20
June - 2018
Wednesday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

मध्यप्रदेश में महिला उत्पीड़न एवं दुष्कृत्य संबंधी चिन्हित अपराधों में त्वरित कार्यवाही

Posted by mpsamachar On February - 6 - 2013Comments Off on मध्यप्रदेश में महिला उत्पीड़न एवं दुष्कृत्य संबंधी चिन्हित अपराधों में त्वरित कार्यवाही

courtमहिला उत्पीड़न एवं बलात्कार संबंधी चिन्हित अपराधों में प्रदेश में त्वरित कार्यवाही की जा रही है। समय-सीमा में प्रकरणों की विवेचना कर अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किए जा रहे हैं। न्यायालय में भी त्वरित निर्णय हो रहे हैं और न्यायाधीशों द्वारा अपराधियों को कठोर सजा सुनाई जा रही है।

वर्ष 2012 में कुल 226 जघन्य एवं सनसनीखेज गंभीर प्रकृति के प्रकरण चिन्हित किए गए हैं। इनमें से 75 प्रकरण महिलाओं के साथ घटी आपराधिक घटनाओं से संबंधित है। इन प्रकरणों में विवेचना एवं अभियोजन स्तर पर वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा मॉनीटरिंग की जा रही है। परिणामस्वरूप इस प्रकार के प्रकरणों में 61 प्रतिशत की सजा की दर वर्ष 2012 में रही है।

धार में आरोपी को 35 दिवस में सजा

धार जिले के मनावर थाना के ग्राम तलाईपुरा करोली में नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कृत्य और गला दबाकर हत्या करने के मामले में आरोपी सुनील बलाई को मृत्युदण्ड से दण्डित किया गया। थाने में 31 अक्टूबर को प्रकरण पंजीबद्ध किया गया और 9 दिन में अनुसंधान पूर्ण कर चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। न्यायालय द्वारा 5 दिसम्बर को आरोपी को मृत्यु दण्ड से दण्डित किया गया। इस तरह से मात्र 35 दिन में संपूर्ण कार्यवाही पूर्ण हुई।

सतना जिले में आरोपी को 30 दिवस में सजा

सतना जिले के कोलगवां थाना क्षेत्र में 8 अप्रैल को नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कृत्य के अपराधी राकेश बर्मन को 24 घंटे में गिरफ्तार किया गया। पुलिस द्वारा 21 दिवस में अनुसंधान पूर्ण कर 2 मई को चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। न्यायालय द्वारा मात्र 7 दिन में निर्णय पारित कर आरोपी को 10 वर्ष की कठोर सजा तथा 10 हजार रुपये के जुर्माने से दण्डित किया गया। इस प्रकार घटना से निर्णय तक की पूरी प्रक्रिया 30 दिन में पूरी की गई।

इसी तरह वर्ष 2012 में ही देवास में कैलाश बलाई द्वारा एक महिला भंवरबाई की हत्या एवं पैर काटकर चाँदी की कड़ी लूटने के मामले में आरोपी को आजीवन कारावास एवं अर्थदण्ड से दण्डित किया गया। जिला डिण्डोरी के थाना शाहपुर में आरोपी संतोष एवं राजकुमार द्वारा एक नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कृत्य की चेष्टा के प्रकरण में आरोपी को 7 वर्ष के कठोर कारावास की सजा से दण्डित किया गया। जिला इंदौर के थाना कसरावद क्षेत्र के आरोपी राजेन्द्र द्वारा नाबालिग के साथ दुष्कृत्य किया गया और फिर उसे जलाकर हत्या का प्रयास किया गया। पीड़िता की उपचार के दौरान मृत्यु हो गई। प्रकरण में न्यायालय द्वारा आरोपी को आजीवन कारावास एवं अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।

इसी प्रकार जिला सीहोर के थाना सिद्दीकगंज में श्री भोपाल सिंह द्वारा अपनी पत्नी शुगनबाई की हत्या के प्रकरण में न्यायालय द्वारा आरोपी को आजीवन कारावास एवं अर्थदण्ड से दण्डित किया गया। जिला ग्वालियर के थाना विश्वविद्यालय के आरोपी निरंजन गुर्जर, राकेश कुशवाह एवं विशम्भर सिंह गुर्जर द्वारा पीड़िता के साथ दुष्कृत्य करने के प्रकरण में सभी आरोपियों को 14-14 वर्ष के सश्रम कारावास से दण्डित किया गया। पीड़िता को जबरदस्ती बोलेरो में बैठाकर दुष्कृत्य किया गया था। जिला खण्डवा के थाना नर्मदा नगर के आरोपी जितेन्द्र द्वारा डेढ़ वर्षीय बालिका के साथ दुष्कृत्य करने के प्रकरण में आरोपी को 14 वर्ष के कठोर कारावास एवं 5000 रुपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया।

दुष्कृत्य के आरोपियों के खिलाफ सिर्फ 11 दिन में चालान पेश

Posted by mpsamachar On January - 3 - 2013Comments Off on दुष्कृत्य के आरोपियों के खिलाफ सिर्फ 11 दिन में चालान पेश

rapeजबलपुर जिले की सिहोरा तहसील के गाँव रानीताल में एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कृत्य के प्रकरण में दो व्यक्ति के खिलाफ पुलिस ने तत्परता से कार्यवाही करते हुए सिर्फ 11 दिन में मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी के समक्ष चालान पेश कर दिया है। हाल ही में धार जिले के एक दुष्कर्म प्रकरण में तेजी से कार्रवाई कर दोषियों को मात्र 36 दिन की अवधि में मृत्यु दण्ड की सजा दिलाने में पुलिस बल के अभियोजन अधिकारियों को सफलता मिली थी।

जबलपुर के प्रकरण में पीड़िता ने 19 दिसम्बर को गोसलपुर पुलिस थाने में खिल्लू कुम्हार और कंधीराम द्वारा अपने साथ दुष्कृत्य करने की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। प्रकरण में पुलिस ने तेजी से कार्यवाही कर 30 दिसम्बर को आरोपी के खिलाफ चालान पेश कर दिया। मामले की सुनवाई अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश की अदालत में होगी।

दुष्कृत्य की शिकार लड़की ने थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि जब वह बर्तन साफ कर रही थी, तब खिल्लू कुम्हार ने अपने साथी कंधीराम की मदद से उसे पकड़ा और मुँह में पट्टी बाँधकर घर के अंदर ले गया। खिल्लू कुम्हार ने बाहर से ताला लगा दिया। फिर कंधी ने उसे मारा और उसके साथ गलत काम किया। उसने पीड़िता को जान से मारने की भी धमकी दी।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिसम्बर में अपर सत्र न्यायाधीश, मनावर जिला धार की अदालत में 4 वर्ष की नन्ही बच्ची से दुष्कृत्य के एक प्रकरण में 35 दिन के भीतर सुनवाई पूरी कर आरोपी को मृत्यु दण्ड की सजा सुनाई गई थी।

दुष्कृत्य हत्या से भी बड़ा अपराध

Posted by mpsamachar On December - 24 - 2012Comments Off on दुष्कृत्य हत्या से भी बड़ा अपराध

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि महिलाओं-बेटियों के विरूद्ध बलात्कार जैसे जघन्य अपराधों में मृत्यु दण्ड का प्रावधान होना चाहिये। यह हत्या से भी बड़ा अपराध है। उन्होंने कहा कि कानून में अपेक्षित संशोधन के लिये संसद का विशेष सत्र बुलाया जाय।

श्री चौहान आज यहाँ मुख्यमंत्री निवास पर उन्हें ज्ञापन देने आये भोपाल नगर के युवा, विद्यार्थी तथा पालकों से चर्चा कर रहे थे। श्री चौहान ने बताया कि उन्होंने दुष्कृत्य, छेड़खानी की घटनाओं की प्रभावी रोकथाम सुनिश्चित करने के लिये आज अधिकारियों की उच्च-स्तरीय बैठक बुलायी थी। अपराधियों के विरूद्ध कार्रवाई के लिये बैठक में कड़े फैसले लिये गये हैं। इन फैसलों में छेड़खानी तथा दुष्कृत्य करने वालों को शासकीय नौकरी से वंचित करने, प्रकरणों के शीघ्र निराकरण के लिये हर जिले में फास्ट ट्रेक कोर्ट बनाने जैसे निर्णय शामिल हैं। उन्होंने कहा कि कड़ी सजा का प्रावधान करने के लिये राज्य द्वारा भी आवश्यक कानून बनाये जायेंगे। ऐसे प्रकरणों की पुलिस विवेचना में तेजी तथा 24 घंटे के भीतर अनिवार्य से चिकित्सकीय प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के नियम बनाये जायेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरों में जगह-जगह सी.सी.टी.व्ही. कैमरे लगाये जा रहे हैं। प्रकरणों में की गयी कार्रवाई की वे स्वयं भी साप्ताहिक समीक्षा करेंगे। श्री चौहान ने कहा कि ऐसी घटनाएँ मन को व्यथित और विचलित कर देती हैं। ऐसे मामलों में पूरे समाज को भी जागरूक होना होगा। बेटा-बेटी के बीच भेदभाव से दूर रहकर बेटियों को सशक्त और स्वावलम्बी बनाने में आगे आना होगा। श्री चौहान ने पूरे प्रदेश में बेटियों को आत्म-रक्षा का प्रशिक्षण देने के लिये मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग दिये जाने की भी जानकारी दी। उन्होंने ज्ञापन सौंपने आयी बेटियों की माँग पर शहरों के भीड़ भरे इलाकों तथा सार्वजनिक स्थलों में विशेष सुरक्षा व्यवस्था करने के लिये निर्देश दिये। उन्होंने केवल बेटियों वाले अभिभावकों को पेंशन दिये जाने के निर्णय की भी जानकारी दी।

श्री चौहान ने वाहनों से काली फिल्म हटाने, वाहन चालकों को अपनी नेम प्लेट लगाने तथा ड्रेस पहनने की अनिवार्यता के निर्णय की जानकारी भी ज्ञापन सौंपने आये युवाओं को दी। ज्ञापन सौंपने आये युवाओं तथा अभिभावकों ने भी अपराधों की रोकथाम के सुझाव दिये।

adhi mahotsav 2017 adhi mahotsav bhopal adhi mahotsav news bhopal haat bazaar top trifed bhopal आदि महोत्सव इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल भोपाल हाट मंत्रालय मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार राष्ट्रीय जनजातीय उत्सव रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर हत्या