24
February - 2018
Saturday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

Archive for the ‘अपराध’ Category


नई दिल्ली । भले ही यह कहा जाता है कि आप अपनी मर्जी से किसी भी पार्टी को वोट दे सकते हैं, लेकिन त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में अपनी मर्जी का वोट डालने पर एक 32 वर्षीय आदिवासी महिला को उसके ससुराल वालों ने ही मौत के घाट उतार दिया।

पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि वोट देने के बाद पीड़िता के ससुर और जेठ उसके घर में घुस आए। इसके बाद दोनों ने उसपर ईंट और डंडे से हमला कर दिया। जब पड़ोसी उस महिला को बचाने दौड़े तो दोनों आरोपी भाग निकले। पीड़िता के पति ने तीन लोगों को खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है, लेकिन अभी तक कोई भी गिरफ्तार नहीं किया गया है।

बताया गया कि आरोपियों ने महिला को इसलिए मारा कि उसने सीपीएम की बजाय बीजेपी को वोट दिया था। बीते 18 फरवरी को त्रिपुरा में विधानसभा की 59 सीटों के लिए वोट डाले गए। इस बार सीपीएम को बीजेपी सत्ता से उखाड़ने का दावा कर रही है।

जानिए कौन है अरबों रुपए के पीएनबी घोटाले का मुख्‍य आरोपी नीरव मोदी

Posted by mp samachar On February - 15 - 2018Comments Off on जानिए कौन है अरबों रुपए के पीएनबी घोटाले का मुख्‍य आरोपी नीरव मोदी

nirav-modiनई दिल्‍ली: पंजाब नेशनल बैंक में 11 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा के घोटाले में आरोपी नीरव मोदी के घर और दफ्तरों पर प्रवर्तन निदेशालय छापेमारी कर रही है. इससे पहले निदेशालय ने मोदी और अन्‍य आरोपियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था. हालांकि, खबरों के मुताबिक इस मामले में एफआईआर दर्ज होने से पहले नीरव मोदी भारत छोड़कर जा चुका था. अरबपति हीरा कारोबारी नीरव फोर्ब्‍स की भारतीय अरबपतियों की 2017 की सूची में 57वें नंबर पर है. वह नीरव मोदी डायमंड ज्‍वेलरी रिटेल स्‍टोर्स का संस्‍थापक है. इसके अलावा फायरस्‍टार इंटरनेशनल का चेयरमैन है जिसके दुनिया के प्रमुख शहरों में स्‍टोर हैं. 1.73 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ वह दुनिया के अरबपतियों की सूची में 1234वें नंबर पर है.

व्‍हार्टन छोड़ उतरा हीरा व्‍यवसाय में
48 वर्षीय नीरव मोदी हीरा कारोबारियों के परिवार से है. वह एंटवर्प में पला-बढ़ा जिसे दुनिया की हीरा राजधानी कहा जाता है. वह फाइनेंस की पढ़ाई करने व्‍हार्टन गया था, लेकिन 19 साल की उम्र में भारत लौअ आया और अपने चाचा से हीरा कारोबार की बारीकियां सीखीं. 1999 में उसने फायरस्‍टोन कंपनी की शुरुआत की. बाद में कंपनी का नाम बदलकर फायरस्‍टार किया गया. फिलहाल इस कंपनी का कुल रेवेन्‍यू 2.3 अरब डॉलर है. 2010 में उसने नीरव मोदी ब्रांड की शुरुआत की. इस ब्रांड के दिल्‍ली, मुंबई, न्‍यूयॉर्क, लंदन सहित प्रमुख शहरों में 16 स्‍टोर हैं.

बिज़नेस का अलग अंदाज
अंतरराष्‍ट्रीय हीरा कारोबार में कदम रखते ही नीरव ने फैशन की दुनिया में हलचल मचा दी. उसके विज्ञापन जर्मनी के मशहूर फोटोग्राफर पीटर लिंडबर्ग जैसी शख्सियतों द्वारा तैयार किए जाते थे. उसने भारतीय हस्‍तशिल्‍प के साथ यूरोपियन शैली का मेल कर डायमंड बिज़नेस का तरीका बदल दिया. व्‍यवसाय चलाने के लिए उसने नए तरीके अपनाए, जैसे उसके स्‍टोर शनिवार और रविवार को भी खुले रहते हैं. जबकि ज्‍वेलरी स्‍टोर सामान्‍य तौर पर वीकेंड्स में बंद रहते हैं. इस बारे में उसने एक बार कहा था, मेरे स्‍टोर रविवार को भी खुले रहते हैं क्‍योंकि इसी दिन पति और पत्‍नी के पास खरीदारी के लिए समय होता है. मई, 2017 में नीरव ने मशहूर म्‍यूजिक स्‍टोर रिद्म हाउस को खरीद लिया. उसकी पत्‍नी का नाम एमी है.

सेलेब्रिटी पहने हैं इसकी ज्‍वेलरी
नीवर मोदी के ब्रांड को प्रियंका चोपड़ा, एंड्रिया डायाकोनू और रोजी हटिंगटन जैसे स्‍टार प्रमोट करते हैं. केट विंस्टन और डकोटा जॉनसन जैसे सेलेब्रिटी अक्‍सर रेड कार्पेट पर उसके ब्रांड की ज्‍वेलरी पहने नजर आते हैं.

दिल्ली: पकड़ा गया इंडियन मुजाहिदीन का खूंखार आतंकी, कई सीरियल ब्लास्ट मामले में थी तलाश

Posted by mp samachar On February - 14 - 2018Comments Off on दिल्ली: पकड़ा गया इंडियन मुजाहिदीन का खूंखार आतंकी, कई सीरियल ब्लास्ट मामले में थी तलाश

राजधानी दिल्ली से इंडियन मुजाहिदीन के खूंखार आतंकी की गिरफ्तारी की गई है। बुधवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मोस्ट वांटेड आतंकी एरीज खान उर्फ जुनैद को गिरफ्तार किया है। जुनैद के ऊपर 15 लाख का इनाम था, जो कि किसी भी इंडियन मुजाहिदीन के आतंकियों के ऊपर रखी गई इनामी राशियों में सबसे ज्यादा है। इस आतंकी संगठन द्वारा किए गए सभी बड़े ब्लास्टों में जुनैद का नाम शामिल है। जुनैद के ऊपर नेशनल इन्वेस्टिगेटिव एजेंसी ने 10 लाख का और दिल्ली पुलिस ने 5 लाख का इनाम रखा था। 27 वर्षीय जुनैद का नाम दिल्ली, अहमदाबाद और जयपुर हुए ब्लास्टों में भी शामिल है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में जन्म लेने वाला जुनैद मुजफ्फरनगर में इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़कर जिहाद के लिए इस आतंकी संगठन से जुड़ गया था। सितंबर 2008 में दिल्ली में हुए सीरियल ब्लास्ट में इंडियन मुजाहिदीन के इस आतंकी का नाम सामने आया था। उस वक्त उसके ऊपर 1 लाख रुपए का इनाम रखा गया था। जुनैद बाटला हाउस एनकाउंटर से खुद को बचाकर भागने में कामयाब रहा था। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा ने बताया, ‘दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने एरीज खान उर्फ जुनैद को गिरफ्तार कर लिया है। वह 2008 में दिल्ली में हुए बम विस्फोटों सहित कई बमबारी की

कुशवाहा ने आगे बताया, ‘वह बम बनाने में और धमाकों की प्लानिंग करने में माहिर है। जुनैद बटाला हाउस मुठभेड़ में मारे गए आतंकी आतिफ आमीन का मुख्य सहयोगी था। जुनैद 2007 में उत्तर प्रदेश में हुए धमाकों में, 2008 जयपुर धमाकों में, 2008 अहमदाबाद धमाकों में शामिल था। वह बटाला हाउस एनकाउंटर के वक्त भाग गया था।’

आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले ही इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी को भी पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली से गिरफ्तार किया था। सुभान के बाद जुनैद की गिरफ्तारी दिल्ली पुलिस के हाथ लगने वाली दूसरी बड़ी सफलता है। कुरैशी का नाम 2008 में गुजरात में हुए सीरियल ब्लास्ट में शामिल था, इन धमाकों में 56 लोगों की मौत हुई थी। कुरैशी सॉफ्टवेयर इंजीनियर था और उसे बम बनाने में महारथ हासिल थी।

सुंजवां कैंप से जैश-ए-मोहम्मद को जवाब, आतंकी अफजल अब नहीं है जिंदा

Posted by mp samachar On February - 10 - 2018Comments Off on सुंजवां कैंप से जैश-ए-मोहम्मद को जवाब, आतंकी अफजल अब नहीं है जिंदा

जम्मू-कश्मीर के सुंजवां आर्मी कैंप पर शनिवार तड़के आतंकी हमले की जिम्मेदारी कुख्यात आतंकी संगठन जैश ने ली है। जैश का जिक्र आते ही 2001 में संसद पर हमले का वो काला दिन जेहन में घूमने लगता है। जैश का जिक्र आते ही मसूद अजहर का खौफनाक चेहरा नजर आने लगता है। जैश का जिक्र होते ही अफजल गुरू का वो चेहरा नजर आता है जिसमें उसके चेहरे पर मासूमियत झलकती थी लेकिन इरादे कितने खतरनाक थे देश और दुनिया पता लग चुका था।

आतंकी अफजल के बहुत से समर्थक हैं जिन्हें उसकी विचारधारा अच्छी लगती है और उसका प्रदर्शन जेएनयू में भी दिखा। जेएनयू के तत्कालीन अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद और दूसरे नेताओं की मौजूदगी में अफजल हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल जिंदा है के नारे लगे। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर की गलियों में विघटनकारी संगठन और उनसे जुड़े हुए लोग नारा लगाते हैं कि कितने अफजल मारोगे,हर गली में अफजल होंगे पैदा। सवाल ये है कि अफजल के प्रति सहानुभूति रखने वाले लोग आखिर क्यों भूल जाते हैं कि पाकिस्तान के इशारों पर नाचने वाला हर एक शख्स देशविरोधी गतिविधियों में खुद ब खुद लिप्त हो जाता है। यहां हम जानने की कोशिश करेंगे आखिर इस तरह के विचार और इस तरह की घटनाएं जम्मू-कश्मीर में क्यों स्पेस पा रही है। लेकिन इससे पहले आर्मी के सुंजवां कैंप और 9 फरवरी 11 फरवरी के बीच के संबंधों को समझने की जरूरत है।

आतंकियों की मदद करने वाला आरोपी अली अकबर 10 दिन की पुलिस रिमांड पर

Posted by mp samachar On February - 7 - 2018Comments Off on आतंकियों की मदद करने वाला आरोपी अली अकबर 10 दिन की पुलिस रिमांड पर

Ali Akbar, accused of helping terrorists, on 10-day police remand

लखनऊ। यूपी पुलिस की एटीएस टीम ने आतंकवादियों की सहायता करने के आरोप में अली अकबर को मंगलवार को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए शेख अली अकबर का 10 दिन के लिए पुलिस कस्टडी रिमांड न्यायालय ने स्वीकृत किया है।

एटीएस के पुलिस महानिरीक्षक असीम अरुण ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शेख अली पर आरोप है कि पकिस्तान में बैठे आतंकियों के सम्पर्क में आकर कश्मीर में सक्रिय आतंकियों को हथियार पहुंचाने में सहायता कर रहा था। उन्होंने बताया कि 2 दिन पहले जम्मू-कश्मीर में गिरफ्तार किए गए 4 आतंकियों से पूछताछ में गाजीपुर निवासी अली का नाम प्रकश में आया था।

उन्होंने बताया कि अली कश्मीर में सक्रिय आतंकी संगठन हिजबुल हमारी शान है, फ्रीडम फाइटर्स हिज्ब मीडिया जमात-उद-दावा-कश्मीरए कश्मीर की आजादी, मूसा मूसा आदि के जरिए आतंकियों के संपर्क में आया था। अली के विरुद्ध अप्रैल 2016 में गाजीपुर के जमनिया थाने में मुकदमा दर्ज है। अरुण ने बताया कि इस मामले के विवेचक पुलिस उपाधीक्षक निवेश कटियार कस्टडी रिमांड के दौरान अली से विवेचना से संबंधित तथ्यों के संबंध में गहनता से पूछताछ कर इसके अन्य साथियों के बारे में पता लगाया जाएगा।

गौरतलब है कि अली को एटीएस की टीम गाजीपुर से मंगलवार को पूछताछ के लिए अपने कार्यालय लेकर आई थी। कश्मीर में पकड़े गए आतंकवादियों के बयान के आधार पर उससे पूछताछ की गई थी। पूछताछ के दौरान आतंकियों को हथियार खरीदने में मदद करने के आरोप में उसे गिरफ्तार कर लिया गया था।

मुंबई कमला मिल्स हादसा: One Above पब के तीनों मालिक अरेस्ट, मोजोज के ओनर अब भी फरार

Posted by mp samachar On January - 11 - 2018Comments Off on मुंबई कमला मिल्स हादसा: One Above पब के तीनों मालिक अरेस्ट, मोजोज के ओनर अब भी फरार

mumbai_2_1515638952मंबई. कमला मिल्स कंपाउंड में हुए अग्निकांड के मुख्य आरोपी और वन अबव पब के तीनों मालिकों कृपेश सांघवी, जिगर सांघवी और अभिजीत मंकार को गिरफ्तार कर लिया गया है। कृपेश और जिगर दोनों को उनके वकील के घर के बाहर से पकड़ा गया था। दोनों गिरफ्तारी से बचने के लिए कानूनी राय लेने के लिए अपने वकील के पास गए थे। जबकि अभिजीत मंकार को दोनों की निशानदेही पर अरेस्ट किया गया है। 29 दिसंबर को हुए अग्निकांड के बाद से ये फरार चल रहे थे और पुलिस ने इनपर एक लाख का इनाम भी घोषित किया था।

अभी भी फरार है मोजोज बार के मालिक
– इससे पहले इन दोनों को कथित तौर पर शरण देने के आरोप में एक होटल मालिक विशाल करिया को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया था। बताया जा रहा है कि विशाल करिया की निशानदेही पर ही पुलिस ने कृपेश सांघवी, जिगर सांघवी को अरेस्ट किया है।

– पुलिस के पास एकदम पुख्ता जानकारी थी कि सांघवी ब्रदर्स वेस्ट लिंकिंग रोड पर बांद्रा आ रहे हैं। सादी वर्दी में पुलिस की जांच टीम सांघवी ब्रदर्स का इंतजार करने लगीं। जैसे ही दोनों भाई वहां पहुंचे पुलिस ने उन्हें धर दबोचा।

– इन तीनों पर गैर इरादतन हत्या और दूसरी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसी मामले में मोजोज रेस्टोरेंट के मालिक युग तुली भी फरार हैं।

हुक्के की चिंगारी से भड़की आग
– कमला मिल्स कम्पाउंड के पब में लगी आग के मामले में फायर ब्रिगेड डिपार्टमेंट ने अपनी जांच रिपोर्ट पेश की थी। इसके मुताबिक, आग की शुरुआत मोजोस ब्रिस्टो पब से हुई थी।
– आग का कारण हुक्के से निकली चिंगारी थी। इस चिंगारी ने कपड़े के एक पर्दे को अपनी चपेट में लिया और कुछ देर में यह पूरे बार में फैल गई।
– वन अबव बार के फरार मालिकों के रिश्तेदार आदित्य सिंघवी ने भी दावा किया था कि आग की शुरुआत मोजोज बार से हुई थी। आग एक चिंगारी से लगी और मोजोस के पास उसे बुझाने के लिए इक्विपमेंट्स नहीं थे। उनका स्टाफ ट्रेंड नहीं था, इसलिए यह फैलते हुए वन अबव बार तक पहुंच गई।
– आदित्य ने ये भी आरोप लगाया था कि मोजोज के मालिकों के खिलाफ इस मामले सिर्फ कम्प्लेंट दर्ज हुई है और वे आराम से घूम रहे है। पुलिस उसके मालिकों को बचा रही है।

सजावट की वजह से फैली आग

– रिपोर्ट के मुताबिक, 29 दिसंबर को जब आग लगी तो वह फैलती ही चली गई, क्योंकि मोजोस ब्रिस्टो और वन अबव रेस्तरां टॉप पर थे, इसीलिए दोनों की छत भी एक ही थी, उनमें प्लास्टिक और बांस-बल्लियों का इस्तेमाल किया गया था।
– रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि यह आग मोजोस पब के साउथ-ईस्ट डायरेक्शन के एक कोने से शुरू हुई। आग का कारण यह भी बताया गया है कि 31 दिसंबर (न्यू ईयर सेलिब्रेशन) के चलते वहां सजावट भी की गयी थी। सजावट के लिए पर्दे, कागज और प्लास्टिक से बने सामानों का खूब इस्तेमाल किया गया था, जिससे आगे को फैलने का मौका मिला।
– रिपोर्ट में आईविटनेस के हवाले से बताया गया है कि आग के समय मोजोज के रेस्टोरेंट में हुक्का परोसा गया था, जिसके बाद यह आग लग गई। जबकि रेस्टोरेंट में शराब और हुक्का परोसने की इजाजत नहीं थी। इसके बावजूद भी यह धंधा अवैध रूप से चलाया जा रहा था।

डीजे का तेज साउंड भी था कारण
– रिपोर्ट में एक चौंकाने वाला खुलासा यह भी किया गया है कि जब मोजोस में आग लगी तो वहां अफरा-तफरी मच गयी, लेकिन वन-अबव में काफी तेज आवाज में डीजे बज रहा था, जिससे किसी को भी चीख पुकार की कोई आवाज नहीं सुनाई दी।

– मोजोस और वन-अबव से बाहर जाने का एक ही रास्ता था और वह थी लिफ्ट। आग लगने के बाद सभी लोग भाग कर लिफ्ट के यहां आ गए और वहां भीड़ जमा हो गयी। लिफ्ट से केवल 5 लोग ही बाहर जा सकते थे, लेकिन दोनों पबों में 200-250 लोग थे।

फरार आरोपियों पर एक लाख का इनाम
– कमला मिल्स कम्पाउंड में आगजनी की घटना के बाद फरार चल रहे वन अबव रेस्टोरेंट के मालिक क्रिपेश मनसुखलाल संघवी, जिगर मनसुखलाल संघवी और अभिजीत अशोक मानकर की जानकारी देने वाले शख्स को पुलिस ने एक लाख रुपए का इनाम देने की घोषणा की थी।
– पुलिस का कहना है कि आगजनी की घटना के बाद इन तीनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 304, 337, 338 व 34 के तहत मामला दर्ज किया गया ।

अब तक 50 से ज्यादा चश्मदीदों के बयान दर्ज
– मामले की जांच कर रही एनएम जोशी मार्ग पुलिस ने कुल चार एफआईआर दर्ज की है। पुलिस 50 से ज्यादा चश्मदीदों के बयान दर्ज किए हैं।
– पुलिस घटना के वक्त पब में मौजूद दूसरे लोगों से भी संपर्क करने की कोशिश कर रही है।
– आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने गैर-इरादतन हत्या समेत विभिन्न आरोपों में एफआईआर दर्ज की है।

– मोजोस और वन-अबव से बाहर जाने का एक ही रास्ता था और वह थी लिफ्ट। आग लगने के बाद सभी लोग भाग कर लिफ्ट के यहां आ गए और वहां भीड़ जमा हो गयी। लिफ्ट से केवल 5 लोग ही बाहर जा सकते थे, लेकिन दोनों पबों में 200-250 लोग थे।

शव को जलाने के लिए ले गए थे श्मशान, जब आग लगाई तो मृतक उठ खड़ा हुआ और फिर…

Posted by mp samachar On January - 9 - 2018Comments Off on शव को जलाने के लिए ले गए थे श्मशान, जब आग लगाई तो मृतक उठ खड़ा हुआ और फिर…

dead-body-woke-up-just-before-burning-पटना । कहते है मृत्यु एक ऐसा कडवा सच है, जिसको कोई भी इंसान चाह कर भी नही झुठला सकता. इस दुनिया में आज तक कोई भी इंसान हमेशा के लिए जिंदा नहीं रहा. ऐसे में जब भगवान भी शरीर त्याग कर चले गए तो हम इंसानों की औकात ही क्या है? इस दुनिया में बहुत सारे लोगों का भूतों और आत्मायों पर अटूट विश्वास है. जबकि, कुछ लोग इसको मन का वेहम समझ कर इग्नोर कर देते हैं. ऐसे में साइंस भी भूत प्रेतों के बारे में कुछ साबित नहीं कर पाई है. अक्सर आपने इंसान को मरने के बाद श्मशान ले जा कर जलाते हुए देखा होगा. लेकिन, क्या आपने कभी जलता हुआ मुर्दा अर्थी से उठते हुए देखा है?

दरअसल, कुछ ऐसा ही अजीबो गरीब वाकया हाल ही में हमारे सामने आया है. जहाँ, एक मरे हुए व्यक्ति को जब आग लगाने का प्रयास किया तो वह लकड़ियों को चीरता हुआ “राम राम” कह कर उठ खड़ा हुआ. जिसके बाद वहां मौजूद सभी लोग डर गए.

दरअसल, यह पूरा मामला राजधानी पटना के मोकामा शमशान घाट का है. यहां एक व्यक्ति को मरने के बाद उसके परिजन श्मशान जलाने के लिए ले आए थे. अंतिम संस्कार की सभी रस्मों के बाद जब परिजन लकड़ी में आग लगाने के लिए आगे बढ़े तो मुर्दा राम-राम कहते हुए और लकड़ियों को चीरते हुए उठ खड़ा हुआ. जिसके बाद लोग डर के मारे वहां से भागना शुरु हो गए. परंतु मुर्दे ने जब उनको सारी सच्चाई बताई तो उनके रोंगटे खड़े हो गए और वह उसको वापस घर लेकर लौट गए. घर बैठे अन्य परिजन मुर्दे को वापस जिंदा देखकर आश्चर्यचकित रह गए. मुर्दे के फिर से जिंदा होने के पीछे गांव वाले तरह-तरह की बातें बना रहे हैं.

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि यह पूरा मामला पटना के मोकामा के मराची गांव का है. यहां के निवासी मनोज मलिक के पिता की ठंड के कारण मृत्यु हो गई थी. जिसके बाद उन्हें बाबा घाट लाकर अंतिम संस्कार की तैयारियां शुरू कर दी गई. जानकारी के अनुसार जब परिजनों ने मुर्दे को जलाने के लिए लकड़ियों में आग लगाई तो अचानक से लकड़ियां गिरने लग गई जिसके बाद मुर्दा खड़ा होकर राम-राम करने लग गया.

अचानक मुर्दे को खड़ा होते देखकर शमशान घाट में मौजूद सभी लोग भौचक्के रह गए. जब मृतक को वापस जिंदा घर ले जाया गया तो परिवार के अन्य सदस्य उसको देख कर खुशी के मारे झूम उठे. इसके बाद गांव में मुद्दे को लेकर तरह-तरह की बातें बनाई जा रही है. वही डॉक्टरों के अनुसार ठंड के कारण व्यक्ति की सांस काफी कमजोर हो गई थी जिसे लोगों ने मृत मानकर संस्कार शुरू कर दिया. परंतु लकड़ियों में जल रही आग से उसके शरीर को गर्मी मिल गई और मैं वापस से जिंदा हो गया. फिलहाल, पीड़ित के परिवार में उसके वापिस जिन्दा होने से खुशियों का माहोल बन गया है.

यूपी: 11वीं की छात्रा को अगवा कर जंगल में किया गैंगरेप

Posted by mp samachar On January - 1 - 2018Comments Off on यूपी: 11वीं की छात्रा को अगवा कर जंगल में किया गैंगरेप

sad_lady_1514784251_618x347यूपी के हाथरस जिले के सहपऊ थाना क्षेत्र में 11वीं क्लास की छात्रा का अपहरण कर गैंगरेप किए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. परिजनों ने पूर्व जिला पंचायत सदस्य और उसके चार साथियों पर छात्रा का अपहरण कर गैंगरेप किए जाने का आरोप लगाया है. पुलिस ने केस दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

जानकारी के मुताबिक, पीड़ित छात्रा कोतवाली सहपऊ क्षेत्र स्थित एक इंटर कॉलेज में पढ़ती है. वह शाम को जब स्कूल से घर लौट रही थी. तभी क्षेत्र के जलेसर रोड पर कार सवार पूर्व जिला पंचायत के सदस्य ने अपने साथियों के साथ उसे जबरन कार में बैठा लिया. जंगल में ले जाकर अपने चार साथियों के साथ बंदूक की नोक पर गैंगरेप किया.

पुलिस के मुताबिक, छात्रा की हालत बिगड़ने पर आरोपियों ने उसको कार में लादकर गांव के पास ही फेंक दिया. डरी सहमी छात्रा घर पहुंची. उसने परिजनों को घटना की जानकारी दी. परिजनों ने रविवार को पुलिस में तहरीर दी. इस तहरीर के आधार पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है.

अपर पुलिस अधीक्षक अरविंद कुमार ने रविवार को बताया कि छात्रा की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. पुलिस ने एक आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया है. पीड़ित छात्रा को मेडिकल जांच के लिए अस्पताल भेजा गया है. पुलिस की कई टीमें अन्य आरोपियों की तलाश में विभिन्न जगहों पर दबिश दे रही हैं.

बताते चलें कि संभल जिले में भी टीवी धारावाहिक में काम दिलाने के नाम पर एक नाबालिग लड़की से रेप का सनसनीखेज मामला सामने आया है. आरोपी ने पीड़िता को दिल्ली ले जाकर इस वारदात को अंजाम दिया. पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज करके गिरफ्तार कर लिया. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है.

जिले के बहजोई क्षेत्र की रहने वाली 15 वर्षीय छात्रा ने आरोप लगाया कि ब्रम बाजार में डांस सिखाने वाला आजाद हुसैन उसे मुंबई में टीवी धारावाहिकों में काम दिलाने के बहाने बीते 23 दिसंबर को अपने साथ ले गया था. वह उसे मुंबई ले जाने की बजाय दिल्ली लेकर चला गया. वहां उसने उसके साथ रेप कर दिया. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है.

1 किलो से ज्यादा ड्रग्स के साथ गिरफ्तार हुए DU-JNU समेत एमिटी के 4 छात्र

Posted by mp samachar On December - 30 - 2017Comments Off on 1 किलो से ज्यादा ड्रग्स के साथ गिरफ्तार हुए DU-JNU समेत एमिटी के 4 छात्र

download (4)दिल्ली के नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने आज दिल्ली यूनिवर्सिटी के दो छात्रों और जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के एक छात्र और एक एमिटी यूनिवर्सिटी के छात्र को ड्रग्स स्मगलिंग के आरोप में गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने इनके पास से 1.140 किलो ड्रग्स(भांग) और तीन एलएसडी ब्लॉट पेपर जब्त किए हैं।
माना जा रहा है कि पकड़ी गई ड्रग्स न्यू ईयर पार्टी के लिए लायी गई थी। हालांकि अभी पुलिस की ओर से कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। ना ही अभी ये पता चला है कि यह छात्र किसी गिरोह का हिस्सा हैं या ये खुद के इस्तेमाल के लिए ये ड्रग्स लाए थे।

महाराष्ट्र से करीब 2,965 लड़कियां हो चुकी हैं लापता, पुलिस के पास नहीं है कोई ठोस सुराग

Posted by mp samachar On December - 19 - 2017Comments Off on महाराष्ट्र से करीब 2,965 लड़कियां हो चुकी हैं लापता, पुलिस के पास नहीं है कोई ठोस सुराग

police-generic_650x400_71490246814मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने आज बताया कि इस साल के शुरुआती छह महीनों में प्रदेश से करीब 2,965 लड़कियां लापता हो गई हैं. प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के विधायक रंधीर सावरकर द्वारा राज्य विधानसभा में पटल पर रखे गए एक सवाल के लिखित जवाब में मुख्यमंत्री ने बताया कि सास 2016 में एक जनवरी से 30 जून के बीच 2,881 लड़कियां लापता हुई थीं. इस साल इस अवधि में यह संख्या बढ़कर 2,965 हो गई है.

उन्होंने कहा, “इस संबंध में किसी खास गिरोह के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है. करीब 12 पुलिस विभागों को ऐसी गतिविधियों के खिलाफ फौरन कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं.” फडणवीस के मुताबिक केंद्र सरकार ने लापता लड़कियों का पता लगाने के लिए केंद्र सरकार ने www.trackthemissingchild.gov.in वेबसाइट बनाई है.

अपने उत्तर में मुख्यमंत्री ने कहा, “रेलवे ने भी इस काम के लिए अपने पोर्टल www.shodh.gov.inको अधुनिक बना रहा है. ये वेबसाइट मामलों का पता लगाने में मददगार रही हैं.” उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने ऑपरेशन मुस्कान और ऑपरेशन स्माइल जैसे चार अभियान शुरू किए हैं. इसके माध्यम से साल 2016 में एक जनवरी से 30 जून के बीच 1,613 लड़कियों का पता लगाया गया था. इनकी मदद से इस साल भी 645 लड़कियों की खोज की जा चुकी हैं.

adhi mahotsav 2017 adhi mahotsav bhopal adhi mahotsav news bhopal haat bazaar top trifed bhopal आदि महोत्सव इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल भोपाल हाट मंत्रालय मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार राष्ट्रीय जनजातीय उत्सव रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर हत्या