12
December - 2017
Tuesday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

Archive for the ‘ख़ास खबर’ Category

download (7)नई दिल्ली। सांसदों और विधायकों पर चल रहे आपराधिक मामलों के निपटारे को लेकर केंद्र सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. केंद्र सरकार ने इन मामलों को निपटाने के लिए एक साल तक 12 स्पेशल कोर्ट चलाने पर सहमति जताई है. इन स्पेशल कोर्ट में करीब 1571 आपराधिक केसों पर सुनवाई होगी. ये केस 2014 तक सभी नेताओं के द्वारा दायर हलफनामे के आधार पर हैं.

सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार इन केसों का निपटारा एक साल के अंदर किया जाना चाहिए. कानून मंत्री की ओर से दाखिल हलफनामे में इस बात की पुष्टि हुई है.

आपको बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान चुनाव आयोग ने दागी नेताओं पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की मांग की थी. जबकि केंद्र सरकार ने इसे खारिज करते हुए 6 साल की बैन को ही लागू रखने को कहा था.

गुजरात और हिमाचल चुनाव में वोटिंग से ठीक पहले सुप्रीम कोर्ट ने दागी नेताओं को करारा झटका देते हुए उनके खिलाफ चल रहे मामलों की सुनवाई जल्द पूरी करने के लिए स्पेशल फास्ट ट्रैक कोर्ट स्थापित करने का प्लान पेश करने को कहा था.

कोर्ट का आदेश था कि छह हफ्ते में सरकार अपना ड्राफ्ट प्लान कोर्ट को सौंपे, जिसमें फास्ट ट्रैक कोर्ट की संख्या और समय की जानकारी भी रहे, ताकि किसी भी दागी जनप्रतिनिधि के खिलाफ दाखिल मुकदमे का निपटारा साल भर के भीतर हो जाए.

आपको बता दें कि अभी हाल ही में आई एडीआर ने 4852 विधायकों और सांसदों के हलफनामे का अध्ययन करने के बाद यह रिपोर्ट प्रकाशित की थी. जिसमें दागी नेताओं को लेकर कई खुलासे हुए थे.

ये थीं रिपोर्ट की मुख्य बातें

-जिन 51 जनप्रतिनिधियों ने अपने हलफनामे में महिलाओं के खिलाफ अपराध की बात स्वीकार की है उनमें से 3 सांसद और 48 विधायक हैं.

-334 ऐसे उम्मीदवार थे जिनके खिलाफ महिलाओं के प्रति अपराध के मुकदमे दर्ज हैं, लेकिन उन्हें मान्यता प्राप्त राजनीतिक पार्टियों ने टिकट दिया था.

-हलफनामे के अध्ययन से यह बात सामने आई कि आपराधिक छवि वाले सबसे ज्यादा सांसद और विधायक महाराष्ट्र में हैं, जहां ऐसे लोगों की संख्या 12 थी. दूसरे और तीसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल और ओडिशा हैं.

download (12)नई दिल्ली । गुजरात में आज दूसरे और अंतिम चरण के चुनाव प्रचार का आखिरी दिन है। इसी कड़ी में
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज गुजरात के बनासकांठा पहुंचे, वहां टोटाना आश्रम के दर्शन कर योगी ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला।

योगी ने कहा कि गुजरात की जनता ने दो काम इस चुनाव में अच्छे कर दिए, एक डॉ मनमोहन सिंह का मुंह खुलवा दिया और दूसरा राहुल गांधी को मंदिर जाना सिखा दिया।
आपको बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव का प्रचार शुरू होने के बाद से राहुल गांधी गुजरात के अलग-अलग मंदिरों के दर्शन कर चुके हैं। इसको लेकर भजपा कई बार हमलावर हो चुकी है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ-साथ बाकी नेताओं ने भी इसे चुनावी स्टंट बताते हुए पूछा था कि राहुल अबतक दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर क्यों नहीं गए?

trump-12-1513052596वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को पहली बार चंद्रमा पर अमेरिकियों को भेजने के लिए नासा को निर्देशित जारी किए हैं।, उन्होंने कहा कि, इस कदम से भविष्य में मंगल यात्रा के लिए तैयारी करने में मदद मिलेगी। व्हाइट हाउस की नई अंतरिक्ष नीति पर हस्ताक्षर करते हुए ट्रंप ने कहा कि, इस बार हम वहां अपना झंडा लगाकर अपना निशान नहीं छोड़ेगे। उन्होंने कहा कि इस कदम से मंगल मिशन और भविष्य में अन्य ग्रहों की यात्रा के लिए नींव रख रहे हैं। आपको बता दें कि दिसंबर 1972 में अपोलो 17 मिशन में अंतिम बार अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों ने चंद्रमा का दौरा किया था। 20 जुलाई 1969 में अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री नील आर्मस्ट्रांग पहले व्यक्ति थे जिन्होंने चंद्रमा पर चहलकदमी की थी। ट्रंप और उपराष्ट्रपति माइक पेंस (नवगठित नेशनल स्पेस काउंसिल के प्रमुख) ने चंद्रमा पर फिर से संभावनाएं तलाशने का वीणा उठाया है। व्हाइट हाउस में हुए इस कार्यक्रम में ट्रंप के आलावा मौजूदा और कई पुराने अंतरिक्ष यात्री शामिल हुए। इनमें चांद पर टहलने वाले दूसरे व्यक्ति बज एल्ड्रिन भी शामिल हुए।

_1513064564श्रीलंका की टीम भारत के खिलाफ दूसरे वनडे इंटरनेशनल मैच से दो दिन पहले तक धर्मशाला से बाहर नहीं निकल पायी क्योंकि इस पहाड़ी शहर में भारी बारिश हो रही है। श्रीलंकाई टीम का चार्टर्ड विमान सोमवार सुबह खराब मौसम के कारण मोहाली के लिये उड़ान नहीं भर पाया। दूसरा वनडे 13 दिसंबर को मोहाली में ही खेला जाएगा।

हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ के मीडिया प्रभारी मोहित सूद ने कहा, ”भारतीय टीम सही समय पर मोहाली पहुंच गयी लेकिन लगातार बारिश और खराब मौसम के कारण श्रीलंका की टीम चार घंटे तक हवाई अड्डे पर फंसी रही। इसके बाद टीम ने वापस टीम होटल लौटने का फैसला किया और वह मंगलवार को रवाना होगी। श्रीलंका ने पहले वनडे में भारतीय टीम को सात विकेट से हराकर तीन मैचों की श्रृंखला में 1-0 की बढ़त बना रखी है।

dilip14_555_080317040155_121117113459अपने जमाने के सबसे हैंडसम एक्टर माने जाने वाले एक्टर दिलीप कुमार का आज यानी 11 दिसंबर को 95 साल के हो गए हैं. इस एक्टर ने अपने फिल्मी करियर में एक से बड़कर एक शानदार फिल्में दीं. ना सिर्फ अपनी फिल्मों को लेकर दिलीप कुमार ने सुर्खि‍यां बंटोरी बल्कि अपनी लव लाइफ को लेकर भी ये एक्टर काफी फेमस रहा. दिलीप साहब और उनकी पत्नी सायरा बानो की एक दूसरे के लिए मोहब्बत चाहे आज एक मिसाल पेश करती है लेकिन एक वक्त ऐसा भी आया जब दिलीप कुमार ने सायरा बानो का तलाक दे दिया था.

11 दिसंबर 1922 को पेशावर (पाकिस्तान) में जन्मे दिलीप कुमार और उनकी सायरा बानो संग शादी के 50 साल से भी ज्यादा हो गए हैं. लेकिन एक वक्त ऐसा आया था जब दिलीप कुमार ने सायरा बानो को एक लड़की के लिए तलाक तक दे दिया था.

दिलीप और सायरा की शादी भी विवादों से दूर नहीं थी. दोनों के बीच उस वक्त दरार पड़ गई, जब दिलीप कुमार की लाइफ में पाकिस्तानी लेडी आसमां आ गई थी. यही नहीं दिलीप ने सायरा को तलाक देकर आसमां से शादी कर ली थी. आसमां और दिलीप कुमार की मुलाकात हैदराबाद में एक क्रिकेट मैच के दौरान हुई थी. इसके बाद दोनों का अफेयर लंबे समय से चला था. लोगों के सवाल से बचने के लिए दिलीप कुमार ने घर से निकलना तक छोड़ दिया था.

कहा गया कि आसमां दिलीप साहब को धोखा दे रही थीं. इस वजह से उन्होंने आसमां को तलाक दिया और वापस सायरा की ओर लौट आए. इस अफेयर का जिक्र उन्होंने अपनी बायोग्राफी ‘द सबस्टांस एंड द शैडो’ में किया है.

दिलीप लिखते हैं कि मेरी लाइफ का ये एपिसोड था, जिसे हम दोनों ही भूलना चाहते थे और हमने भूला भी दिया है. जब मेरी मुलाकात आसमां से हुई तो वह अपने पति के साथ रह रही थी.

वह तीन बच्चों की मां थी. आसमां से मेरी मुलाकात मेरी बहन- फॉजिया और सईदा ने कराई थी. आसमां मेरी दोनों बहनों की दोस्त थी. पहले मुझे लगा कि वह भी मेरे दूसरे फैन्स की तरह ही होगी.

आखिरकार 1980 में दिलीप और आसमां ने शादी कर ली थी. इस बीच यह खबरें थीं कि सायरा मां नहीं बन सकतीं, इसलिए दिलीप साहब को दूसरी शादी करनी पड़ी थी. 1982 में उनका और आसमां का तलाक हो गया था.

वहीं, पिता न बनने पर दिलीप ने अपनी बायोग्राफी में लिखा है- सच्चाई यह है कि 1972 में सायरा पहली बार प्रेग्नेंट हुईं. 8 महीने की प्रेग्नेंसी में सायरा को ब्लड प्रेशर की शिकायत हुई. इस दौरान पूरी तरह से डेव्लप हो चुके भ्रूण को बचाने के लिए सर्जरी करना संभव नहीं था. आखिरकार दम घुटने से बच्चे की मौत हो गई.” उनके मुताबिक इस घटना के बाद सायरा कभी प्रेग्नेंट नहीं हो सकीं. हालांकि हमें बाद में पता चला कि सायरा की कोख में बेटा था.

volvo-xc60_1513070887घरेलू वाहन निर्माता महिंद्रा अपने स्वामित्व वाली कंपनी सैंग्यौंग की रैक्सटन कार को एक बार फिर लाने जा रही है। इस कार को अगले साल लॉन्च किया जाएगा। हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस कार को XUV700 के नाम से उतारा जाएगा।

XUV700 महिंद्रा की सबसे महंगी कार होगी। इस लग्जरी एसयूवी का सीधा मुकाबला टोयोटा फॉर्च्यूनर और फोर्ड एंडेवर से रहेगा। हालांकि इसकी कीमत इन दोनों गाड़ियों से कम ही होगी। माना जा रहा है XUV700 की कीमत कंपनी 20-22 लाख रुपए रख सकती है।

कार को पुराना वर्जन के मुकाबले बिलकुल नया डिजाइन और अलग लुक दिया जाएगा। नई रैक्सटन की लंबाई 4.85 मीटर, चौड़ाई 1.92 मीटर और ऊंचाई 1.8 मीटर होगी। कार का व्हीलबेस 2.86 मीटर है।

कार में 2.2 लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन दिया जाएगा, जो 189 बीएचपी की पावर और 420 एनएम का टॉर्क जेनरेट करेगा। यह रियर व्हील ड्राइव और 4-व्हील ड्राइव के ऑप्शन के साथ आती है। इसके अलावा मैनुअल और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का ऑप्शन भी दिया जाएगा।

कार के इंटीरियर में लैदर सीट, डैशबोर्ड हेडलाइनर और डोर ट्रिम्स का इस्तेमाल किया जाएगा। कार में स्मार्टफोन कनेक्टिविटी के साथ टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम दिया जाएगा। सेफ्टी फीचर्स के लिहाज से इसमें एयरबैग्स, एबीएस, EBD जैसे फीचर्स मिलेंगे। इसे 2018 ऑटो एक्सपो में पेश किया जा सकता है।

1492589805-6077नई दिल्ली। भारत ने समृद्धि सूचकांक में 2012 के मुकाबले चार स्थानों की छलांग लगाई है। इसके साथ ही भारत समृद्धि के मामले में चीन से अब मात्र 10 स्थान ही पीछे है। भारत इस सूची में 100वें स्थान पर है, जबकि चीन 90वें स्थान पर है।

लंदन स्थित लेगातुम इंस्टिट्यूट के प्रॉस्पेरिटी इंडेक्स के मुताबिक समृद्धि के मामले में भारत 2012 की तुलना में 2016 में चार स्थान ऊपर चढ़ गया है। लेगातुम रिपोर्ट के मुताबिक भारत में इस वर्ष नोटबंदी और जीएसटी लागू किए जाने से जीडीपी ग्रोथ को झटका लगा है लेकिन इसके बावजूद समृद्धि सूचकांक में इसका ऊपर चढ़ना खास मायने रखता है।

रिपोर्ट के मुताबिक 2017 में भारत ने आर्थिक और शिक्षा के क्षेत्र में शानदार प्रगति की है। इंडेक्स तैयार करने में 149 देशों को 104 विभिन्न पैमानों पर परखा गया। रिपोर्ट के मुताबिक, चीन आर्थिक मोर्चे पर कमजोर पड़ा है क्योंकि लोग व्यापार करने में ज्यादा बाधाएं और प्रतिस्पर्धा के लिए कम प्रोत्साहन महसूस कर रहे हैं।

रिपोर्ट की मानें तो 2017 में पूरी दुनिया में समृद्धि बढ़ी है, लेकिन एशिया-प्रशांत क्षेत्र में यह बढ़त ज्यादा अच्छी है। एशिया-प्रशांत क्षेत्र में चीन और भारत ने बिजनेस एनवायरमेंट के मामले में शानदार प्रदर्शन किया। हालांकि प्राकृतिक वातावरण में इनका सबसे खराब प्रदर्शन रहा। इस रिपोर्ट के मुताबिक आर्थिक समृद्धि के मामले में अब भारत और चीन के बीच की खाई और कम हुई है।
समृद्धि सूचकांक के लिए बिजनेस एनवायर्नमेंट (व्यावसायिक माहौल), गवर्नेंस (शासन-प्रशासन), एजुकेशन (शिक्षा), हेल्थ (स्वास्थ्य), सेफ्टी एंड सिक्योरिटी (सुरक्षा एवं संरक्षा), पर्सनल फ्रीडम (व्यक्तिगत स्वतंत्रता), सोशल कैपिटल (सामाजिक पूंजी) और नैचुरल एनवायर्नमेंट (प्राकृतिक वातावरण) की समीक्षा की गई। लंदन स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स, टुफ्ट्स यूनिवर्सिटी, ब्रूकिंग्स इंस्टिट्यूशंस और यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया, सैन डिएगो जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से विभिन्न विषयों के जानकारों के एक पैनल ने इन नौ पैमानों पर देशों के प्रदर्शन की समीक्षा की।

rahul-gandhi_650x400_41513059031अहमदाबाद: गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण का आज आखिरी दिन है. आज शाम 5 बजे चुनाव प्रचार थम जाएगा. एक ओर जहां पीएम मोदी सी प्लेन में बैठकर अंबाजी के दर्शन किए तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अहमदाबाद के जगन्नाथ मंदिर में पूजा-पाठ किया. इसके बाद राहुल गांधी ने प्रेस कांन्फ्रेंस की और पीएम मोदी सहित बीजेपी सरकार पर कई आरोप लगा दिए. ये वही आरोप थे जो उन्होंने प्रचार अभियान के दौरान लगाए थे. कुल मिलाकर यह गुजरात विधानसभा चुनाव अपने कड़वे बयान के लिए हमेशा याद किया जाएगा. इस चुनाव की खास बात यह रही कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और कांग्रेस नेता सोनिया गांधी प्रचार अभियान से दूरी बना रखी थी. दूसरे चरण के लिए मतदान 14 दिसंबर को होगा और नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे.
गुजरात विधानसभा चुनाव से जुड़ीं 15 बातें
गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार के आखिरी दिन भी ‘मंदिर राजनीति’ चरम पर रही. पूरे चुनाव प्रचार अभियान के दौरान एक दिन शायद ही ऐसा रहा हो जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी गुजरात में किसी मंदिर न गए हो. आज भी उन्होंने जगन्नाथ मंदिर के दर्शन किए. पीएम मोदी भी आज सी प्लेन पर बैठकर अंबाजी के दर्शन किए.
राहुल गांधी सोमनाथ मंदिरमें दर्शन के दौरान एक विवाद में फंस गए जब उनके दर्शन गैर हिंदू रजिस्टर में देखे गए. इसके बाद समूची कांग्रेस बैकफुट पर आ गई. कांग्रेस को राहुल गांधी की जनेऊ वाली तस्वीरें जारी करनी पड़ गईं.
राहुल गांधी ने पूरे प्रचार अभियान के दौरानहर रोज गुजरात से जुड़े मुद्दों पर एक सवालपूछा. आज उन्होंने 14वां सवाल पूछा.
गुजरात विधानसभा चुनाव वैसे तो विकास के मुद्दे पर लड़ा जाना था, लेकिन फिर ‘विकास पागल हो गया’ से जातिगत राजनीति, हिंदू- गैर हिंदू और फिर ‘जनेऊजाल’ में फंसते हुए ‘नीच’ वाले बयान तक पहुंच गया. यहां तक कि गुजरात चुनाव की गर्मी पाकिस्तान तक भी महसूस की गई.
इस पूरे चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी का नया रूप देखने को मिला और वह पिछले 13 सालों के राजनीतिक करियर में पहली बार सबसे ज्यादा परिपक्व दिखाई दिए. सरकार से उन्होंने तीखे सवाल भी पूछे और इसी बीच उनको कांग्रेस का अध्यक्ष भी बना दिया गया.
पिछले 22 सालों में पहली बार ऐसा हुआ जब बीजेपी को कांग्रेस से टक्कर मिलती दिखाई दे रही है. इसकी वजह पीएम मोदी का गुजरात से बाहर होना भी है. इस बीच आरक्षण के लिए शुरू हुए आंदोलनों ने भी गुजरात में बीजेपी के लिए परेशानी का सबब बने.
गुजरात चुनाव कड़वाहट भरे प्रचार अभियान के लिए भी जाना जाएगा एक ओर जहां पीएम मोदीको लेकर ‘नीच’ जैसे शब्दों के इस्तेमाल पर बवाल हुआ तो बीजेपी नेताओं की ओर से किए गए पलटवार भी चर्चा में थे.
पीएम मोदी ने मणिशंकर अय्यर के नीच वाले बयान को मुद्दा बना दिया तो गुजरात चुनाव में पाकिस्तान के हस्तक्षेप की बात प्रधानमंत्री ने खुले मंच पर कह दी. देश के इतिहास में शायद ऐसा पहली बार हुआ था. पाकिस्तान ने भी इसमें खुद को घसीटने जाने पर आपत्ति जताई.
पाकिस्तान की ओर से इस बयान पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पाकिस्तान को नसीहत दी कि वह भारतीयों के बारे में लोकतंत्र की सीख न दे.
यह पूरा चुनाव शुरू से ही विवादों में घिरा रहा. पहले तो इसकी तारीखों की घोषणा न होने पर कांग्रेस ने चुनाव आयोग के बीजेपी से मिले होने के आरोप लगा दिया. इसके बाद चुनाव आयोग ने बीजेपी को नसीहत दी कि हाल ही में कम की गई जीएसटी की दरों को कम करने को फैसले को चुनाव प्रचार का हिस्सा न बनाए.
कई सालों को बाद ऐसा देखा गया कि कांग्रेस चुनाव प्रचार के दौरान ‘नरम हिंदुत्व’ की ओर झुकती नजर आई. राहुल गांधी का मंदिर जाना इसी का हिस्सा था. इस बात को कांग्रेस के नेता भी स्वीकारने में हिचकिचाए नहीं. इसकी वजह एंटनी समिति की वह रिपोर्ट थी जिसमेें 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार की वजह उसकी तुष्टिकरण की छवि भी रही है.
पूरे चुनाव प्रचार के अभियान पीएम मोदी सहित पूरी केंद्र सरकार गुजरात में प्रचार करते नजर आई.
राहुल गांधी ने चुनाव प्रचार अभियान से पहले ही सबको नसीहत दे दी थी कि कोई भी पीएम मोदी पर व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करेगा. अब देखने वाली बात यह होगी कि मणिशंकर अय्यर का ‘नीच’ वाला बयान कितना क्या असर डालता है.
पूरे प्रचार के अभियान कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम पहली बार बीजेपी को कड़ी टक्कर देती दिखाई दी. इस बीच राहुल का पिद्दी वाला बयान भी चर्चा में रहा.
पाटीदारों को आरक्षण का वादा करके उनका समर्थन पाने वाली कांग्रेस के घोषणापत्र में इस मुद्दे पर कुछ भी साफ नहीं है. बीजेपी ने पहले चरण के चुनाव प्रचार के खत्म होने से एक दिन पहले विजन डॉक्यूमेंट जारी किया . राहुल गांधी ने इसको भी चुनावी मुद्दा बनाया था.

मायावती को राज्यसभा पहुंचाने बसपा का नया प्लान, जानिए क्यों है मध्यप्रदेश टारगेट

Posted by mp samachar On December - 11 - 2017Comments Off on मायावती को राज्यसभा पहुंचाने बसपा का नया प्लान, जानिए क्यों है मध्यप्रदेश टारगेट

rw1128_2093015_835x547-mरीवा। बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के राज्यसभा जाने का रास्ता उत्तर प्रदेश में मिली करारी हार के बाद बाधित हुआ है। उनका कार्यकाल 2019 तक होने के बावजूद त्यागपत्र दिए जाने के बाद अब राज्यसभा जाने की राह मुश्किल हो रही है। रीवा में आयोजित पार्टी के जोन स्तरीय सम्मेलन में राज्यसभा सांसद एवं प्रदेश प्रभारी अशोक सिद्धार्थ ने कहा कि प्रदेश में 50 सीट से अधिक जीतने का टारगेट है। सभी 230 सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ेगी।

मध्यप्रदेश से ही टिकी उम्मीदें
नए प्लान में यदि पार्टी सफल हुई तो राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को मध्यप्रदेश से ही राज्यसभा भेजा जाएगा। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वह अपने-अपने बूथ पर पूरी ताकत के साथ काम करें और अधिक से अधिक सीट जिताने में सहयोग करें। उत्तर प्रदेश से लगे जिलों में पार्टी मजबूत स्थिति में है। अन्य जिलों में भी अच्छे प्रत्याशियों का चयन किया जाएगा। यह चुनाव प्रदेश की भाजपा सरकार के विदाई का है।

कमजोर बूथ पर सदस्य बढ़ाएं
विधानसभा के पूर्व प्रत्याशियों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से प्रदेश प्रभारी ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में जिन बूथों पर पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था, वहां पर सदस्यों की संख्या बढ़ाने के साथ ही नियमित कार्यक्रम आयोजित कर लोगों से संवाद स्थापित किए जाएं। पुराने नेताओं से भी कहा है कि वह फील्ड में निकलें और पार्टी के लिए समय देकर संगठन को मजबूत बनाएं।

15 जनवरी को प्रदेश भर में भव्य कार्यक्रम
बसपा का अगला बड़ा कार्यक्रम 15 जनवरी को प्रदेश भर में होगा। मायावती का इस दिन जन्मदिन भी है, इस कारण हर विधानसभा क्षेत्र में बड़े कार्यक्रम होंगे। संभाग स्तर पर कार्यक्रम की रूपरेखा बाद में तय की जाएगी। जहां पर पार्टी के बड़े नेताओं को पहुंचना है।

इन्होंने भी किया संबोधित
शहर के युवराज गार्डन में आयोजित जोन स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में प्रदेश प्रभारी के साथ ही सह प्रदेश प्रभारी अंतर सिंह राव, प्रदीप अहिरवार, रामलखन पटेल, प्रदेश अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद अहिरवार, जोनप्रभारी रामसखा वर्मा, विधायक शीला त्यागी, ऊषा चौधरी, पूर्व सांसद देवराज सिंह पटेल आदि ने संबोधित किया। सभी ने पूरी ताकत के साथ विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटने का आह्वान किया।

पुराने नेताओं को मिलेगी तरजीह
बसपा के पुराने नेताओं ने पार्टी को स्थापित करने में कड़ी मेहनत की थी। अब वह हासिए पर धकेल दिए गए हैं। पार्टी अब ऐसे नेताओं को तरजीह देकर उनकी ऊर्जा का इस्तेमाल करेगी। कुछ नेता भाजपा में चले गए हैं तो कुछ अब कांग्रेस में जाने की तैयारी कर रहे हैं, ऐसे में डैमेज कंट्रोल भी पार्टी के लिए जरूरी माना जा रहा है।

8 साल बाद भारतीय जमीन पर जीता श्रीलंका, वनडे में भारत का घर में तीसरा सबसे कम स्कोर

Posted by mp samachar On December - 11 - 2017Comments Off on 8 साल बाद भारतीय जमीन पर जीता श्रीलंका, वनडे में भारत का घर में तीसरा सबसे कम स्कोर

नई दिल्ली। श्रीलंका के खिलाफ हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ स्टेडियम में रविवार को खेले गए पहले वनडे मैच में सुरंगा लकमल की गेंदबाजी के आगे लड़खड़ाई भारतीय टीम ने घरेलू जमीन पर वनडे में अपना तीसरा सबसे कम स्कोर बनाया है। भारत का घरेलू जमीन पर सबसे कम स्कोर श्रीलंका के खिलाफ ही है। उसने कानपुर में 1986 में श्रीलंका के खिलाफ खेले गए वनडे मैच में 76 रन बनाए थे। 1993 में भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 100 रन बनाए थे।

सबसे कम स्कोर का रिकॉर्ड जिम्बाब्वे के नाम है
धर्मशाला में भारत ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए महेंद्र सिंह धौनी (66) की अर्धशतकीय पारी के दम पर श्रीलंका के खिलाफ 112 रनों का स्कोर खड़ा किया है। एक समय लग रहा था कि भारत 50 का आंकड़ा भी नहीं छू पाएगा, लेकिन धौनी की अर्धशतकीय पारी के कारण भारत 112 रनों का स्कोर बना पाया। धौनी के कारण भारतीय टीम बेहद शर्मनाक स्थिति में जाने से बच गई और इसके साथ ही वनडे प्रारूप में सबसे न्यूनतम स्कोर के रिकॉर्ड से भी। वनडे की एक पारी में सबसे कम स्कोर का रिकॉर्ड जिम्बाब्वे के नाम है। श्रीलंका ने ही उसे 24 अप्रैल 2004 में हरारे में 35 रनों पर समेट दिया था। भारत का न्यूनतम स्कोर भी श्रीलंका के खिलाफ है। श्रीलंका ने ही शारजाह में 29 अक्टूबर 2000 को भारत को 54 रनों पर ढेर कर दिया था।

16 रनों के स्कोर में अपने पांच विकेट गंवाने वाली पहली टीम
इसके अलावा, वनडे इतिहास में भारतीय टीम केवल 16 रनों के स्कोर में अपने पांच विकेट गंवाने वाली पहली टीम बन गई है। भारत ने पिछली बार 1983 विश्व कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ 17 रनों के स्कोर पर अपने पांच विकेट गंवाए थे, जिसके बाद दिग्गज आलराउंडर कपिल देव ने नाबाद 175 रनों की पारी खेल भारत की साख बचाई थी। भारत के शीर्ष पांच बल्लेबाजों ने धर्मशाला में जारी इस मैच में सबसे कम स्कोर का रिकॉर्ड भी बनाया है। इन पांच बल्लेबाजों ने केवल 13 रन बनाए। इससे पहले, भारतीय टीम के शीर्ष पांच बल्लेबाजों ने 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ चेन्नई में 18, श्रीलंका के खिलाफ साल 2000 में शारजाह में 23, टोरंटो में वेस्टइंडीज के खिलाफ 1999 में 19 और 1983 में जिम्बाब्वे के खिलाफ टुनब्रिज वेल्स में 15 रन बनाए थे और पांच विकेट गंवाए थे।

8 साल बाद हारा भारत
इसके अलावा, भारत ने 2001 के बाद से वनडे प्रारूप में पहले पांच ओवरों में सबसे कम स्कोर हासिल किया है। वह पांच ओवरों में केवल दो रन ही बना पाया। इस सूची में इंग्लैंड पहले स्थान पर है। वह 2001 में द ओवल मैदान पर खेले गए मैच में आस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले पांच ओवरों में एक विकेट पर केवल एक रन ही बना पाया था। इसी के साथ श्रीलंका ने भारत की ज़मीन पर 8 साल पुराण जीत का सूखा ख़तम किया। श्रीलंका टीम पिछले 8 साल से भारत को भारत में नहीं हार पायी थी।

top इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा दुष्कृत्य निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी प्रदेश बधाई बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल मंत्रालय मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी मध्यप्रदेश मनरेगा मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विकास विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सहकारिता सीहोर स्वास्थ्य हत्या