19
April - 2018
Thursday
SUBSCRIBE TO NEWS
SUBSCRIBE TO COMMENTS

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गोहद में 37 करोड़ 72 लाख रूपए के निर्माण कार्यों का किया शिलान्यास और लोकार्पण

Posted by mpsamachar On February - 7 - 2013Comments Off on मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गोहद में 37 करोड़ 72 लाख रूपए के निर्माण कार्यों का किया शिलान्यास और लोकार्पण

gohadमुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज भिण्ड जिले के गोहद में जिला स्तरीय अन्त्योदय मेले में 37 करोड़ 72 लाख लागत के 103 निर्माण कार्य का शिलान्यास और लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने विभिन्न हितग्राहीमूलक योजनाओं के अन्तर्गत 4,941 हितग्राही को 3 करोड़ 61 लाख रुपये के चेक एवं रोजगारमूलक इकाइयों का वितरण भी किया। उन्होंने 571 किसान को 3 करोड़ 94 लाख 80 हजार रुपये के किसान क्रेडिट कार्ड भी वितरित किए। मुख्यमंत्री ने जिले के एण्डोरी को उप तहसील बनाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने मालनपुर को नगर पंचायत बनाने की घोषणा इस शर्त के साथ की कि अगर स्थानीय ग्राम पंचायत द्वारा इस बाबत् प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा, तो मालनपुर को नगर पंचायत बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने गोहद से मौ तक सड़क निर्माण और मुरार से चितौरा सड़क के निर्माण की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भिण्ड जिले में बनी नहरों का जिक्र करते हुए कहा कि पिछले 22 साल से जो नहरें सूखी पड़ी थी, आज उन नहरों के अंतिम छोर तक के किसानों को राज्य सरकार द्वारा पानी पहुँचाया जा रहा है। इससे उनकी फसलों का उत्पादन भी बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि इन नहरों को पक्का बनाने के लिए राज्य सरकार ने 167 करोड़ रुपये स्वीकृत किए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को बिजली के बिल की जरूरत नहीं होगी, सिंचाई के लिए अब राज्य सरकार ने 1,200 रुपये प्रति हॉर्स पावर के मान से किसानों के लिए बिजली की राशि का भुगतान निर्धारित कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा किसानों से 1500 रुपये प्रति क्विंटल के मान से गेहूँ की खरीदी की जाएगी। किसानों को खेती-बाड़ी में उन्नत तकनीक का इस्तेमाल करवाने के लिए मध्यप्रदेश के किसानों को विदेश भेजा जाएगा, जहाँ वे खेती-किसानी की उन्नत तकनीक से वाकिफ होंगे। उन्होंने ओला एवं पाले से प्रभावित फसलों का सर्वें करवाने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चम्बल के बीहड़ों में उद्योग खोले जाएंगेे। उद्योगपतियों के लिए यह शर्त रहेगी कि उन्हें 50 प्रतिशत रोजगार स्थानीय बेरोजगारों को उपलब्ध करवाना आवश्यक होगा। जो उद्योगपति 90 प्रतिशत स्थानीय बेरोजगार युवाओं को रोजगार देंगे, उन्हें उद्योग लगाने में प्राथमिकता दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने विभिन्न विभागों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। उन्होंने बेटियों के अभिभावकों को लाड़ली लक्ष्मी योजना के राष्ट्रीय बचत पत्र भी प्रदान किए।

समारोह में जिले के प्रभारी मंत्री एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री अनूप मिश्रा ने कहा कि अन्त्योदय मेलों के जरिए बड़ी संख्या में हितग्राहियों को हितग्राहीमूलक योजनाओं का लाभ मिल रहा है। कार्यक्रम में आदिम-जाति एवं अनुसूचित जाति कल्याण राज्य मंत्री श्री हरिशंकर खटीक, सांसद श्री अशोक अर्गल, विधायक सर्वश्री अरविन्द भदौरिया, राकेश शुक्ला एवं रणवीर सिंह जाटव, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मिथलेश सिंह कुशवाह, पूर्व सांसद श्री रामलखन सिंह तथा बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

1068 करोड़ के कार्य, अन्त्योदय मेला, मुख्यमंत्री, लोकार्पण

Posted by mpsamachar On January - 31 - 2013Comments Off on 1068 करोड़ के कार्य, अन्त्योदय मेला, मुख्यमंत्री, लोकार्पण

shivraj-singh-chouhan22मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पन्ना जिले की शाहनगर तहसील के बोरी ग्राम में अन्त्योदय मेले मे विभिन्न योजनाओं में 18 करोड़ से अधिक की सामग्री का वितरण किया। उन्होंने 631 करोड की लागत के 91 निर्माण कार्य का लोकार्पण तथा 437 करोड़ रुपये के 56 निर्माण कार्य का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने 357 करोड़ रुपये की लागत की मझगांय, 221 करोड़ की पवई, पतने तथा 261 करोड़ की लागत की रूंज परियोजनाओं को मंजूरी दी। उन्होंने लाड़ली लक्ष्मी योजना से लाभान्वित कन्याओं का पूजन किया। श्री चौहान ने आम जनता के बीच जाकर उनकी बात सुनी तथा आवेदन-पत्र प्राप्त किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पन्ना जिले का चहुँमुखी विकास किया जा रहा है। जिले के हर खेत में सिंचाई सुविधा के लिए सैकड़ों परियोजना लागू की गई हैं। उन्होंने कहा कि फीडर विभक्तिकरण का कार्य तेजी से किया जा रहा है। पन्ना जिले के ग्रामीणों को मई माह से 24 घण्टे बिजली की सुविधा मिलेगी। जिले में पाला से हानि का सर्वे कर पात्रता के अनुसार हर पाला पीड़ित किसान को उचित मुआवजा दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को रोजगार का अवसर देने के लिए कई सुविधाएँ दी जा रही हैं। शिक्षा ऋण पर 5 साल तक ब्याज और ऋण की गारंटी सरकार दे रही है। स्वरोजगार के लिए 25 लाख तक का ऋण दिया जा रहा है। युवाओं को 50 हजार तक के कर्ज पर मार्जिन मनी दी जाएगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मजदूर सुरक्षा, गाँव की बेटी, लाड़ली लक्ष्मी योजना तथा ग्रामीण विकास विभाग की योजनाओं की जानकारी देते हुए आम जनता से उनका लाभ उठाने की अपील की। उन्होंने कहा कि लोक सेवा गांरटी योजना से लोगों को समय पर सेवाएँ मिलने लगी हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटी को पूरा सम्मान और विकास के अवसर दिए जाए। बेटा-बेटी में कोई भेद न करें। उन्होंने कहा कि वृद्धजन के लिए मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना तथा बेसहारा वृद्धों के लिए निःशुल्क मध्यान्ह भोजन योजना शुरू की गई है।

श्री चौहान ने कहा कि जो आदिवासी 2005 के पहले से सरकारी भूमि पर काबिज हैं उन्हें वनाधिकार पट्टा दिया जाएगा। हर पात्र को इसका लाभ मिलेगा। सिंचाई परियोजना में जिनकी भूमि डूबी है उन्हें पूरा मुआवजा दिया जा रहा है।

कृषि तथा लोक सेवा प्रबंधन राज्य मंत्री श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि पवई क्षेत्र को मुख्यमंत्री ने कई सौगात दी हैं। समारोह में विधायक डॉ. राजेश वर्मा, अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती सुदामा बाई पटेल, बुन्देलखण्ड विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री बाबूलाल यादव, पूर्व विधायक श्री गोरेलाल, जन-प्रतिनिधि तथा हजारों आमजन उपस्थित रहे।

राज्यपाल ने किया बेबी केयर बेग वात्सल्य का लोकार्पण

Posted by mpsamachar On December - 15 - 2012Comments Off on राज्यपाल ने किया बेबी केयर बेग वात्सल्य का लोकार्पण

राज्यपाल श्री रामनरेश यादव ने आज यहाँ राजभवन में भारतीय रेड क्रॉस सोसायटी की नरसिंहपुर जिला शाखा द्वारा जिले में अटल बाल आरोग्य मिशन की अभिनव योजना गार्जियन बैंक’ के लिए तैयार किये गये बेबी केयर बेग-वात्सल्य’ का लोकार्पण किया। बेग में तीन वर्ष आयु तक के कुपोषित बच्चों के उपयोग के लिए बीस नग सामान हैं। इस अवसर पर रेडक्रॉस के प्रदेश अध्यक्ष श्री मुकेश नायक और नरसिंहपुर जिला शाखा सचिव श्री सी.बी.नेमा भी उपस्थित थे।

ज्ञातव्य है कि नरसिंहपुर जिले में कलेक्टर श्री संजीव सिंह ने अटल बाल आरोग्य मिशन में गार्जियन्स के नाम से अभिनव योजना शुरू की है। योजना में जिले में पदस्थ अधिकारी एवं अन्य संस्थानों के प्रमुखों द्वारा एक-एक बच्चा सांकेतिक रूप से गोद लिया गया है। सभी बच्चे तीन वर्ष की आयु तक के हैं और गंभीर रूप से कुपोषित हैं। बच्चों को गोद लेने वाले व्यक्तियों द्वारा बच्चों के कुपोषण निवारण के लिए सभी आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं।

गार्जियन्स बैंक में गोद लिये बच्चों के लिए भारतीय रेडक्रॉस सोसायटी की नरसिंहपुर जिला शाखा द्वारा एक बेबी केयर बेग तैयार किया गया है। इस बेग का नाम वात्सल्य’ रखा गया है। बेग सहित कुल वस्तु की संख्या 21 है। एक बेबी कंबल, दो जोड़ी सूती वस्त्र, एक स्वेटर, एक तौलिया, एक नेपकिन, एक नग ऊनी टोपा, एक जोड़ी मोजे, एक नग मच्छरदानी, पचास ग्राम की एक बोतल बेबी ऑयल लाल तेल, जॉन्सन बेबी पॉउडर का एक डिब्बा, एक नग जॉन्सन बेबी शॉप, पहनाने के लिए एक नग बेबी किट, बिछाने के लिए एक नग रबर की चादर, स्टील की एक-एक नग थाली, कटोरी, चम्मच और गिलास, पारले जी बिस्कुट के दो पैकेट, माँ के लिए एक ऊनी शाल तथा एक ऊनी कंबल, आदि सामान इन बेग में उपलब्ध है।

खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिये सिंचाई का रकबा बढ़ाया जायेगा

Posted by mpsamachar On November - 28 - 2012Comments Off on खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिये सिंचाई का रकबा बढ़ाया जायेगा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में खेती को फायदे का धंधा बनाने के लिये सिंचाई का रकबा बढ़ाया जायेगा। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में 5000 करोड़ लागत की 200 सिंचाई परियोजना पर तेजी से कार्य किया जा रहा है। श्री चौहान आज छतरपुर जिले के राजनगर में बरियारपुर बाँयी नहर सिंचाई परियोजना का लोकार्पण कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने जिले में 73 विकास कार्यों का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। रुपये 550 करोड़ की लागत की बरियारपुर बाँयी नहर परियोजना से जिले की 43 हजार 850 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो सकेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के हित में अनेक फैसले लिये हैं। किसानों को दिये जाने वाले ऋण की ब्याज दर 18 प्रतिशत से घटाकर जीरो प्रतिशत तक कर दी गई है। उन्होंने कहा कि 2013 से प्रदेश के प्रत्येक गाँव में 24 घंटे बिजली उपलब्ध होगी। श्री चौहान ने कहा कि छतरपुर में विश्वविद्यालय खोले जाने के प्रयास किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनगर में अगले शिक्षण सत्र से शासकीय महाविद्यालय प्रारंभ किया जायेगा। उन्होंने ग्राम डहर्रा में नल-जल योजना प्रारंभ करने, प्राथमिक विद्यालय को माध्यमिक विद्यालय के रूप में उन्नयन करने तथा पथरिया ग्राम में प्राथमिक विद्यालय को माध्यमिक विद्यालय के रूप में उन्नयन करने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बुन्देलखण्ड के विकास पर केन्द्रित ‘पहल’ पत्रिका एवं बेटी बचाओ अभियान पर केन्द्रित उड़ान पत्रिका का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री ने कन्याओं के पैर पूजन कर बेटी वाले दम्पत्तियों को सम्मानित किया।

अंत्योदय मेले में 22 हजार से अधिक हितग्राहियों को मिला लाभ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने राजनगर में अंत्योदय मेले में राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं में लाभान्वित 22 हजार 221 हितग्राहियों को 12 करोड़ 31 लाख रुपये की राशि वितरित की। मुख्यमंत्री ने राजनगर विकासखण्ड में 650 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया। समारोह में जल-संसाधन मंत्री श्री जयंत मलैया, किसान-कल्याण मंत्री डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया, अनुसूचित-जाति कल्याण राज्य मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री हरिशंकर खटीक, सांसद श्री जीतेन्द्र सिंह बुन्देला, विधायक सर्वश्री विक्रम सिंह नाती राजा, मानवेन्द्र सिंह, श्रीमती ललिता यादव, श्रीमती रेखा यादव, श्रीमती आशा रानी सिंह एवं पंचायत प्रतिनिधि मौजूद थे।

सहकारिता के भीतर सहकारिता का पहला प्रयोग मध्यप्रदेश में

Posted by mpsamachar On October - 10 - 2012Comments Off on सहकारिता के भीतर सहकारिता का पहला प्रयोग मध्यप्रदेश में

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने आज यहां विंध्य हर्बल’ एवं सांची’ उत्पादों के नये उत्पादों की श्रृंखला का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि वनोपज को वनौषधि में परिवर्तित करने और विंध्य हर्बल’ ब्रांड की बाजार में प्रभावी प्रस्तुति से उत्पादों का विस्तार होगा। साथ ही दूध उत्पादन बढ़ने के कारण नये उत्पादों को भी बाजार में उतारना जरूरी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के वनोपज संग्राहक आदिवासी परिवारों और दुग्ध उत्पादकों के व्यापक हित में सहकारिता के भीतर सहकारिता का जो प्रयोग प्रदेश में किया है वह अनोखा है। उन्होंने कहा कि इस पहल से स्वास्थ्य और रोजगार दोनों मिलेंगे।

श्री चौहान आज यहाँ विंध्या हर्बल’ उत्पादों की श्रृंखला का लोकार्पण कर रहे थे। यह आयोजन मध्यप्रदेश लघु वनोपज संघ और मध्यप्रदेश डेयरी फेडरेशन द्वारा संयुक्त रूप से किया गया था। इस अनूठी पहल के फलस्वरूपविन्ध्य हर्बल’ उत्पाद अब सांची पार्लर में भी उपलब्ध होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सहकारिता के भीतर सहकारिता’ के सिद्धांत को अमल में लाकर मध्यप्रदेश ने देश में एक अनूठा उदाहरण प्रस्तुत किया है। दो सहकारी संस्थाओं ने मिलकर यह अनूठा प्रयास किया है। इस संयुक्त प्रयास से प्रदेश के लाखों ग्रामीणों और वनवासियों को लाभ मिलेगा।

श्री चौहान नेे कहा कि आदिवासी परिवार वन संपदा के दोहन पर निर्भर रहते हैं। राज्य सरकार की जिम्मेदारी है कि कैसे उन्हें सर्वाधिक लाभ मिले। वन संपदा के उचित दोहन से ही यह संभव है। उन्होंने कहा कि वनोपजों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है। उन्होंने कहा कि वन संपदा और वनवासियों के बीच जो सहकारिता का संबंध होता है यदि वनवासी नहीं होंगे तो जंगल भी नहीं बचेंगे। श्री चौहान ने विंध्य हर्बल के उत्पादों की मार्केटिंग पर जोर देते हुये कहा कि गुणवत्ता से किसी भी प्रकार का समझौता नहीं किया जा सकता।

वन मंत्री श्री सरताजसिंह ने कहा कि विंध्य हर्बल उत्पादों के अंतर्राष्ट्रीय पहचान बनने की पूरी संभावना है। मार्केटिंग नेटवर्क बढ़ाने पर जोर देते हुये श्री सिंह ने कहा कि वनोपज आधारित आजीविका के साधन बढ़ाने के लिये वन संरक्षण भी जरूरी है।

पशुपालन मंत्री श्री अजय विश्नोई ने कहा कि पशु उपचार के लिये विंध्य हर्बल’के उत्पादों की पशुपालन विभाग द्वारा सीधे खरीदी की जायेगी। उन्होंने कहा कि सांची के 3700 मिल्क विक्रय केन्द्र हैं। इन्हीं का उपयोग विंध्य हर्बल के उत्पाद प्रदर्शित करने के लिये किया जायेगा। उन्होनें बताया कि सांची बूथ को नया आकर्षक रूप दिया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश लघु वनोपज संघ के लोगो (पहचान चिन्ह) और नये उत्पादों का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री ने डेयरी फेडरेशन की ओर से प्रदेश के नागरिकों के लिये एडवांस कार्ड’ को ऑन लाइन प्राप्त करने की सुविधा का लोकार्पण किया। पहला एडवांस कार्ड मुख्यमंत्री के नाम बनाया गया।

लघु वनोपज संघ के अध्यक्ष श्री विश्वास सारंग ने कहा कि लघु वनोपज संघ का इस साल तेंदू पत्ता व्यापार 650 करोड़ तक पहुँच गया है। उन्होंने बताया कि एकलव्य शिक्षा योजना अंतर्गत तेंदू पत्ता संग्रहण से जुड़े 3500 परिवारों के बच्चों को शिक्षा सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। उन्होंने कहा कि लघु वनोपज संग्राहकों का आर्थिक उत्थान ही संघ के व्यापार का एक मात्र उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि यह अनूठी पहल देश में अनूठी है।

विंध्य हर्बल उत्पादों में शहद, च्यवनप्राश, चरम शक्ति पोष्टिक चूर्ण, त्रिफला चूर्ण, मूसली चूर्ण, अर्जुन हर्बल चाय, ब्रम्ह पुष्पी सिरप, आंवला जूस, तुलसी सिरप, विंध्य पेन ऑयल, केशराज ऑयल और बाम शमिल है। इन उत्पादों को प्रदेश में ही स्थापित वनोषधी प्रसंस्करण केन्द्रों में ही तैयार किये गये हैं। पशुओं के स्वास्थ्य के लिये आठ उत्पादों की श्रृंखला शुरू की गयी है। विंध्य डायजेस्टो वेट चूर्ण, विंध्य कफ वेट चूर्ण, विंध्य एंटी डायरो वेट चूर्ण, विंध्य लैक्टो वेट चूर्ण, विंध्य सेप्टो वेट चूर्ण, विंध्य यूरिनो वेट टेबलेट, विंध्य हिंग्वाष्टक वेट चूर्ण, विंध्य डर्मो वेट चूर्ण शामिल हैं। श्री विश्वास सारंग ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह के रूप में नये उत्पाद भेंट किये।

इस अवसर पर राज्य वन मंत्री श्री जयसिंह मरावी, वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरूप्रसाद शर्मा, लघु वनोपज संघ के उपाध्यक्ष श्री महेश कोरी, संचालक श्री अमृत लाल साकेत, श्री रूमाल सिंह, दुग्ध महासंघ के प्रबंध संचालक श्रीमती सुधा चौधरी, लघु वनोपज संघ के प्रबंध संचालक श्री आर.एस. नेगी, डेयरी फेडरेशन के अध्यक्ष श्री सुभाष मांडगे, वरिष्ठ अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

adhi mahotsav 2017 adhi mahotsav bhopal adhi mahotsav news bhopal haat bazaar top trifed bhopal आदि महोत्सव इंदौर उज्जैन खण्डवा गुना ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट ग्वालियर चर्चा निधन पन्ना पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी बाबा रामदेव बैठक भेंट भोपाल भोपाल हाट मंत्रालय मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री निवास मुख्यमंत्री श्री चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मुलाकात युवा राज्यपाल राज्यपाल श्री राम नरेश यादव राज्य शासन राज्य सरकार राष्ट्रीय जनजातीय उत्सव रोजगार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग लोकार्पण विमोचन शुभारंभ श्री शिवराजसिंह चौहान श्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर हत्या