19
October - 2017
Thursday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

विश्व बैंक ने चेताया, नोटबंदी और GST की वजह से भारत की वृद्धि दर रह सकती है कम

Posted by mp samachar On October - 11 - 2017Comments Off on विश्व बैंक ने चेताया, नोटबंदी और GST की वजह से भारत की वृद्धि दर रह सकती है कम

world-bank_नई दिल्ली: भारत की आर्थिक वृद्धि को लेकर बनी चिंताओं के बीच विश्वबैंक ने उसकी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर कम रहने का अनुमान जताया है. नोटबंदी और माल एवं सेवाकर (जीएसटी) को प्रमुख कारण बताते हुए उसने 2017 में भारत की वृद्धि दर 7% रहने की बात कही है जो 2015 में यह 8.6% थी.

अगले 10 साल में विश्व की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा भारत: HSBC

विश्वबैंक ने यह चेतावनी भी दी है कि अंदरुनी व्यवधानों से निजी निवेश के कम होने की संभावना है, जो देश की वृद्धि क्षमताओं को प्रभावित कर नीचे की ओर ले जाएगा. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भी 2017 के लिए भारत की वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.7% कर दिया था. यह उसके पूर्व के दो अनुमानों से 0.5% कम है, जबकि चीन के लिए उसने 6.8% की वृद्धि दर का अनुमान जताया है.

सिंधु जल संधि पर अब तक नहीं लिया गया कोई फैसला: विश्व बैंक
अपनी द्विवार्षिक दक्षिण एशिया आर्थिक फोकस रपट में विश्वबैंक ने कहा है कि नोटबंदी से पैदा हुए व्यवधान और जीएसटी को लेकर बनी अनिश्चिताओं के चलते भारत की आर्थिक वृद्धि की गति प्रभावित हुई है. परिणामस्वरूप भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2017 में 7% रहने का अनुमान है जो 2015 में 8.6% थी. सार्वजनिक व्यय और निजी निवेश के बीच संतुलन स्थापित करने वाली स्पष्ट नीतियों से 2018 तक यह वृद्धि दर बढ़कर 7.3% हो सकती है.

Comments are closed.

top इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा दुष्कृत्य निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी प्रदेश बधाई बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल मंत्रालय मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी मध्यप्रदेश मनरेगा मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विकास विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सहकारिता सीहोर स्वास्थ्य हत्या