19
April - 2018
Thursday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना एक अप्रैल से

Posted by mpsamachar On March - 30 - 2013Comments Off on मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना एक अप्रैल से

yuva panchayatमध्यप्रदेश में युवाओं को स्वयं के उद्योग-व्यवसाय शुरू करने में मदद के लिये एक अप्रैल से मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना लागू हो जायेगी। इसकी घोषणा मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने हाल ही में युवा पंचायत में की थी। योजना में बैंक ऋण के प्रकरणों के निराकरण के लिये एक माह की समय-सीमा तय की गई है।

योजना का क्रियान्वयन ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग तथा शहरी क्षेत्रों में वाणिज्य, उद्योग और रोजगार विभाग के माध्यम से किया जायेगा। इसका उद्देश्य सभी वर्ग के युवाओं को स्वयं का उद्योग, सेवा व्यवसाय स्थापित करने के लिये बैंकों के माध्यम से ऋण उपलब्ध करवाना है। हितग्राहियों को मार्जिन-मनी सहायता तथा ब्याज अनुदान की सुविधा दी जायेगी। योजना में आयु सीमा का कोई बंधन नहीं है। प्रचलित योजनाओं में निर्धारित अहर्ताओं के अनुसार हितग्राहियों को लाभान्वित किया जाता रहेगा। मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना में गारंटी शुल्क का भुगतान तथा ब्याज अनुदान जैसी विशिष्ट सुविधाएँ दी जायेगी। अतः प्रचलित योजनाओं के ऐसे हितग्राही, जो मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना का लाभ प्राप्त करने की पात्रता रखते हैं, उन्हें वर्तमान सुविधाओं के अतिरिक्त इस योजना की सुविधाएँ भी दी जायेंगी।

पात्रता- आवेदक को मध्यप्रदेश का मूल निवासी, दसवीं कक्षा उत्तीर्ण तथा आवेदन की तिथि को 18 से 35 वर्ष के बीच आयु का होना चाहिये। अनुसूचित-जाति, जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, महिला एवं निःशक्तजन को अधिकतम आयु में 5 वर्ष की छूट रहेगी। ऋण गारंटी निधि योजना में गारंटी शुल्क प्रतिपूर्ति की सुविधा सिर्फ उद्योग एवं सेवा क्षेत्र के लिये दी जायेगी, व्यवसाय क्षेत्र के लिये नहीं। आवेदक किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक/वित्तीय संस्था/सहकारी बैंक का डिफाल्टर नहीं होना चाहिये। यदि कोई व्यक्ति ऐसी किसी अन्य सरकारी योजना में पूर्व से सहायता प्राप्त कर रहा हो, तो वह इस योजना में पात्र नहीं होगा। सहायता सिर्फ एक उद्योग/सेवा/व्यवसाय के लिये ही दी जायेगी।

प्राथमिकता- आईटीआई, डिप्लोमा, इंजीनियरिंग, अन्य अधिकृत संस्थाओं द्वारा दिये गये माड्यूलर एम्प्लायबल स्किल्स प्रमाण-पत्र रखने वाले आवेदकों को प्राथमिकता दी जायेगी। साथ ही गरीबी रेखा से नीचे के परिवारों की सर्वे सूची में अंकित हितग्राहियों, अनुसूचित-जाति, जनजाति, निःशक्तजन और महिला हितग्राहियों के साथ-साथ उद्यमिता विकास कार्यक्रम में प्रशिक्षित हितग्राहियों को भी प्राथमिकता दी जायेगी।

वित्तीय सहायता– वित्तीय सहायता के लिये दो तरह की श्रेणियाँ निर्धारित की गई हैं। एक श्रेणी में 50 हजार रुपये तक की परियोजना में तथा दूसरी श्रेणी में 50 हजार से अधिक और 25 लाख तक की परियोजनाओं के लिये सहायता दी जायेगी।

प्रथम श्रेणी में परियोजना लागत पर मार्जिन मनी सहायता 20 प्रतिशत (अधिकतम 10 हजार रुपये) होगी। परियोजना लागत पर ब्याज अनुदान 5 प्रतिशत की दर से 5 वर्ष तक (2000 रुपये अधिकतम प्रतिवर्ष) दिया जायेगा। गारंटी शुल्क एक प्रतिशत की दर से अधिकतम 500 रुपये तथा गारंटी सेवा शुल्क 0.5 प्रतिशत की दर से (4 वर्ष के लिये) अधिकतम 1000 रुपये दी जायेगी।

दूसरी श्रेणी के हितग्राहियों को पूँजीगत लागत तथा कार्यशील पूँजी पर ब्याज अनुदान 5 प्रतिशत की दर से 5 वर्ष तक देय होगा। गारंटी शुल्क 1 से 1.5 प्रतिशत, अधिकतम 37 हजार 500 रुपये दी जायेगी। गारंटी सेवा शुल्क (4 वर्ष के लिये) 0.5 से 0.75 प्रतिशत, अधिकतम 75 हजार रुपये दी जायेगी।

आवेदन प्रक्रिया– आवेदक द्वारा निर्धारित प्रपत्र में आवेदन जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र/जनपद पंचायत में आवश्यक सहपत्र के साथ प्रस्तुत किये जायेंगे। अपूर्ण आवेदन पूर्ण करने के लिये आवेदकों को सूचित किया जायेगा। आवेदक द्वारा आवेदन के साथ प्रस्तावित गतिविधि की प्रोजेक्ट रिपोर्ट संलग्न की जायेगी।

आवेदनों का निराकरण– जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र तथा जनपद पंचायत द्वारा योजना में प्राप्त आवेदन-पत्र तथा परियोजना प्रतिवेदन इस योजना के लिये गठित टास्क फोर्स समिति के समक्ष प्रस्तुत किये जायेंगे। अनुमोदन के बाद संबंधित बैंकों को अनुशंसा के साथ प्रकरण भेजे जायेंगे। उद्योग एवं सेवा उद्यमों में गारंटी, ऋण गारंटी निधि योजना के माध्यम से दी जा रही है, अतः बैंक द्वारा किसी प्रकार की कोलेटरल सिक्युरिटी की माँग आवेदक से नहीं की जायेगी। बैंक द्वारा 30 दिन के भीतर प्रकरण का निराकरण किया जायेगा। 30 दिन में बैंक से प्रकरण निराकरण की जानकारी न मिलने पर जिला-स्तर पर गठित समीक्षा समिति के समक्ष लम्बित प्रकरणों के संबंध में जानकारी दी जायेगी।

जिला-स्तरीय समीक्षा समिति- योजना के सुचारु क्रियान्वयन के लिये जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समिति सतत समीक्षा करेगी। लम्बित प्रकरणों, सहायता प्राप्त उद्यमों की स्थापना, उद्यमों की समस्याओं तथा अन्य विषयों की समीक्षा समिति करेगी।

प्रशिक्षण- योजना में ऋण स्वीकृति के बाद उद्यमी को 3 से 10 दिन का उद्यमिता विकास प्रशिक्षण लेना आवश्यक होगा। उद्यमिता विकास कार्यक्रम में पूर्व से प्रशिक्षित हितग्राही को प्रशिक्षण की आवश्यकता नहीं होगी।

ब्याज की दर एवं ऋण अदायगी- उद्यमी से बैंक द्वारा ब्याज सामान्य दर से लिया जायेगा। आरंभिक स्थगन की अधिकतम अवधि 6 माह होगी। आरंभिक स्थगन के बाद ऋण अदायगी 3 से 7 वर्ष के बीच होगी।

समारोहपूर्वक शुभारंभ

संभागायुक्तों और जिला कलेक्टरों को मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना का समारोहपूर्वक शुभारंभ करने के निर्देश दिये गये हैं। प्रत्येक जिले में 8 से 15 अप्रैल 2013 तक योजना का समारोहपूर्वक शुभारंभ होगा। कार्यक्रम में जिले के प्रभारी मंत्री के साथ-साथ जिला पंचायत एवं जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक, जिले के अग्रणी बैंक प्रबंधक, सभी बैंकों के प्रतिनिधि तथा अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहेंगे।

3 फरवरी को बुरहानपुर से रामेश्वरम् जाएगी ट्रेन

Posted by mpsamachar On February - 2 - 2013Comments Off on 3 फरवरी को बुरहानपुर से रामेश्वरम् जाएगी ट्रेन

tirth-darsahan-yojnaमुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में 3 फरवरी को बुरहानपुर से रामेश्वरम् जाएगी ट्रेन। ट्रेन 8 फरवरी को लौटेगी। ट्रेन में जिला बुरहानपुर से 123, खण्डवा से 218, खरगोन से 312, बड़वानी से 231 और हरदा से 94 तीर्थ-यात्री जाएँगे।

1068 करोड़ के कार्य, अन्त्योदय मेला, मुख्यमंत्री, लोकार्पण

Posted by mpsamachar On January - 31 - 2013Comments Off on 1068 करोड़ के कार्य, अन्त्योदय मेला, मुख्यमंत्री, लोकार्पण

shivraj-singh-chouhan22मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पन्ना जिले की शाहनगर तहसील के बोरी ग्राम में अन्त्योदय मेले मे विभिन्न योजनाओं में 18 करोड़ से अधिक की सामग्री का वितरण किया। उन्होंने 631 करोड की लागत के 91 निर्माण कार्य का लोकार्पण तथा 437 करोड़ रुपये के 56 निर्माण कार्य का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने 357 करोड़ रुपये की लागत की मझगांय, 221 करोड़ की पवई, पतने तथा 261 करोड़ की लागत की रूंज परियोजनाओं को मंजूरी दी। उन्होंने लाड़ली लक्ष्मी योजना से लाभान्वित कन्याओं का पूजन किया। श्री चौहान ने आम जनता के बीच जाकर उनकी बात सुनी तथा आवेदन-पत्र प्राप्त किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पन्ना जिले का चहुँमुखी विकास किया जा रहा है। जिले के हर खेत में सिंचाई सुविधा के लिए सैकड़ों परियोजना लागू की गई हैं। उन्होंने कहा कि फीडर विभक्तिकरण का कार्य तेजी से किया जा रहा है। पन्ना जिले के ग्रामीणों को मई माह से 24 घण्टे बिजली की सुविधा मिलेगी। जिले में पाला से हानि का सर्वे कर पात्रता के अनुसार हर पाला पीड़ित किसान को उचित मुआवजा दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को रोजगार का अवसर देने के लिए कई सुविधाएँ दी जा रही हैं। शिक्षा ऋण पर 5 साल तक ब्याज और ऋण की गारंटी सरकार दे रही है। स्वरोजगार के लिए 25 लाख तक का ऋण दिया जा रहा है। युवाओं को 50 हजार तक के कर्ज पर मार्जिन मनी दी जाएगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मजदूर सुरक्षा, गाँव की बेटी, लाड़ली लक्ष्मी योजना तथा ग्रामीण विकास विभाग की योजनाओं की जानकारी देते हुए आम जनता से उनका लाभ उठाने की अपील की। उन्होंने कहा कि लोक सेवा गांरटी योजना से लोगों को समय पर सेवाएँ मिलने लगी हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटी को पूरा सम्मान और विकास के अवसर दिए जाए। बेटा-बेटी में कोई भेद न करें। उन्होंने कहा कि वृद्धजन के लिए मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना तथा बेसहारा वृद्धों के लिए निःशुल्क मध्यान्ह भोजन योजना शुरू की गई है।

श्री चौहान ने कहा कि जो आदिवासी 2005 के पहले से सरकारी भूमि पर काबिज हैं उन्हें वनाधिकार पट्टा दिया जाएगा। हर पात्र को इसका लाभ मिलेगा। सिंचाई परियोजना में जिनकी भूमि डूबी है उन्हें पूरा मुआवजा दिया जा रहा है।

कृषि तथा लोक सेवा प्रबंधन राज्य मंत्री श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि पवई क्षेत्र को मुख्यमंत्री ने कई सौगात दी हैं। समारोह में विधायक डॉ. राजेश वर्मा, अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती सुदामा बाई पटेल, बुन्देलखण्ड विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री बाबूलाल यादव, पूर्व विधायक श्री गोरेलाल, जन-प्रतिनिधि तथा हजारों आमजन उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री सागर में करेंगे ध्वजारोहण (गणतंत्र दिवस समारोह-2013)

Posted by mpsamachar On January - 24 - 2013Comments Off on मुख्यमंत्री सागर में करेंगे ध्वजारोहण (गणतंत्र दिवस समारोह-2013)

indian-flagराज्य शासन ने 26 जनवरी, 2013 गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण के लिये राज्य मंत्रि-परिषद के सदस्यों, विधानसभा अध्यक्ष, विधानसभा उपाध्यक्ष को जिलों का आवंटन कर दिया है। इस संबंध में आज जारी आदेश के अनुसार 16 जिलों में जिला कलेक्टर ध्वजारोहण करेंगे और मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान सागर में गणतंत्र दिवस समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहरायेंगे और परेड की सलामी लेंगे।

विधानसभा अध्यक्ष श्री ईश्वरदास रोहाणी जबलपुर और विधानसभा उपाध्यक्ष श्री हरवंश सिंह छिन्दवाड़ा में गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वजारोहण कर मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।

राज्य मंत्रि-परिषद के सदस्य श्री बाबूलाल गौर हरदा, श्री राघवजी विदिशा, श्री जयंत मलैया दमोह, श्री कैलाश विजयवर्गीय इंदौर, श्री गोपाल भार्गव नरसिंहपुर, श्री अनूप मिश्रा ग्वालियर, श्री सरताज सिंह होशंगाबाद, डॉ. नरोत्तम मिश्रा दतिया, कुँवर विजय शाह सीहोर, श्री जगदीश देवड़ा मंदसौर, श्री लक्ष्मीकांत शर्मा रायसेन, श्री नागेन्द्र सिंह नागौद सीधी, श्रीमती अर्चना चिटनीस बुरहानपुर, श्री जगन्नाथ सिंह सिंगरौली, डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया छतरपुर, श्री गौरीशंकर चतुर्भुज बिसेन बालाघाट, श्री उमाशंकर गुप्ता देवास, श्री करण सिंह वर्मा खण्डवा, श्रीमती रंजना बघेल धार, श्री पारस जैन उज्जैन और श्री राजेन्द्र शुक्ल रीवा जिला मुख्यालय पर गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वजारोहण कर मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।

राज्य मंत्री श्री नारायण सिंह कुशवाह मुरैना, श्री कन्हैयालाल अग्रवाल गुना, श्री हरिशंकर खटीक टीकमगढ़, श्री देवसिंह सैयाम डिण्डोरी, श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह पन्ना, श्री जयसिंह मरावी शहडोल, श्री महेन्द्र सिंह हार्डिया खरगोन, श्री नानाभाऊ मोहोड़ सिवनी और श्री मनोहर ऊँटवाल रतलाम जिला मुख्यालय पर गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वजारोहण कर मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।

जिला मुख्यालय अशोकनगर, उमरिया, कटनी, अनूपपुर, शिवपुरी, नीमच, श्योपुर, शाजापुर, बड़वानी, भिण्ड, बैतूल, झाबुआ, अलीराजपुर, सतना, राजगढ़ और मण्डला में जिला कलेक्टर ध्वजारोहण कर मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे।

मूल्य आधारित शिक्षा विश्व को बचा सकती है

Posted by mpsamachar On November - 26 - 2012Comments Off on मूल्य आधारित शिक्षा विश्व को बचा सकती है

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि मूल्य आधारित शिक्षा और आध्यात्म से ही विश्व को भौतिकवाद से उत्पन्न समस्याओं से बचा सकते हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मुख्यमंत्री निवास से मूल्य शिक्षा जागृति शोभा-यात्रा का शुभारंभ कर रहे थे। इस यात्रा का आयोजन ब्रह्माकुमारीज शिक्षा सेवा प्रभाग द्वारा किया गया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारत में हमेशा सर्वधर्म समभाव की बात कही गयी है। हर धर्म में मनुष्य निर्माण की शिक्षा दी गयी है। सभी धर्मों का सार दूसरों का भला करना है। शिक्षा का उद्देश्य ज्ञान, कौशल और नागरिकता के संस्कार देना है। जीवन का उद्देश्य स्पष्ट होना चाहिये। जीवन को अर्थपूर्ण कामों से सार्थक बना सकते हैं। विकास केवल भवनों, पुल, पुलियाओं का निर्माण करना नहीं है बल्कि इसमें मनुष्य का आध्यात्मिक विकास भी शामिल है। उन्होंने ‘बेटी बचाओ अभियान’ का उल्लेख करते हुए कहा कि बेटियों के प्रति समाज की सोच बदलना होगी। क्योंकि बेटी है तो सृष्टि है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में बेटियों के लिये कई अभिनव योजनाएँ शुरू की गयी हैं।

कार्यक्रम के आरंभ में सुश्री अवधेश बहनजी ने स्वागत भाषण दिया। भ्राता श्री मृत्युंजय ने कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने यात्रा का शुभारंभ हरी झंडी दिखाकर किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान तथा उनकी पत्नी श्रीमती साधना सिंह का सम्मान किया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी से जुड़े भाई-बहन उपस्थित थे।

दैनिक वेतनभोगियों के लिये स्थाई सेवा नियम बनेंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान

Posted by mpsamachar On October - 19 - 2012Comments Off on दैनिक वेतनभोगियों के लिये स्थाई सेवा नियम बनेंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि दैनिक वेतनभोगियों के लिये स्थाई सेवा नियम बनाये जायेंगे। भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए वर्ष 2020 में जल संसाधन विभाग को नया स्वरूप दिया जायेगा। श्री चौहान आज यहाँ स्थानीय समन्वय भवन में जल संसाधन विभाग के उत्कृष्टता सेवा पुरस्कार वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे।

सिंचाई क्षमता में अभूतपूर्व वृद्धि के लिये जल संसाधन विभाग ने उत्कृष्ट कार्य करने वाले अभियंताओं और कर्मचारियों को पुरस्कृत करने के लिये यह समारोह किया। मुख्यमंत्री ने सभी पुरस्कृत अभियंताओं, अधिकारियों-कर्मचारियों को उत्कृष्टता प्रमाण-पत्र एवं ट्राफी देकर सम्मानित किया।

राज्य स्तर पर पुरस्कृत दस अभियंता में प्रत्येक को 50 हजार रूपये, कछार स्तर के 42 अभियंता में प्रत्येक को 25 हजार और परियोजना मैदान स्तर के 255 अभियंता में प्रत्येक को 10 हजार की नगद राशि एवं प्रमाण-पत्र दिये गये। कुल 307 अभियंता/कर्मचारी को पुरस्कृत किया गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कृषि के क्षेत्र में अभूतपूर्व उपलब्धि का श्रेय जल संसाधन विभाग के उत्कृष्ट प्रदर्शन को जाता है। उन्होंने अभियंताओं से आग्रह किया कि वे सकारात्मक दृष्टिकोण और किसानों के हित में काम करें, सरकार उन्हें पूरा संरक्षण एवं प्रोत्साहन देगी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के विकास की तेज गति कम नहीं होगी। प्रदेश का विकास अब थम नहीं सकता। उन्होंने कहा कि प्रदेश के नागरिकों और किसानों की सेवा ही पहला कर्त्तव्य है। प्रत्येक भूमिका में जीवन अर्थपूर्ण और उद्देश्यपूर्ण होना चाहिये। उन्होंने कहा कि दृढ़ निश्चय और संवेदनशीलता से ही उपलब्धियाँ संभव हैं।

जल संसाधन विभाग को विकास की रीढ़ बताते हुए श्री चौहान ने कहा कि जल संसाधन के उत्कृष्ट प्रदर्शन और उपलब्धि से प्रदेश पानीदार हो गया है। उन्होंने कहा कि नर्मदा-क्षिप्रा परियोजना का शिलान्यास भी जल्दी किया जायेगा। श्री चौहान ने कहा कि ई-टेंडरिंग, ई-मेजरिंग और ई-पेमेंट जैसी सूचना प्रौद्योगिकी आधारित व्यवस्थाओं से प्रशासनिक और वित्तीय पारदर्शिता आई है।

जल संसाधन मंत्री श्री जयंत मलैया ने कहा कि अगले चार साल में 25 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई करने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि अभियंताओं के आत्म-विश्वास, क्षमता एवं प्रतिभा के बल पर यह लक्ष्य भी पूरा कर लिया जायेगा।

प्रमुख सचिव जल संसाधन श्री आर.एस. जुलानिया ने विभाग की रणनीति पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि नहरों को पूरी क्षमता के साथ चलाने से 20 साल में पहली बार अंतिम छोर के किसानों को पानी मिला। उन्होंने बताया कि अगले साल 21 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई का लक्ष्य रखा गया है। मुख्यमंत्री ने जल संसाधन विभाग के अभियंताओं एवं कर्मचारियों द्वारा किये गये उत्कृष्ट कार्यों को दर्शाने वाली स्मारिका उत्कृष्ट कार्य” का विमोचन किया।

प्रमुख सचिव नर्मदा विकास प्राधिकरण श्री रजनीश वैश, विश्व बैंक परियोजना के संचालक श्री मनीष सिंह, प्रमुख अभियंता जल संसाधन श्री एम.जी. चौबे एवं विभिन्न कछार के अभियंता उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा श्री सिंगाजी विद्युत ताप परियोजना का अवलोकन

Posted by mpsamachar On October - 18 - 2012Comments Off on मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा श्री सिंगाजी विद्युत ताप परियोजना का अवलोकन

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज खण्डवा जिले के ग्राम दोगलिया में श्री सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना की सभी इकाइयों का अवलोकन किया और कार्यों की विस्तार से समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि परियोजना के कार्यों को हर हालत में निर्धारित समय-सीमा के भीतर पूरा किया जाये। समीक्षा बैठक में बताया गया कि परियोजना की प्रथम इकाई 31 मार्च, 2013 तक तथा दूसरी इकाई 15 अगस्त, 2013 से 600-600 मेगावॉट बिजली का उत्पादन शुरू कर देंगी। इस अवसर पर ऊर्जा मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल, आदिम-जाति कल्याण मंत्री श्री विजय शाह तथा संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने बैतूल जिले के सारणी थर्मल पॉवर प्रोजेक्ट के कार्यों की भी समीक्षा की। समीक्षा में बताया गया कि इस प्रोजेक्ट की भी दोनों निर्माणाधीन इकाई जनवरी, 2013 और मई, 2013 से 500 मेगावॉट बिजली का उत्पादन शुरू कर देंगी। इस प्रकार सिंगाजी और सारणी परियोजना द्वारा वर्ष 2013 में 1700 मेगावॉट बिजली का उत्पादन शुरू हो जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सिंगाजी ताप विद्युत परियोजना के 400/200 के.व्ही. स्विच कन्ट्रोल-रूम का लोकार्पण तथा टर्बाइन यूनिट-1 के एल.पी. रोस्टर सेक्शन का भूमि-पूजन किया। सिंगाजी परियोजना का क्रियान्वयन मध्यप्रदेश पॉवर जनरेटिंग कम्पनी द्वारा दो चरण में किया जा रहा है। प्रथम चरण में 67 अरब 50 करोड़ रुपये की लागत से दो इकाइयों में 1200 मेगावॉट बिजली उत्पादन किया जायेगा।

अगले ओलम्पिक की तैयारियाँ अभी से शुरू हों : मुख्यमंत्री श्री चौहान

Posted by mpsamachar On October - 15 - 2012Comments Off on अगले ओलम्पिक की तैयारियाँ अभी से शुरू हों : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि वर्ष 2016 में होने वाले ओलिम्पक की तैयारियाँ अभी से होना चाहिये। केन्द्र सरकार और हॉकी इण्डिया की अनुमति होने पर हॉकी तैयारियों का पूरा आर्थिक भार मध्यप्रदेश लेने को तैयार है। श्री चौहान आज यहाँ ऐशबाग स्टेडियम में सीनियर नेशनल महिला हॉकी चेम्पियनशिप 2012 के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। प्रतियोगिता का आयोजन खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा किया गया है। उदघाटन मैच गुजरात और मध्यप्रदेश की महिला हॉकी टीम के बीच खेला गया। इस अवसर पर विधायक श्री विश्वास सारंग भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हॉकी भोपाल की शान है। यहाँ आयोजित होने वाले औबेदुल्ला गोल्ड कप हॉकी टूर्नामेंट को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का बनाने के प्रयास हो रहे हैं। आगामी दिसम्बर माह में आयोजित होने वाले टूर्नामेंट में विदेशी टीमों के शमिल होने की संभावना है।

श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार महिला हॉकी को प्रोत्साहन और सहयोग देने के लिये सदैव तत्पर है। महिला हॉकी को जब भी आर्थिक आवश्यकता का अनुभव हुआ प्रदेश सरकार ने आगे बढ़कर सहयोग किया है। आगे भी हॉकी के लिये बुनियादी सुविधाओं में धन की कमी को आड़े नहीं आने दिया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस अवसर पर प्रतियोगिता के उद्घाटन की औपचारिक घोषणा की। उन्होंने प्रतियोगिता के पहले मैच खेलने वाली गुजरात और मध्यप्रदेश की टीमों के खिलाड़ियों से परिचय भी प्राप्त किया।

कार्यक्रम के प्रारंभ में सचिव खेल एवं युवा कल्याण श्री अशोक शाह और संचालक खेल और युवा कल्याण श्री शैलेन्द्र श्रीवास्तव ने अतिथियों का स्वागत किया। प्रतियोगिता में आयीं टीमों ने मुख्यमंत्री के समक्ष मार्च पास्ट किया। सुश्री सुहासिनी जोशी ने वंदेमातरम् का गायन किया।

adhi mahotsav 2017 adhi mahotsav bhopal adhi mahotsav news bhopal haat bazaar top trifed bhopal आदि महोत्सव इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल भोपाल हाट मंत्रालय मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार राष्ट्रीय जनजातीय उत्सव रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर हत्या