18
January - 2018
Thursday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

खण्डवा में दुष्कर्म के प्रकरण में महज दस दिन में हुआ फैसला

Posted by mpsamachar On February - 7 - 2013Comments Off on खण्डवा में दुष्कर्म के प्रकरण में महज दस दिन में हुआ फैसला

courtखण्डवा जिले में नाबालिग के अपहरण और दुष्कर्म के मामले में मात्र दस दिन की अवधि में दोषियों को सजा सुना दी गई है। जिले में दुष्कृत्य के प्रकरण में त्वरित न्याय का यह दूसरा फैसला है। वर्तमान प्रकरण में नाबालिग के अपहरण व उसके साथ दुष्कर्म मामले में आरोपी कपिल प्रेमलाल (22) तथा सह आरोपी (26) के विरूद्ध विशेष न्यायालय में आरोप तय हुए थे। प्रकरण की सुनवाई 2 से 6 फरवरी के बीच की गई।

अभियोजन के अनुसार 6 दिसम्बर, 2012 को ग्राम गोमुख से कपिल 13 वर्षीय बालिका अगवाकर ले गया था। उसने पीड़िता को अपने जीजा किशोर के घर आशापुर और सूरज के घर नागोतार में छुपाकर रखा। आरोपी कपिल ने बालिका से दुष्कर्म भी किया।

पीड़िता के परिजनों की शिकायत पर खालवा पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर हरसूद के न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी श्री संजय गुप्ता की अदालत में चालान पेश किया। यह मामला सत्र (विशेष न्यायालय) में 28 जनवरी को कमिट हुआ।

न्यायाधीश श्री जगदीश बाहेती ने कपिल के विरूद्ध भादवि धारा 363, 366, 376 और लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम की धारा 6 के आरोप निर्धारित किए। सह आरोपी किशोर और सूरज के विरूद्ध धारा 363, 366, 368 व 6/17 के आरोप तय हुए।

आज 6 फरवरी को जिला सत्र न्यायाधीश श्री बाहेती ने अभियुक्त कपिल उर्फ मुकेश कोरकू को आई.पी.सी. की धारा 363 के तहत तीन वर्ष व एक हजार रुपये का जुर्माना तथा लैंगिक अपराधों से संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 6 के तहत 10 साल की सजा व 5000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई। अन्य को बरी कर दिया गया। दोनों सजाएँ साथ-साथ चलेंगी।

देश में पहली बार खण्डवा जिले में दुष्क्रत्य के दोषी को नये कानून में 4 दिन के भीतर 14 वर्ष की सजा

Posted by mpsamachar On January - 29 - 2013Comments Off on देश में पहली बार खण्डवा जिले में दुष्क्रत्य के दोषी को नये कानून में 4 दिन के भीतर 14 वर्ष की सजा

rapeभारत में पहली बार मध्यप्रदेश के खण्डवा जिले में अबोध बालिका के साथ दुष्क्रत्य के दोषी को प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्राम सेक्सुअल अफेन्सेस एक्ट 2012 के तहत 4 दिन के भीतर सुनवाई पूरी कर 14 वर्ष के कारावास की सजा सुनाई गई है।

खण्डवा जिले के नर्मदानगर थाना क्षेत्र के ग्राम भादलीखेड़ा में 23 नवम्बर 2012 को 24 वर्षीय आरोपी जितेन्द्र ने डेढ़ वर्ष की एक बालिका के साथ बलात्कार का प्रयास करते हुए अप्राकृतिक योनाचार किया था। प्रकरण जघन्य/सनसनीखेज अपराध की श्रेणी में चिन्हित किया गया।

जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने उपरोक्त कानून की धारा 6 में आरोप विरचित कर मामला संज्ञान में लिया। प्रकरण में अभियोजना द्वारा 21 से 24 जनवरी 2013 तक रोजाना साक्ष्य अंकित किए गए। अदालत में 28 जनवरी को अभियुक्त का प्रशिक्षण कर उसके द्वारा बचाव में साक्ष्य न देने से उसी दिन तर्क सुनकर निर्णय पारित कर दिया।

अभियुक्त को अपराध में 14 वर्ष के कठोर कारावास एवं 5000 रुपये के अर्धदण्ड से दण्डित किया गया है। न्यायालय ने अपने निर्णय में 5000 रुपये के प्रतिकर के अतिरिक्त कम उम्र की बालिका होने से अधिनियम के नियम 7 के अंतर्गत प्रतिकर दिलवाये जाने की अनुशंसा भी राज्य शासन से की है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा श्री सिंगाजी विद्युत ताप परियोजना का अवलोकन

Posted by mpsamachar On October - 18 - 2012Comments Off on मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा श्री सिंगाजी विद्युत ताप परियोजना का अवलोकन

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज खण्डवा जिले के ग्राम दोगलिया में श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना की सभी इकाइयों का अवलोकन किया और कार्यों की विस्तार से समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि परियोजना के कार्यों को हर हालत में निर्धारित समय-सीमा के भीतर पूरा किया जाये। समीक्षा बैठक में बताया गया कि परियोजना की प्रथम इकाई 31 मार्च, 2013 तक तथा दूसरी इकाई 15 अगस्त, 2013 से 600-600 मेगावॉट बिजली का उत्पादन शुरू कर देंगी। इस अवसर पर ऊर्जा मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, आदिम-जाति कल्याण मंत्री श्री विजय शाह तथा संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने बैतूल जिले के सारणी थर्मल पॉवर प्रोजेक्ट के कार्यों की भी समीक्षा की। समीक्षा में बताया गया कि इस प्रोजेक्ट की भी दोनों निर्माणाधीन इकाई जनवरी, 2013 और मई, 2013 से 500 मेगावॉट बिजली का उत्पादन शुरू कर देंगी। इस प्रकार सिंगाजी और सारणी परियोजना द्वारा वर्ष 2013 में 1700 मेगावॉट बिजली का उत्पादन शुरू हो जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना के 400/200 के.व्ही. स्विच कन्ट्रोल-रूम का लोकार्पण तथा टर्बाइन यूनिट-1 के एल.पी. रोस्टर सेक्शन का भूमि-पूजन किया। सिंगाजी परियोजना का क्रियान्वयन मध्यप्रदेश पॉवर जनरेटिंग कम्पनी द्वारा दो चरण में किया जा रहा है। प्रथम चरण में 67 अरब 50 करोड़ रुपये की लागत से दो इकाइयों में 1200 मेगावॉट बिजली उत्पादन किया जायेगा।

adhi mahotsav 2017 adhi mahotsav bhopal adhi mahotsav news bhopal haat bazaar top trifed bhopal आदि महोत्सव इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल भोपाल हाट मंत्रालय मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार राष्ट्रीय जनजातीय उत्सव रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर हत्या