट में आई महिलाओं के चेहरों का मिलान उनके वोटर आईडी कार्ड से किया जाए और इसके लिए महिला सुरक्षा की खास व्यवस्था की जाए. हालांकि चुनाव आयोग ने इस बाबत कोई आधिकारिक आदेश जारी नहीं किया था लेकिन कई जिलों में प्रशासन ने इसे जरूर लागू कर दिया है.

मुगलसराय, चंदौली, बागपत और सहारनपुर में आज कई बूथों पर यह देखने को मिला कि महिला सुरक्षाकर्मी बुर्के में आई महिलाओं की पहचान उनके आई कार्ड से कर रही हैं और साथ-साथ बुर्का हटाकर चेहरे से आई कार्ड का मिलान भी कर रही हैं.

नगर निकाय चुनाव के अंतिम चरण में 26 जिलों में नगर निगम नगर पालिका और नगर पंचायतों के लिए मतदान हो रहा है. मतदान को सकुशल संपन्न कराने के लिए एक तरफ जहां सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं वही फर्जी वोट को रोकने के लिए भी चुनाव आयोग द्वारा इंतजाम किए गए हैं.

मुगलसराय/चंदौली

मुगलसराय में मतदान के दौरान मुस्लिम महिलाओं का बुरका हटवाकर चेहरे का मिलान किया गया. इसके लिए एक महिला कांस्टेबल को नियुक्त किया गया था. उधर मुस्लिम महिला मतदाताओं ने इस व्यवस्था पर नाराजगी जताई.

मुगलसराय में एक बूथ पर मौजूद महिला सुरक्षाकर्मी शैल कुमारी ने कहा, “ऊपर से निर्देश है कि जो भी महिलाएं बुर्का में आएं उनका चेहरा पहचान पत्र से मिलान कराया जाए.” लेकिन, बुर्का पहन कर वोट देने आई मुस्लिम महिलाएं इससे नाराज दिखीं. उनका कहना था कि वह पहले से बुर्के में वोट करती रही हैं और इस तरह की पहचान की कवायद कभी नहीं हुई.

रूमी परवीन (मतदाता मुगलसराय) ने कहा, “हम लोग पहले भी वोट दे चुके हैं लेकिन ये पहली बार हो रहा है कि नकाब हटाकर मुंह देखा जा रहा है. ये हम लोगों को अच्छा नहीं लग रहा है.”

कुछ इस तरह की ही राय इसी बूथ पर वोट डालने आईं नाजिया के भी थे. नाजिया का कहना था कि पहचान सुनिश्चित हो ठीक है लेकिन यह बाहर की बजाए अंदर एकांत में होना चाहिए. नाजिया (मतदाता) ने कहा, “ये इतना बाहर नहीं होना चाहिए था. थोड़ा अंदर होना चाहिए था.”

तीसरी मतदाता सलमा तो इसे इस्लाम के खिलाफ ही बता रही हैं. उनका कहना है कि हमारी पहचान मुंह ढक कर भी हो सकती है और हमारा पहचान पत्र ही पहचान के लिए काफी है.

सलमा (मतदाता) ने कहा, “ये इस्लाम की तरफ से ठीक नहीं है. ये अच्छा नहीं है. अगर फर्जी वोट रोकने के लिए हो रहा है तो हम लोगों के पास पहचान पत्र तो है. मुंह ढक के भी किया जा सकता है.”

सहारनपुर

सहारनपुर में भी कुछ ऐसा ही नजारा दिखा जब बड़ी तादाद में लाइनों में लगी बुर्का पहने औरतें वोटिंग के पहले बुर्का हटाकर अपनी पहचान सुनिश्चित कराती दिखीं. सहारनपुर में बुर्कानशीं औरतें भी बड़ी संख्या में वोट डालने पहुंचीं. पोलिंग बूथ के अंदर उनकी पहचान के लिए उनके मुंह से बुर्का और कपड़ा हटवाकर उनकी पहचान सुनिश्चित की गई. इसके बाद ही अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकीं.

बागपत

बागपत के वीर स्मारक इंटर कॉलेज में मुस्लिम मतदाताओं की भीड़ उमड़ी हुई है. यहां जो भी मुस्लिम महिलाएं बुर्के में आ रही हैं. उनकी चेकिंग की जा रही है और उसके बाद ही उन्हें पोलिंग बूथ में जाने की इजाजत दी जा रही है. पोलिंग बूथ पर तैनात महिला पुलिसकर्मी पूरी मुस्तैदी से ये देखने की की कोशिश कर रही हैं कि कहीं कोई बुर्कानशीं ऐसी तो नहीं है कि जो दोबारा वोट डालने जा रही हो. इसी के साथ उनके पहचानपत्र से भी उनकी पहचान की जा रही है. हालांकि कुछ महिला मतदाता इसका विरोध भी कर रही हैं. लेकिन, बिना चेकिंग के कोई बुर्खानशीं मतदान केंद्र पर दाखिल नहीं हो रही है.

चाहे मुगलसराय हो, सहारनपुर हो या फिर बागपत… बुर्कानशीं महिलाओं ने इसका विरोध किया और कई जगहों पर उन्होंने पहचान सुनिश्चित के दूसरे तरीके भी बताए लेकिन प्रशासन ने बाकायदा महिला पुलिस और महिला कांस्टेबल के सामने इनकी चेकिंग की उसके बाद ही ये वोट डाल पाईं.

आपको बता दें कि यह मांग बीजेपी की तरफ से काफी पहले से रही है और बीजेपी से जुड़े मुस्लिम नेता भी इसके समर्थन में रहे हैं. योगी सरकार के मंत्री मोहसिन रजा पहले ही कह चुके हैं कि जब आधार और पासपोर्ट के लिए चेहरा दिखाया जा सकता है तो वोटिंग के वक्त क्यों नहीं. बहरहाल इस पर विवाद होना तय है क्योंकि मुस्लिम मौलाना धर्मगुरू इसका विरोध करते दिख रहे हैं.

प्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी छात्र का केस लड़ेंगे तलवार दंपति के वकील

Posted by mp samachar On November - 25 - 2017Comments Off on प्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी छात्र का केस लड़ेंगे तलवार दंपति के वकील

2017_11image_16_38_007379095pradyuman-ll (1)गुरुग्राम(ब्यूरो): आरुषी मर्डर केस में बरी हुए तलवार दंपति के वकील तनवीर अहमद मीर प्रद्युम्न मर्डर केस के आरोपी नाबालिग छात्र का केस लड़ेंगे। इस बार की पुष्टि खुद तनवीर अहमद मीर ने की है। शुक्रवार को स्टूडेंट के परिजनों ने वकील तनवीर अहमद से बात की थी। इसके बाद यह केस लेने की बात चली। आरोपी स्टूडेंट के पिता का मानना है कि तनवीर अहमद उन्हें न्याय दिलवा सकते हैं।

वहीं वकील का कहना है कि उन्होंने आरोपी नाबालिग के परिवार वालों से शुरुआती बातचीत की है। उन्होंने बताया कि आरोपी किशोर के पिता ने अपने एक मित्र के जरिए उनसे संपर्क किया। उल्लेखनीय है कि किशोर के पिता खुद भी वकील हैं और गुड़गांव कोर्ट में प्रैक्टिस करते हैं। तनवीर अहमद ने कहा कि इस मामले में क्या होगा, अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी क्योंकि CBI को अभी उचित अदालत में अपना केस रखना है। हालांकि CBI के सूत्रों का कहना है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आरोपी का वकील कौन है। CBI के एक सूत्र ने कहा कि किसी भी वकील की सेवाएं हासिल करना आरोपी का अधिकार है। उन्हें अपनी जांच पर पूरा भरोसा है।

वकील का कहना है कि सीबीआई द्वारा हत्या के पीछे परीक्षा अौर पैरेंट्स-टीचर मीटिंग टालने की मंशा जताना सही नहीं है। सीबीआई के सबूत सीसीटीवी फुटेज के आधार पर है। जबकि सीसीटीवी में कई लोग दिखाई दे रहे हैं। किसी पर आरोप साबित करने के लिए ठोस सबूतों की आवश्यकता है। उन्होने कहा कि सीबीआई आरुषि केस की तरह गलती दोहरा रहा है।

उल्लेखनीय है कि 8 सितंबर को स्कूल परिसर में 7 साल के प्रद्युम्न की हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में कंडक्टर अशोक को आरोपी बनाया था। बाद में प्रद्युम्न के परिजनों की गुहार पर केस सीबीआई को सौंप दिया गया। जिसके बाद सीबीआई ने उसी स्कूल के 11वीं के छात्र को आरोपी बनाया। जिसके बाद आरोपी अशोक ने कोर्ट में जमानत याचिका दायर की। जिस पर कोर्ट ने अशोक को 50 हजार के मुनचले पर जमानत दे दी है। जमानत के बाद अशोक ने पुलिस पर उसे डॉर्चर करने के आरोप लगाए हैं। वहीं अब आरोपी छात्र के केस को आरुषि मर्डर केस में बरी हुए तलवार दंपति के वकील लडे़ंगे।

चलती बस में चाकू से गोदकर युवक की हत्या, सभी ने पहनी थी स्कूल यूनिफॉर्म

Posted by mp samachar On November - 24 - 2017Comments Off on चलती बस में चाकू से गोदकर युवक की हत्या, सभी ने पहनी थी स्कूल यूनिफॉर्म

knife_650x400_71508914894नई दिल्ली। दिल्ली के न्यू फ्रेंडस कॉलोनी थाना इलाके में सवारियों से भरी चलती बस में एक युवक की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गयी । मृतक युवक की पहचान नहीं हो सकी है। मृतक की उम्र करीब 25 साल बताई जा रही है। मृतक गुरुवार को लाजपत नगर से बस में सवार होकर बदरपुर बार्डर की तरफ जा रहा था और इस दौरान कुछ लड़कों ने चलती बस में उसे चाकू मार दिया। अभी तक की जांच में सामने आया है कि लड़कों ने स्कूल की यूनिफार्म पहनी हुई थी, हालांकि वह किसी स्कूल के थे या नहीं, यह पुष्टि नहीं हो सकी है। बस के कंडक्टर जय भगवान के मुताबिक बस पंजाबी बाग से बदरपुर बार्डर की तरफ जा रही थी। इसी दौरान मृतक को मोबाइल चोरी होने का संदेह हुआ और उसने बस में सवार बच्चों से अपना मोबाइल मांगना शुरू ‌कर दिया। पुलिस सूत्रों के अनुसार, मोबाइल को लेकर उनके बीच विवाद होने लगा और एक लड़के ने चाकू निकाल कर युवक के गले पर मार दिया। उन्होंने बताया कि चाकू लगते ही सभी युवक वहां से फरार हो गए और कंडक्टर ने मामले की सूचना पुलिस को दी। दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के डिप्टी कमिश्नर रोमिल बानिया ने बताया कि पुलिस को मामले की सूचना गुरुवार शाम चार बजे के करीब मिली थी, जिसके बाद पुलिस ने संबंधित धाराओं में मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। मृतक के पॉकेट से भी उसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है।

गुजरात में शुरू हुई डराने की राजनीति, मुसलमानों के घर पर बनाया x का निशान

Posted by mp samachar On November - 14 - 2017Comments Off on गुजरात में शुरू हुई डराने की राजनीति, मुसलमानों के घर पर बनाया x का निशान

gujrat-elections-scare-politics-Muslims-home-x-marks-अहमदाबाद. गुजरात चुनाव में एक-दूसरे को मात देने के लिए और अल्पसंख्यक वोट को अपने पक्ष में करने के लिए डराने की राजनीति शुरू हो गई है. सोमवार को अहमदाबाद के कुछ इलाकों में मुस्लिमों के घरों के बाहर एक्स या क्रॉस के निशानों वाले पोस्टर्स दिखाई दिए हैं. इसके बाद रिहायशी अल्पसंख्यकों में तनाव फैल गया है.

सत्ताधारी भाजपा का कहना है कि गुजरात में सांप्रदायिक तनाव फैलाने के लिए यह विपक्षी पार्टियों की चाल है. इलाके के मुस्लिमों के घरों के बाहर लगे इन निशानों के बारे में लोगों ने स्थानीय प्रशासन को सूचना दी है. भाजपा ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को खराब करने का आरोप लगाया है. वहीं कांग्रेस ने दावा किया है कि भाजपा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण करना चाहती है.

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, कांग्रेस राज्य में अपना बेस गंवा चुकी है और वोट पाने के लिए ऐसे हथकंडों का सहारा ले रही है. आरएसएस विचारक राकेश सिन्हा ने कहा कि एक्सज् का निशान कांग्रेस की पुरानी राजनीति है और उन्होंने गुजारिश करते हुए कहा कि वह हिंदू और मुस्लिमों के बीच दूरी न बढ़ाए.

एआईएमआईएम ने कहा है कि इन सबके पीछे कौन है, इसकी जांच होनी चाहिए. गुजरात में दो चरणों में विधानसभा चुनाव होने हैं. पहले चरण का मतदान 9 दिसंबर और दूसरा 14 दिसंबर को होगा. गुजरात और हिमाचल प्रदेश के नतीजे 18 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे.

लाल निशान पर काला स्प्रे

क्रॉस के निशान ऐसे समय पर बनाए गए हैं, जब तीन दिन पहले ही इस इलाके में पोस्टर लगे थे जिसमें लिखा था, ‘पलदी को जुहापुरा बनने से बचाइए.’ बता दें, जुहापुरा भारत की सबसे बड़ी मुस्लिम बस्तियों में से एक है.

डिलाइट अपार्टमेंट के वॉचमैन सत्तार चुनार ने कहा कि उन्होंने लाल निशान पर काला स्प्रे छिड़क दिया है. उन्होंने कहा, ‘कुछ लोगों ने बताया है कि जिन इलाकों से कूड़ा उठाना है, उनकी पहचान के लिए सफाई कर्मचारियों ने ये निशान लगाए हैं.’ उधर, अमन कॉलोनी के जुबेर अहमद ने इस तर्क को मानने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, ‘हमें अभी भी नगर निगम से यह नहीं बताया गया है कि ये निशान कूड़ा उठाने के लिए हैं.’

किसने लगाए निशान?

उधर, नगर निगम के अधिकारियों के बयान ने भी भ्रम पैदा किया है. स्वास्थ्य अधिकारी नितिन प्रजापति ने कहा कि ये निशान सफाई अभियान के तहत लगाए गए हैं, जबकि नगर आयुक्त मुकेश कुमार ने कहा कि ये निशान निगम कर्मचारियों द्वारा लगाए गए निशान से अलग हैं.

इस बीच मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय में चांसलर और अहमदाबाद निवासी जफर सरेशवाला ने कहा, ‘मोदी साहब सबका साथ, सबका विकास की बात कर रहे हैं. इस तरह के घृणा अभियान वर्ष 2002 के चुनाव के दौरान भी नहीं हुए थे. क्या हमें यह विश्वास करना चाहिए कि यह बीजेपी मोदी के साथ नहीं है?’

इस बीच पुलिस प्रमुख एके सिंह ने कहा है कि ये निशान हेल्थ वर्कर्स ने लगाए हैं लेकिन मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि यदि ये निशान कूड़ा उठाने के लिए लगाए गए हैं तो हम अपनी टीम भेजेंगे ताकि वहां के निवासियों को यह बताया जा सके.

कश्मीरः सुरक्षाबलों की सख्ती का दिखा असर, 90% कम हुई पत्थरबाजी

Posted by mp samachar On November - 13 - 2017Comments Off on कश्मीरः सुरक्षाबलों की सख्ती का दिखा असर, 90% कम हुई पत्थरबाजी

pelting-in-Kashmir-down-to-90-percentजम्मू। जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख एसपी वेद ने कहा है कि पिछले साल की तुलना में इस साल कश्मीर में पथराव की घटनाओं में 90 फीसदी कमी आई है और इसका श्रेय कश्मीर के लोगों को जाता है। उन्होंने बताया कि सिर्फ एनआईए की छापेमारी ही कश्मीर घाटी में बदलाव के लिए जिम्मेदार नहीं है।

वेद नोटबंदी और शीर्ष आतंकवादी कमांडर के खिलाफ कार्रवाई सहित कई अन्य कारकों को भी इसकी वजह बताते हैं। पुलिस महानिदेशक ने बताया कि पिछले साल एक दिन में पथराव की 40-50 घटनाएं होनी सामान्य बात थी। वेद ने बताया, ‘कश्मीर घाटी में पिछले साल की तुलना में इस साल पथराव की घटना में 90 फीसदी कमी आई है। यह एक बड़ी गिरावट है।’ उन्होंने कहा, ‘ऐसे भी सप्ताह बीते हैं, जब पथराव की एक भी घटना नहीं हुई है जबकि पिछले साल एक दिन में 50 से ज्यादा ऐसी घटनाएं होती थी। लोगों के स्वभाव में एक बड़ा बदलाव आया है।’

अब एक भी घटना नहीं, पहले 40-50 घटनाएं

वेद ने कहा, ‘ यह एक बड़ा बदलाव है। कश्मीर में कानून-व्यवस्थाा की स्थिति सब देख सकते हैं, खास तौर पर वे लोग जो कश्मीर में रहते हैं या जिनका उससे नाता है।’ महानिदेशक ने कहा, ‘ यह आसानी से समझा जा सकता है कि घाटी की स्थिति में बड़ा बदलाव आया है। पूरे दिन में एक भी घटना नहीं हो रही है। कई बार तो सप्ताह में भी पथराव की घटना नहीं हो रही है।’

वेद ने कहा, ‘ शुक्रवार को भी अब पथराव की एक भी घटना नहीं हो रही है जबकि पिछले साल एक दिन में 40-50 घटनाएं सामान्य सी बात थी।’ उन्होंने बताया कि पथराव की घटना कम होने के पीछे सिर्फ एनआईए की छापेमारी ही अकेली वजह नहीं है।

पत्थरबाजी कम होने का श्रेय कश्मीरियों को

महानिदेशक ने कहा, ‘ कानून व्यवस्था में सुधार और पथराव की घटना में कमी के पीछे कई वजहें हैं। सिर्फ एनआईए की छापे की वजह से स्थिति सुधर गई, इस पर मैं सहमत नहीं हूं।’ उन्होंने कहा, ‘ एनआईए के छापेमारी ने जरूर मदद की है। लेकिन मुख्य रूप से इसका श्रेय कश्मीर के लोगों को जाता है। हो सकता है कि लोगों ने महसूस किया हो कि अपनी ही संपत्ति को क्षति पहुंचाना और अपने ही समाज की पुलिस को निशाना बनाना व्यर्थ है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा आतंकवादियों के शीर्ष कमांडरों पर की गई कार्रवाई भी इसकी एक बड़ी वजह है। पुलिस प्रमुख ने बताया कि नोटबंदी, आतंक का समर्थन करनेवालों की गिरफ्तारी और बढ़ी राजनीतिक सक्रियता की वजह से स्थिति में सुधार हुआ है।

भोपाल एयरपोर्ट पर युवती के बैग से मिले चार जिंदा कारतूस

Posted by mp samachar On November - 8 - 2017Comments Off on भोपाल एयरपोर्ट पर युवती के बैग से मिले चार जिंदा कारतूस

bhopal_girl_2017117_11033_07_11_2017 राजा भोज एयरपोर्ट पर मंगलवार सुबह सात बजे अपनी मां के साथ मुंबई जा रही एक युवती के बैग से .22 के चार कारतूस बरामद किए गए। सीआईएसएफ ने युवती को हिरासत में लेकर गांधी नगर पुलिस के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने आर्म्स एक्ट के तहत युवती को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया। ये वही गांधी नगर पुलिस है जो चार महीने पहले बिल्कुल ऐसे ही मामले में पकड़ाए एक टीआई के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर पाई है। पुलिस का ये दोहरा रवैया सवाल तो खड़े करता ही है।

गांधी नगर पुलिस के मुताबिक मुबंई निवासी 30 वर्षीय युवती श्वेता वाने अपनी मां के साथ एयरइंडिया की फ्लाइट(ए-0634) से मुंबई जाने वाली थी। इससे पहले सीआईएसएफ की महिला सब इंस्पेक्टर ने रूटीन तलाशी ली तो युवती के बैग से .22 के चार जिंदा कारतूस बरामद हुए। युवती ने सीआईएसएफ को बताया कि वह गलती से आ गए हैं,उसके नाना महाराष्ट्र पुलिस में रह चुके हैं,ये उनके ही कारतूस हैं।

टीआई के पास से भी मिले चार कारतूस

चार महीने पहले जुलाई में बिल्कुल इसी तरह के एक मामले में उस समय राजगढ़ जिले में पदस्थ टीआई अनिल वामनिया पास से एयरपोर्ट पर चार कारतूस बरामद किए गए थे। सीआईएसएफ ने टीआई को गांधीनगर पुलिस के ही हवाले किया था। उस समय इसकी पुष्टि सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट वीरेंद्र सिंह ने की थी। उस समय पुलिस पर शुरूआत से इस मामले को छिपाने के आरोप लगे थे।

और आज चार महीने बाद भी टीआई के खिलाफ सिर्फ विभागीय जांच ही चल रही है। हालांकि गांधी नगर पुलिस ने राजगढ़ एसपी को मामले की सूचना उसी दिन भेज दी थी। चार महीने में राजगढ़ सिर्फ इतना जबाव आया कि टीआई किसान आंदोलन के समय थानाप्रभारी थे, इसलिए कारतूस उनके पास आ गए थे वे उनको जमा करना भूल गए।

एसपी बोलीं – मामला मेरी जानकारी में नहीं

टीआई अनिल बामनिया के मामलेमें क्या जांच चल रही है। उसके बारे में क्या हुआ, मामला मेरी जानकारी में नहीं है। आपसे ही हमको घटना के बारे में पता चला है।

top इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा दुष्कृत्य निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी प्रदेश बधाई बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल मंत्रालय मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी मध्यप्रदेश मनरेगा मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विकास विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सहकारिता सीहोर स्वास्थ्य हत्या